‘हनीट्रैप’ में फंसकर ISI को दे रहा था लड़ाकू विमान की जानकारी, HAL कर्मी दीपक शिरसत गिरफ्तार

महाराष्ट्र पुलिस (Maharashtra) ने बताया कि एचएएल (HAL) में सहायक पर्यवेक्षक के तौर पर कार्यरत 41 वर्षीय दीपक शिरसत (Deepak Sirsath) को एक पाकिस्तानी नागरिक ने सोशल मीडिया पर एक महिला बनकर ‘हनीट्रैप’ में फंसाया.
महाराष्ट्र पुलिस (Maharashtra) ने बताया कि एचएएल (HAL) में सहायक पर्यवेक्षक के तौर पर कार्यरत 41 वर्षीय दीपक शिरसत (Deepak Sirsath) को एक पाकिस्तानी नागरिक ने सोशल मीडिया पर एक महिला बनकर ‘हनीट्रैप’ में फंसाया.

महाराष्ट्र पुलिस (Maharashtra) ने बताया कि एचएएल (HAL) में सहायक पर्यवेक्षक के तौर पर कार्यरत 41 वर्षीय दीपक शिरसत (Deepak Sirsath) को एक पाकिस्तानी नागरिक ने सोशल मीडिया पर एक महिला बनकर ‘हनीट्रैप’ में फंसाया.

  • Share this:
मुंबई. पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (ISI) को भारतीय लड़ाकू विमान संबंधी जानकारी मुहैया कराने के आरोप में हिंदुस्तान एरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) के एक कर्मी को गिरफ्तार किया गया है. यह जानकारी महाराष्ट्र पुलिस (Maharashtra Polcie) ने शुक्रवार को दी. पुलिस ने बताया कि एचएएल में सहायक पर्यवेक्षक के तौर पर कार्यरत 41 वर्षीय दीपक शिरसत को एक पाकिस्तानी नागरिक ने सोशल मीडिया पर एक महिला बनकर ‘हनीट्रैप’ में फंसाया.

पुलिस के एक बयान में कहा गया कि राज्य आतंकवाद रोधी दस्ते (एटीएस) की नासिक इकाई को व्यक्ति के बारे में विश्वसनीय खुफिया जानकारी मिली थी, जो आईएसआई के लगातार संपर्क में था. बयान में कहा गया कि व्यक्ति भारतीय लड़ाकू विमान के बारे में गोपनीय सूचना और उसकी संवेदनशील जानकारी के अलावा नासिक के पास ओझर स्थित एचएएल विमान विनिर्माण इकाई, एयरबेस और विनिर्माण इकाई में प्रतिबंधित क्षेत्र संबंधी जानकारी मुहैया करा रहा था.

फोन और सिम कार्ड की फोरेंसिक जांच
एक अधिकारी ने बताया कि शिरसत के खिलाफ शासकीय गोपनीयता कानून के तहत एक मामला दर्ज किया गया है. उन्होंने बताया कि नासिक एटीएस इकाई के अधिकारियों ने व्यक्ति को नासिक स्थित उसके घर से गिरफ्तार किया. उन्होंने बताया कि उसके कब्जे से पांच सिम कार्ड के साथ ही तीन मोबाइल फोन और दो मेमोरी कार्ड जब्त किए गए हैं. उन्होंने बताया कि फोन और सिम कार्ड को जांच के लिए फोरेंसिक साइंस प्रयोगशाला भेज दिया गया है.
अधिकारी ने बताया कि आरोपी को शुक्रवार को अदालत के समक्ष पेश किया गया और उसे 10 दिन के लिए एटीएस की हिरासत में भेज दिया गया. एटीएस डीसीपी विनय राठौड़ ने को बताया कि अभी तक की जांच में यह बात सामने आयी है कि शिरसत को एक पाकिस्तानी नागरिक, संभवत: आईएसआई के एक हैंडलर ने मोहपाश में फंसाया और उससे एक महिला बनकर चैट किया.



पाकिस्तानी नागरिक ने कहा- उसे विमान पंसद है
राठौड़ ने बताया कि पाकिस्तानी नागरिक ने शिरसत से कहा कि उसे विमान पसंद हैं जिसके बाद एचएएल कर्मी ने भारत के लड़ाकू विमान के बारे संवेदनशील सूचना व्हाट्सऐप और अन्य सोशल मीडिया मंचों पर उसके साथ साझा करनी शुरू कर दी.

एचएएल का नासिक स्थित विमान विभाग की स्थापना मिग-21 एफएल विमान और के-13 मिसाइलों के लाइसेंसी निर्माण के लिए 1964 में की गई थी. यह नासिक से करीब 24 किलोमीटर दूर और मुंबई से करीब 200 किलोमीटर दूर ओझर में स्थित है. इस विभाग ने मिग-21 एम, मिग-21 बीआईएस, मिग-27 एम और अत्याधुनिक विमान सुखोई-30 एमकेआई लड़ाकू विमान जैसे विमानों का भी निर्माण किया है. यह विभाग मिग श्रृंखला के विमानों और सुखोई-30 एमकेआई विमान की मरम्मत का काम भी करता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज