• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • गुजरात में ‘नो रिपीट’ फॉर्मूले का कई पूर्व मंत्रियों ने किया समर्थन, कुछ ने साधी चुप्पी

गुजरात में ‘नो रिपीट’ फॉर्मूले का कई पूर्व मंत्रियों ने किया समर्थन, कुछ ने साधी चुप्पी

गुजरात के 17वें मुख्‍यमंत्री भूपेंद्र पटेल.  (फाइल फोटो)

गुजरात के 17वें मुख्‍यमंत्री भूपेंद्र पटेल. (फाइल फोटो)

गुजरात (Gujarat) में 24 नये मंत्रियों को मंत्री पद की शपथ दिलाये जाने के एक दिन बाद पूर्ववर्ती विजय रूपाणी (Vijay Rupani) नीत मंत्रिपरिषद के सदस्य नाखुशी प्रकट करते नहीं नजर आ रहे. पूर्ववर्ती सरकार के किसी भी मंत्री को नव नियुक्त मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल (Chief Minister Bhupendra Patel) नीत मंत्रिपरिषद में जगह नहीं मिली है. पटेल ने दो दिन पहले रूपाणी की जगह ली.

  • Share this:

    अहमदाबाद. गुजरात (Gujarat) में 24 नये मंत्रियों को मंत्री पद की शपथ दिलाये जाने के एक दिन बाद पूर्ववर्ती विजय रूपाणी (Vijay Rupani) मंत्रिपरिषद में शामिल रहे सदस्यों की तरफ किसी प्रकार की नाराजगी की कोई खबर नहीं है. पूर्ववर्ती सरकार के किसी भी मंत्री को नव नियुक्त मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल (Chief Minister Bhupendra Patel) नीत मंत्रिपरिषद में जगह नहीं मिली है. पटेल ने दो दिन पहले रूपाणी की जगह ली. पूर्व मंत्रियों ने या तो चुप्पी साधे रखी है या भारतीय जनता पार्टी के शीर्ष नेतृत्व द्वारा अपनाए गए ‘नो रिपीट’ फार्मूले का समर्थन किया है.

    रूपाणी सरकार में उपमुख्यमंत्री रहे नितिन पटेल ने कहा कि पार्टी नेतृत्व ने गहरे विचार-विमर्श के बाद ही फैसला लिया होगा. उन्होंने कहा, ‘‘भाजपा के इतिहास में शायद यह पहली बार है कि इस तरह का कदम उठाया गया है जिसमें मुख्यमंत्री सहित हर किसी को बदल दिया गया. पार्टी नेतृत्व ने गुजरात के साथ यह बदलाव शुरू किया है. ’’ उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि यह देखा जाना बाकी है कि यह किस तरह से लोगों को प्रभावित करता है. नये मंत्री उनके सहकर्मी हैं और वह उन्हें बधाई देते हैं. हालांकि इस घटनाक्रम को लेकर भाजपा के किसी भी नेता ने नाखुशी प्रकट नहीं की है, ऐसे में यह जाहिर है कि सब कुछ ठीक नहीं है क्योंकि शपथ ग्रहण समारोह को एक दिन के लिए टालना पड़ा था.

    ये भी पढ़ें :  बर्थडे पार्टी में बुलाकर दोस्त का किया रेप, अब बेंगलूरू पुलिस ने कानपुर से किया गिरफ्तार

    ये भी पढ़ें :  महाराष्ट्र: पुरानी रंजिश को लेकर 7 मामलों में आरोपी 20 वर्षीय युवक की चाकू मारकर हत्या, 5 गिरफ्तार

    पार्टी सूत्रों ने कहा कि कुछ वरिष्ठ नेताओं ने उस वक्त नाखुशी प्रकट की थी जब उनसे कहा गया था कि उन्हें नयी मंत्रिपरिषद में जगह नहीं मिलेगी. हालांकि, कुछ राजनीतिक विश्लेषकों को लगता है कि खुल कर विरोध नहीं हो रहा है क्योंकि अतीत में जिन लोगों ने पार्टी के खिलाफ बगावत की है, जैसे कि पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल, उन्हें भाजपा के बाहर अपना प्रभाव स्थापित करने में सफलता नहीं मिली.

    यहां तक कि कांग्रेस से दलबदल करने के बाद पिछली सरकार में मंत्री बनाये गये कुंवरजी बावलिया जैसे नेताओं तक ने विरोध नहीं किया है. हालांकि, भाजपा के एक शीर्ष नेता ने कहा कि पार्टी ने हालिया स्थानीय निकाय चुनावों में अच्छा प्रदर्शन किया था क्योंकि उसने नये चेहरों को टिकट दिया था. उन्होंने कहा कि यह रणनीति फायदा पहुंचा सकती है क्योंकि यह सत्ता विरोधी लहर को मंद करती है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज