लाइव टीवी
Elec-widget

गुरु नानक जयंती : आसमान में दिखा अद्भुत नजारा, ड्रोन से बनाया 'इक ओंकार'

News18Hindi
Updated: November 13, 2019, 10:08 AM IST
गुरु नानक जयंती : आसमान में दिखा अद्भुत नजारा, ड्रोन से बनाया 'इक ओंकार'
सुल्तानपुर लोधी में ड्रोन की मदद से इक ओंकार की आकृति बनाई गई.

ड्रोन (Drones) को आसमान में कुछ इस तरह से उड़ाया गया था कि वह इक ओंकार (Ik Onkar) जैसी पवित्र आकृति बना रहा था. बता दें कि इक ओंकार सिख धर्म का बेहद पवित्र शब्द है, जिसका अर्थ है 'परम शक्ति एक ही है'.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 13, 2019, 10:08 AM IST
  • Share this:
लुधियाना. गुरु नानक देवजी (Guru Nanak Devji) की 550वीं जयंती के मौके पर सुल्तानपुर लोधी (Sultanpur Lodhi) में मंगलवार रात अद्भुत नजारा देखने को मिला. आसमान में ड्रोन (Drone) की मदद से इक ओंकार (Ik Onkar) की आकृति बनाई गई थी, जिसे देखकर हर कोई हैरान था. इस शानदार नजारे को दिखाने के लिए दर्जनों ड्रोन का इस्तेमाल किया गया था. ड्रोन को आसमान में कुछ इस तरह से उड़ाया गया कि वह इक ओंकार जैसा दिखाई दे रहा था. बता दें कि इक ओंकार सिख धर्म का बेहद पवित्र शब्द है, जिसका अर्थ है 'परम शक्ति एक ही है'.

सुल्तानपुर लोधी में मंगलवार को गुरु नानक देव के दर्शन, उनके जीवनकाल की घटनाओं और शिक्षाओं पर आधारित एक ‘लाइट एंड साउंड’ कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया था. इस मौके पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद भी सुल्तानपुर लोधी के दौरे पर पहुंचे. इस खास मौके पर राष्ट्रपति कोविंद ने ट्वीट करते हुए लिखा, आज के दिन सुल्तानपुर लोधी में होना बड़े सौभाग्य की बात है. यही वह भूमि है जहां श्री गुरु नानक देव जी को ज्ञान प्राप्त हुआ. इस क्षेत्र में गुरु नानक देव जी की आध्यात्मिक यात्रा से जुड़े पवित्र स्थान मौजूद हैं.



उन्होंने लिखा कि गुरु नानक देव जी ने बराबरी, भाईचारा, नेकी और सदाचार की सीख देकर लोगों को जात-पांत और कर्मकांड से मुक्त करने का प्रयास किया. इस पवित्र मौके पर रात के समय प्रकाश उत्सव का आयोजन किया गया. इस दौरान आसमान में दर्जनों ड्रोन एक साथ उड़े और इक ओंकार की आकृति बनाई.
Loading...

इसे भी पढ़ें :- करतारपुर कॉरिडोर के शुरू होने पर पाकिस्‍तानी ड्राइवर ने जीता दिल

गुरु नानक देव ने सुल्तानपुर लोधी में 14 साल बिताए थे और आत्मज्ञान प्राप्त किया था. ऐसा माना जाता है कि गुरु नानक देव ‘काली बेईं’ में स्नान करते थे और फिर एक ‘बेर’ वृक्ष के नीचे ध्यान लगाते थे. हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर और हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने भी यहां के ऐतिहासिक सिख तीर्थस्थल पहुंचकर दर्शन किए.

इसे भी पढ़ें :- 550वां प्रकाश पर्व: गुरु नानक जयंती मनाने सुल्तानपुर लोधी पहुंचे लाखों श्रद्धालु

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 13, 2019, 9:38 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...