Home /News /nation /

गुरुग्राम: खुले में नमाज के विरोध में माइक लेकर पहुंच गए लोग, गाने लगे भजन

गुरुग्राम: खुले में नमाज के विरोध में माइक लेकर पहुंच गए लोग, गाने लगे भजन

सेक्टर 47 में जगह को उन 37 स्थलों की सूची में शामिल किया गया है, जहां खुले में नमाज पढ़ी जा सकती है. (सांकेतिक तस्वीर: Shutterstock)

सेक्टर 47 में जगह को उन 37 स्थलों की सूची में शामिल किया गया है, जहां खुले में नमाज पढ़ी जा सकती है. (सांकेतिक तस्वीर: Shutterstock)

Gurgaon Prayer Issue: सेक्टर 47 की इस जगह को उन 37 स्थलों की सूची में शामिल किया गया है, जहां लोग जुमे की नमाज पढ़ सकते हैं. हालांकि शुक्रवार को करीब 12:40 बजे वहां पर कुछ लोग माइक लेकर पहुंच गए और भजन गाना शुरू कर दिया.

    गुरुग्राम. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से सटे गुरुग्राम के सेक्टर 47 (Gurgaon Sector 47) में खुले पार्क पर नमाज पढ़ने को लेकर रहवासियों का विरोध जारी है. शुक्रवार को लगातार दूसरे सप्ताह लोगों ने नमाज पढ़ने का विरोध किया. इस दौरान लोगों ने मौके पर जुटकर माइक और स्पीकर के सहारे भजन गाए और सरकार के खिलाफ नारे लगाए. हालात की गंभीरता के मद्दनेजर मौके पर भारी पुलिस बल भी तैनात रहा है. खबर है कि हाथों में तख्तियां लेकर करीब 70-80 लोग इसका विरोध कर रहे थे.

    इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, विरोध प्रदर्शन कर रहे 70-80 लोगों ने मौके पर पहुंचने की कोशिश की. इन्हें रोकने के लिए पुलिस ने घेराबंदी का सहारा लिया. एसीपी सदर अमन यादव ने कहा कि पुलिस ने इससे पहले मुस्लिम समुदाय के लोगों से विरोध से बचने के लिए सुभाष चौक के जरिए स्थल पर जाने के लिए कहा था. उन्होंने जानकारी दी, ‘नमाज शांति से पढ़ी गई. बीते हफ्ते हमने दोनों समुदायों के प्रतिनिधियों के सात बैठक की थी और हम मामले को सुलझाने की कोशिश कर रहे हैं.’

    शुक्रवार को करीब 12:40 बजे स्थल के पास रहवासी इकट्ठे हो गए और उन्होंने भजन गाने शुरू कर दिए. इस दौरान उन्होंने खुली जगह पर नमाज पढ़ने से रोकने में असफल होने पर सरकार के खिलाफ नारेबाजी भी की.

    क्या है मामला
    सेक्टर 47 की इस जगह को उन 37 स्थलों की सूची में शामिल किया गया है, जहां लोग जुमे की नमाज पढ़ सकते हैं. रिपोर्ट के अनुसार, वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों का कहना है कि शहरवासियों को इस बारे में सूचित कर दिया गया था कि यह उन 37 स्थलों की सूची में शामिल है, जिन्हें जिला प्रशासन ने 2018 में मुस्लिम समुदाय के प्रतिनिधियों के साथ चर्चा के बाद नमाज पढ़ने के लिए तय किया गया था. रहवसियों ने दावा किया है कि यह व्यवस्था स्थाई नहीं थी और अनुमति केवल एक ही दिन के लिए दी गई थी.

    तीन सालों से यहां नमाज पढ़ने आ रहे तौफीक का कहना है, ‘बीते कुछ हफ्तों में ही यह एक मुद्दा बना है. कुछ लोग जो इससे सियासी फायदा उठाने की कोशिश कर रहे हैं, वे हंगामा खड़ा कर रहे हैं.’ गुड़गाव नागरिक एकता मंच ने इस महीने पुलिस आयुक्त को एक पत्र सौंपा था, जिसमें दावा किया गया था कि बीते कुछ महीनों में तीन सेक्टर्स में नमाज स्थल बंद हो गए हैं.

    Tags: Namaz, Sector 47, गुड़गांव

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर