ब्‍लैक फंगस से देशभर में सबसे ज्‍यादा प्रभावित गुजरात, 2000 केस ने बढ़ाई टेंशन

ब्‍लैक फंगस से गुजरात देशभर में सबसे ज्‍यादा प्रभावित, 2000 केस ने बढ़ाई टेंशन

ब्‍लैक फंगस से गुजरात देशभर में सबसे ज्‍यादा प्रभावित, 2000 केस ने बढ़ाई टेंशन

केंद्र सरकार की ओर से जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक, गुजरात (Gujarat) में वर्तमान में 2,281 म्यूकोर्मिकोसिस (Mucormycosis) रोगी हैं- जो देश के किसी भी राज्य में सबसे अधिक है. ब्‍लैक फंगस (Black Fungus) से अब तक गुजरात में 250 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है.

  • Share this:

अहमदाबाद. कोरोना के कम होते मामलों के बीच म्यूकोर्मिकोसिस (Mucormycosis) यानी ब्‍लैक फंगस (Black Fungus) के मामले तेजी से आगे बढ़ रहे हैं. देश में ब्‍लैक फंगस से सबसे ज्‍यादा प्रभावित गुजरात (Gujarat) दिखाई दे रहा है. गुजरात में ब्‍लैक फंगस के 2000 से अधिक मामले सामने आ चुके हैं. कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच राज्‍य सरकार ने ब्‍लैक फंगस को महामारी घोषित कर दिया है.

केंद्र सरकार की ओर से जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक, गुजरात में वर्तमान में 2,281 म्यूकोर्मिकोसिस रोगी हैं- जो देश के किसी भी राज्य में सबसे अधिक है. इस बीमारी से अब तक गुजरात में 250 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है. मुख्यमंत्री विजय रूपाणी की अध्यक्षता में हुई कोर कमेटी की बैठक के बाद इस बीमारी को महामारी घोषित करने का निर्णय लिया गया. सरकार के इस फैसले के बाद ब्‍लैक फंगस बीमारी के लिए केंद्र सरकार और भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद यानी आईसीएमआर की गाइडलाइन का पालन करते हुए इलाज को आगे बढ़ाया जाएगा.


इसे भी पढ़ें :- Explained: क्या है वाइट फंगस, जिसे ब्लैक फंगस से भी खतरनाक माना जा रहा है?
ब्‍लैक फंगस के बढ़ते मामलों को देखते हुए अहमदाबाद, सूरत और राजकोट के सिविल अस्पतालों में विशेष वार्ड शुरू कर दिए गए है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक गुजरात में ब्‍लैक फंगस के मरीजों की संख्‍या इतनी बढ़ गई है अहमदाबाद सिविल अस्पताल के सभी बिस्तर भर चुके हैं. बता दें कि अहमदाबाद सिविल अस्पताल, एसएसजी अस्पताल और वडोदरा में जीएमईआरएस गोत्री और राजकोट के पीडीयू अस्पताल में इस समय ब्‍लैक फंगस के 980 मरीजों का इलाज चल रहा है.

इसे भी पढ़ें :- ब्लैक फंगस-व्हाइट फंगस: जानें कारण, लक्षण और उपचार के तरीके

राजस्‍थान में ब्‍लैक फंगस के 700 से अधिक केस आए सामने



राजस्थान में कोरोना वायरस के मामले कम होने लगे हैं तो अब ब्लैक फंगस ने नई परेशानी खड़ी कर दी है. सरकारी रिपोर्ट के अनुसार अब तक यहां 700 से अधिक मामले सामने आ चुके हैं. प्रदेश के सबसे बड़े एसएमएस अस्पताल में 80 से अधिक ब्लैक फंगस के मरीजों का इलाज चल रहा है. खास बात यह है कि एसएमएस अस्पताल की ईएनटी डॉक्टरों की टीम लगातार मरीजों के ऑपरेशन में जुटी हुई है. ब्लैक फंगस के मामलों में तेजी से बढ़ोतरी देखी जा रही है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज