हार्दिक 9 महीने बाद जेल से रिहा, तड़ीपार होकर भी बीजेपी के लिए बनेंगे 'मुसीबत'

करीब 9 महीने के बाद पाटीदार आरक्षण के अगुआ हार्दिक पटेल से सूरत जेल से रिहा हो गए। इसको देखते हुए प्रशासन ने सूरत में सुरक्षा के कड़े इंतजाम कर दिए हैं और धारा 144 लागू कर दी है।

News18India.com
Updated: July 15, 2016, 1:10 PM IST
News18India.com
Updated: July 15, 2016, 1:10 PM IST
सूरत। करीब 9 महीने के बाद पाटीदार आरक्षण के अगुआ हार्दिक पटेल से सूरत जेल से रिहा हो गए। इसको देखते हुए प्रशासन ने सूरत में सुरक्षा के कड़े इंतजाम कर दिए हैं और धारा 144 लागू कर दी है। जेल से रिहा होने के बाद हार्दिक पटेल ने कहा है कि वह पूूरे देश का दौरा करेंगे। साथ ही उनके समर्थकों व परिवार के सदस्यों ने सूरत जेल के बाहर आतिशबाजी और नारेबाजी करके हार्दिक पटेल का स्वागत किया।

बता दें कि इससे पहले गुजरात हार्ई कोर्ट ने 11 जुलाई को हार्दिक पटेल को उनके खिलाफ दायर आखिरी मामले में भी जमानत दे दी थी। इसके साथ ही करीब 9 माह तक जेल में रहने के बाद उनकी रिहाई की जमीन तैयार हो गई थी।

हार्दिक को राजद्रोह के दो मामलों और आरक्षण आंदोलन के दौरान विसनगर के बीजेपी विधायक हृषिकेश पटेल के कार्यालय एवं सरकार की अन्य संपत्तियों पर हमला करने के मामले में जमानत मिल चुकी है। हार्दिक ने विसनगर अदालत के जमानत देने से इनकार करने को हाई कोर्ट में चुनौती दी थी। इस अपील पर 11 जुलाई को सुनवाई हुई।

23 वर्षीय पटेल नेता को इस शर्त पर जमानत मिली थी कि वह छह माह तक गुजरात से दूर रहेंगे। पाटीदार अनामत आंदोलन समिति (पीएएएस) ने दावा किया कि पटेल संभवत: अगले छह माह तक उत्तर प्रदेश में रहेंगे जहां विधानसभा चुनाव होने हैं। देश की सर्वाधित आबादी वाले राज्य उत्तर प्रदेश में कुर्मी को गुजरात के पटेलों के बराबर माना जाता है और वे चुनावी दृष्टि से महत्वपूर्ण माने जाते हैं।

((आईएएनएस के साथ))
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर