होम /न्यूज /राष्ट्र /Gujarat Election: गोधरा में मुस्लिम वोटबैंक के सहारे AIMIM ने किया जीत का दावा, जानें क्या कहता है इस सीट का समीकरण

Gujarat Election: गोधरा में मुस्लिम वोटबैंक के सहारे AIMIM ने किया जीत का दावा, जानें क्या कहता है इस सीट का समीकरण

गुजरात: गोधरा विधानसभा चुनाव में AIMIM के उम्मीदवार उतारने के बाद दिलचस्प हुआ यहां का मुकाबला (FILE Photo)

गुजरात: गोधरा विधानसभा चुनाव में AIMIM के उम्मीदवार उतारने के बाद दिलचस्प हुआ यहां का मुकाबला (FILE Photo)

Gujrat Assembly Election: गुजरात चुनाव को लेकर सभी पार्टियां अपनी दावेदारी ठोक रही हैं. नेता, कार्यकर्ता गली चौराहों मे ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

गोधरा में पैठ मजबूत करने की कोशिश में ओवैसी की पार्टी
AIMIM के उम्मीदवार उतारने के बाद दिलचस्प हुआ यहां का मुकाबला
AIMIM ने हसन शब्बीर को बनाया है अपना उम्मीदवार

गोधरा: गुजरात में चुनावी सरगर्मियां तेज हैं. सभी पार्टियों के नेता चुनाव प्रचार में जुटे हुए हैं. सभी पार्टियां अलग-अलग क्षेत्रों में अपना गढ़ मजबूत करने में जुटी हुई हैं. सांप्रदायिक रूप से संवेदशील माने जाने वाले गुजरात के गोधरा में ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) इस बार के विधानसभा चुनाव में अपनी सियासी जमीन को मजबूत करने की कोशिश में है, क्योंकि पिछले साल के निकाय चुनाव में उसने यहां असरदार दस्तक दी थी. असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी को उम्मीद है कि इस चुनाव में मुस्लिम मतदाताओं का भरपूर समर्थन मिलेगा और अन्य उम्मीदवारों के बीच मतों का बंटवारा होगा जिससे उनकी राह आसान हो सकती है.

AIMIM ने पिछले साल हुए गोधरा नगरपालिका के चुनाव में सात सीटें हासिल की थीं और भाजपा को निकाय की सत्ता से दूर रखने के लिए निर्दलियों के साथ समझौता भी किया था. ओवैसी की पार्टी के समर्थन से निर्दलीय संजय सोनी फरवरी, 2021 में नगरपालिका के अध्यक्ष बने, लेकिन पिछले साल नवंबर में भाजपा का समर्थन मिलने के बाद उन्होंने AIMIM का साथ छोड़ दिया.

गोधरा से हसन शब्बीर हैं AIMIM उम्मीदवार
इस बार गोधरा विधानसभा सीट पर एआईएमआईएम अपनी पकड़ को मजबूत बनाने और जीतने की कोशिश कर रही है. फिलहाल यहां से भाजपा का विधायक है. साल 2002 में ट्रेन की बोगी में आग लगाए जाने की घटना के बाद पूर्वी गुजरात के पंचमहल जिले का यह कस्बा सुर्खियों में आया था. उस घटना में 59 कारसेवकों की मौत हुई थी, जिसके बाद पूरे प्रदेश में हिंसा हुई, जिससे 1000 से अधिक लोग मारे गए थे.

गोधरा गुजरात की उन 14 विधानसभा सीटों में से एक है जहां AIMIM इस बार चुनाव लड़ रही है. ओवैसी ने यहां से अपने उम्मीदवार हसन शब्बीर कच्बा के समर्थन में एक बड़ी सभा को संबोधित किया था. भाजपा ने यहां अपने वर्तमान विधायक सीके राउलजी को टिकट दिया है. कांग्रेस ने रश्मिताबेन चौहान और आम आदमी पार्टी ने राजेश भाई पटेल को उम्मीदवार बनाया है.

AIMIM के पार्षदों ने लगाया यह आरोप
AIMIM के पार्षदों का आरोप है कि गोधरा की मुस्लिम बहुल बस्तियों को विकास से उपेक्षित रखा गया था तथा लोगों को सड़क, साफ-सफाई और पानी की बुनियादी सुविधाएं नहीं मिल पा रही थीं. पार्षद फैसल सुलेजा कहते हैं, ‘पहले, विकास हुआ है, लेकिन सिर्फ 50 प्रतिशत इलाके में. यह दूसरी तरफ (हिंदू और अन्य समुदायों की आबादी वाले इलाके) में हुआ है.’

AIMIM के एक अन्य पार्षद इसहाक एम गनचीभाई कहते हैं कि उनकी पार्टी के पार्षदों ने यह सुनिश्चित किया कि विकास का पैसा समान रूप से सभी इलाकों को मिले. गोधरा विधानसभा में करीब 2,79,000 मतदाता हैं जिनमें 72,000 मुस्लिम हैं. गनचीभाई का कहना है कि अगर मुस्लिम मतदाताओं ने एकमुश्त समर्थन कर दिया तो बहुकोणीय मुकाबले में AIMIM की जीत पक्की है. हालांकि, निकाय चुनाव निर्दलीय लड़ चुकीं सोफिया अनवा जमाल का कहना है कि AIMIM सिर्फ वोटों का बंटवारा करेगी जिसका फायदा आखिरकार भाजपा को होगा.

Tags: AIMIM, Asaduddin owaisi, Assembly election, Gujarat Elections

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें