गुरुग्रामः गोली मारने के बाद कॉन्सटेबल ने जज की पत्नी को लात-घूंसों से मारा, गालियां भी दी

बताया जा रहा है कि आरोपी कुछ दिनों से छुट्टी की मांग कर रहा था लेकिन हर बार उसे इसके लिए मना कर दिया जाता था. जांच में जुटे एक अधिकारी ने बताया कि जज अक्सर उसे डांटते रहते थे.

News18Hindi
Updated: October 14, 2018, 8:50 AM IST
गुरुग्रामः गोली मारने के बाद कॉन्सटेबल ने जज की पत्नी को लात-घूंसों से मारा, गालियां भी दी
गोली चलाने के बाद जज के नाबालिग बेटे को घसीटता दिख रहा गार्ड
News18Hindi
Updated: October 14, 2018, 8:50 AM IST
गुरुग्राम के आर्केडिया मार्केट में शनिवार की शाम आम नहीं थी. लोग सामान्य वीकेंड की तरह शॉपिंग करने निकले थे लेकिन अचानक वहां गोलियां चलने लगी जिससे वहां डर का माहौल पैदा हो गया. कई लोग चीखते-चिल्लाते दिखे तो कुछ एक-दूसरे से पुलिस बुलाने को कहते दिखे. सिर्फ एक आदमी था जिसे इन सबसे कोई फर्क नहीं पड़ रहा था. वह था 38 साल का कॉन्स्टेबल महिपाल जिसने एडिशनल सेशन जज की पत्नी और बेटे पर गोली चलाई थी.

आरोपी ने न सिर्फ जज कृष्ण कांत की पत्नी और बेटे पर गोली चलाई बल्कि उसने दोनों पर लात-घूंसे भी चलाए. एक सीसीटीवी फुटेज में वह जज के नाबालिग बेटे को बेरहमी से घसीटते दिख रहा है. प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, कांत कि पत्नी ऋतु पर गोली चलाने के बाद महिपाल ने उसे लात से कई बार मारा. जब बेटे ध्रुव ने उसे रोकने की कोशिश की तो महिपाल ने उस पर बंदूक तान दी और उस पर तीन गोलियां चलाई. बता दें कि महिपाल की तैनाती जज और उनके परिवार की सिक्योरिटी में की गई थी.

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि महिपाल ने पास ही मौजूद पुलिस के दल पर भी गोली चलाई लेकिन उसका निशाना चूक गया. पुलिस के मुताबिक आरोपी बार-बार कह रहा है कि उस पर भूत सवार था.

गुरुग्राम: दिनदहाड़े एडिशनल सेशन जज की बीवी-बेटे को मारी गोली, सरकारी गनर गिरफ्तार

पुलिस कमिश्नर केके राव ने इस संबंध में अखबार से कहा, "आरोपी मानसिक रूप से स्थिर नहीं लग रहा है. हम उसका मेडिकल कराने पर विचार कर रहे हैं." महिपाल के खिलाफ सेक्टर 50 पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज किया गया है.

पुलिस ने बताया कि शनिवार शाम करीब साढ़े तीन बजे मां-बेटे शॉपिंग के लिए आर्केडिया मार्केट गए थे. पुलिस के मुताबिक महिपाल ने स्वीकार किया है कि वह काफी परेशान था और दिनभर परिवार के इशारे पर इधर-उधर भागना उसे पसंद नहीं था. उसने कहा कि उसे लगता है कि घटना के वक्त उस पर बुरे साए का असर था.

मिली जानकारी के मुताबिक, वह कुछ दिनों से छुट्टी की मांग भी कर रहा था लेकिन उसे छुट्टी नहीं मिल रही थी. इस वजह से भी हो सकता है कि वह परेशान रहा हो. जांच में जुटे एक अधिकारी ने बताया कि जज अक्सर उसे डांटते रहते थे.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर