गुवाहाटी पुलिस की बड़ी कामयाबी, उल्फा के लिए भर्तियां करने वाला स्लीपर सेल गिरफ्तार

पकड़े गए सीलर सेल के सोशल मीडिया अकाउंट से पता चला है कि वह हमले के दौरान कुछ उल्फा नेताओं के संपर्क में भी था.

News18Hindi
Updated: May 18, 2019, 3:44 AM IST
गुवाहाटी पुलिस की बड़ी कामयाबी, उल्फा के लिए भर्तियां करने वाला स्लीपर सेल गिरफ्तार
उल्फा के लिए भर्तियां करने वाला स्लीपर सेल गिरफ्तार
News18Hindi
Updated: May 18, 2019, 3:44 AM IST
गुवाहाटी पुलिस को ज़ू रोड पर मॉल के बाहर किए गए ग्रेनेड हमले की जांच में बड़ी कामयाबी हाथ लगी है. पुलिस ने उल्फा के लिए भर्तियां करने वाले स्लीपर सेल को गिरफ्तार कर लिया है. उल्फा के इसी स्लीपर सेल ने हमले से पहले मॉल के बाहर रेकी की थी. पकड़े गए सीलर सेल के सोशल मीडिया अकाउंट से पता चला है कि वह हमले के दौरान कुछ उल्फा नेताओं के संपर्क में भी था.

जानकारी के अनुसार गुवाहाटी में दो दिन पहले हुए ग्रेनेड हमले की जांच कर रही पुलिस ने नागांव से उल्फा के स्लीपर सेल को गिरफ्तार किया है. इंद्र मोहन बोरा नामके स्लीपर सेल ने कबूल किया है कि वह लगातार उल्फा नेताओं के संपर्क में है. स्लीपर सेल ने बताया कि हमले को अंजाम देने से पहले वह कई बार मॉल के आसपास जाता रहा और उसे वहां की रेकी की. गौरतलब है कि गुवाहाटी पुलिस ने गुरुवार को भी उल्फा स्लीपर सेल के एक सदस्य और एक महिला को गिरफ्तार किया था. हमले में दो पुलिसकर्मियों समेत 12 लोग घायल हो गए थे. पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार की गई लेखिका और अभिनेत्री जहनबी सैकिया है. पुलिस ने आशंका जताई थी कि बुधवार देर शाम उग्रवादियों ने पेट्रोलिंग पार्टी को निशाना बनाकर हमला किया था.



इसे भी पढ़ें :- गुवाहाटी ग्रेनेड ब्लास्ट: उल्फा स्लीपर सेल का एक सदस्य और एक लेखिका गिरफ्तार

गुवाहाटी के पुलिस आयुक्त दीपक कुमार ने बताया कि पंजबाड़ी में जहनबी सैकिया के किराये के घर से 20 किग्रा गनपाउडर, एक 9 मिमी पिस्टल, 25 कारतूस के अलावा उल्फा से जुड़ा साहित्य बरामद किया गया है. इसके अलावा उग्रवादी संगठन उल्फा के स्लीपर सेल के सदस्य प्रणमय राजगुरु को भी गिरफ्तार किया गया है. राजगुरु ने ज़ू रोड स्थित मॉल पर हमले के लिए पूरा सामान जुटाया था.

उल्फा ने हमले के तुरंत बाद ले ली थी जिम्मेदारी
बताया जा रहा है कि उल्फा सरगना परेश बरुआ ने हमले के कुछ समय बाद ही जिम्मेदारी ले ली थी. लेकिन, पुलिस ने गिरफ्तारी और बरामदगी से पहले चुप्पी साध रखी थी. पुलिस आयुक्त ने बताया कि राजगुरु 1986 में ही उग्रवादी संगठन में शामिल हो गया था. जहनबी सैकिया ने पंजबाड़ी का घर किराये पर लिया था. वे 1 मई को इस घर में शिफ्ट हुए थे. वे बार-बार अपने ठिकाने बदलते रहते हैं.

ये भी पढ़ें:
Loading...

पहली ही कोशिश में एनसीजी कमांडो ने फतह किया माउंट एवरेस्ट

वंदेभारत एक्सप्रेस ने पूरा किया 1 लाख किमी का सफर, एक भी दिन नहीं किया आराम

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार