गुजरात: BJP की पहली सूची कल, जानिए क्‍यों डर रहे हैं विधायक

News18.com
Updated: November 14, 2017, 7:39 PM IST
गुजरात: BJP की पहली सूची कल, जानिए क्‍यों डर रहे हैं विधायक
[मोदी ने 2007 में गुजरात में बीजेपी के 47 मौजूदा विधायकों का टिकट काट दिया था]
News18.com
Updated: November 14, 2017, 7:39 PM IST
गुजरात विधान सभा चुनाव के लिए बीजेपी बुधवार को उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी कर सकती है. दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के नेतृत्व में चुनाव समिति की बैठक होने वाली है. ऐसे में बीजेपी के मौजूदा विधायको की सांसें अटकी हुई है. उन्हें डर है कि कहीं उनकी टिकट ना कट जाए.

गुजरात विधानसभा चुनाव में लड़ाई सीधे सीधे बीजेपी और कांग्रेस के बीच है. चुनाव प्रचार चरम पर है. बीजेपी और कांग्रेस के शीर्ष नेता चुनाव प्रचार में सब कुछ झोंक दी है. लेकिन इन सब के बीच बीजेपी के मौजूदा विधायकों में एक खामोशी है, एक डर है, एक संशय है. ये डर, खुद के टिकट के कट जाने का है. मौजूद विधायकों में कइयों को ये डर सता रहा है कि कहीं उनका टिकट ही ना कट जाए.

पार्टी के कई मौजूदा विधायकों को डर है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह सरकार विरोधी लहर से निपटने के लिए टिकटों के बंटवारे में अपना जांचा-परखा फॉर्मूला आजमा सकते हैं. यानी मोदी अमित शाह अपने फॉर्मूले पर कायम रहे तो कई विधायको की टिकट कट जाएगी.

मोदी ने 2007 में गुजरात में बीजेपी के 47 मौजूदा विधायकों का टिकट काट दिया था. हालांकि, 2012 में टिकट काटे जाने वाले विधायकों का आंकड़ा घटकर 30 पर पहुंच गया. जाहिर तौर पर केशुभाई पटेल की गुजरात परिवर्तन पार्टी की तरफ से उभरी चुनौतियों के मद्देनजर ऐसा हुआ था.


2002 में जब मोदी ने पहली बार मुख्यमंत्री के तौर पर बीजेपी की अगुवाई की थी, तो उस वक्त बीजेपी के 121 मौजूदा विधायकों में से 18 का टिकट काटा गया था. बीजेपी का कहना है कि परफॉरमेंस और काम काज टिकट वितरण का मापदंड तो होगा ही.

हालिया राजनीतिक घटनाक्रम में भले ही अब केशुभाई तो बीजेपी के लिए राजनीतिक खतरा नहीं हैं, लेकिन हार्दिक पटेल, अल्पेश ठाकोर, जिग्नेश के साथ कांग्रेस की जुगलबंदी बड़ी चुनौती पेश कर सकती हैं.

ये भी पढ़ें: निकाय चुनाव में बीजेपी ने विपक्षियों को रणनीति बदलने पर किया मजबूर

BJP MP ने लिखा- राहुल गांधी की धर्मनिरपेक्षता कहीं वेश्या जैसी तो नहीं?
First published: November 14, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर