अपना शहर चुनें

States

आज शुरू होगी विदेश में फंसे भारतीयों की वतन वापसी, केंद्रीय मंत्री ने बताया क्या है तैयारी

केंद्रीय विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी.
केंद्रीय विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी.

भारत, कोरोना वायरस (Coronavirus) और लॉकडाउन (Lockdown) के बीच विदेश में फंसे अपने नागरिकों को लाने की तैयारी में है. एयर इंडिया से लेकर सैन्य विमान और नौसैनिक जहाज गुरुवार से इस काम में जुट जाएंगे.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारत सरकार कोरोना वायरस (Coronavirus) और लॉकडाउन (Lockdown) के बीच विदेश में फंसे अपने नागरिकों को लाने की तैयारी में है. एयर इंडिया से लेकर सैन्य विमान और नौसैनिक जहाज विभिन्न देशों में फंसे लाखों भारतीयों को गुरुवार से स्वदेश लाना शुरू करेंगे. केंद्र सरकार ने कहा है कि विदेश में रह रहे जो लोग किसी संकट में हैं, उन्हें पहले स्वदेश लाया जाएगा. पहली दो फ्लाइट यूएई से कोच्चि और कोझिकोड आएंगी, जिनमें ज्यादातर केरल के प्रवासी होंगे.

विदेश से भारत आने के लिए 2 लाख से अधिक लोग अपना नाम रजिस्टर करा चुके हैं. सीएनएन-न्यूज-18 ने इस बारे में केंद्रीय उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी से बात की. इतनी अधिक संख्या में विदेश से लोगों को यहां लाने में क्या चुनौतियां आ सकती हैं? पुरी ने ऐसे कई सवालों के विस्तार से जवाब दिए.

क्या प्रवासी भारतीयों को विदेश से भारत लाने के लिए कोई समयसीमा तय की गई है? हरदीप सिंह पुरी ने जवाब दिया, ‘हमने इसकी योजना बनाई है. पहले सप्ताह में 14,800 लोगों को स्वदेश लाया जाएगा. सभी लोगों को लाने की समयसीमा तय करना मुश्किल है. हमें देखना होगा कि कोरेाना महामारी का प्रसार कहां और कितना है. एयरपोर्ट में कहां कितनी सुविधाएं हैं. फिर उन्हें क्वारंटाइन करने के इंतजाम देखने होंगे.’



राज्यों की क्या स्थिति है, उनकी क्या योजना है और वे विदेश से आने वाले लोगों के लिए कितने तैयार हैं? हरदीप पुरी इन सवालों के जवाब में कहते हैं, ‘हमें लोगों को पहले विदेश से भारत लाना है. जब हम ऐसा कर लेंगे तब राज्यों की भूमिका शुरू होगी. उन्हें केंद्र सरकार के साथ मिलकर काम करना होगा. राज्य सरकारों को गाइडलाइंस के मुताबिक इंतजाम करने होंगे. लेकिन पहले लोगों का आना तो शुरू हो. फिर मामले की समीक्षा की जाएगी.’
अभी सिर्फ एयर इंडिया के प्लेन ही भेजे जा रहे हैं. क्या निजी कंपनियों के विमानों की सुविधाएं भी ली जाएंगी? हरदीप पुरी ने इस सवाल के जवाब में कहा, ‘हम एयर इंडिया से शुरुआत कर रहे हैं. लेकिन जैसे कि मैंने कहा कि सभी विकल्प खुले हैं. हम देखेंगे कि हमें निजी कंपनियों के विमानों की जरूरत है या नहीं. फिर फैसला लेंगे.’

कोरोना वायरस ने सभी सेक्टर को प्रभावित किया है. सरकार उड्डयन क्षेत्र की मदद के लिए क्या करने जा रही है? उड्डयन मंत्री ने इस सवाल पर कहा, ‘हम यह स्थिति देख रहे हैं. करीब 2.50 लाख लोग सीधे विमानन सुविधाओं से जुड़े हैं. किराया, टैक्स से लेकर फ्यूल तक के मामले हैं. सरकार एविएशन से जुड़े लोगों की पूरी मदद करेगी. हम इस बारे में वित्त मंत्रालय और एयरलाइंस कंपनियों के संपर्क में हैं. हम कोशिश कर रहे हैं कि कंपनियों को कम से कम नुकसान हो.’

लॉकडाउन खत्म होने के बाद एयरलाइंस कंपनियों की क्या तैयारी है, और उड़ान कब शुरू होंगी? हरदीप पुरी ने इस सवाल के जवाब में कहा, ‘हम उन शुरुआती देशों में हैं, जिसने सबसे पहले लॉकडाउन किया और पूरी सख्ती के साथ ऐसा किया. उड़ान जल्दी या कुछ दिन बाद शुरू होंगी ही. घरेलू उड़ानें रेलवे या बसों जैसी ही शुरू हो सकती हैं. हम पहले 25% उड़ानें शुरू करेंगे. ये उड़ानें उन्हें इलाकों में शुरू होंगी, जहां कोरोना का असर कम हो चुका हो.’

लॉकडाउन के बाद किराये में बढ़ोतरी होने की संभावना है. क्या सरकार इसके लिए कोई अधिकतम किराया तय करने का सोच रही है? हरदीप सिंह पुरी ने जवाब दिया, ‘हमें हमेशा से ही कस्टमर फ्रेंडली देश रहे हैं. लेकिन पहले उड़ानें शुरू तो हो जाने दीजिए. जब एक बार ऐसा हो जाएगा तो कंपनियां कुछ बदलाव करेंगी ही. जब शुरुआत हो जाएगी तो हम पूरे हालात पर नजर रखेंगे.’

यह भी पढ़ें: 

हर्षवर्धन बोले- गुजरात और महाराष्ट्र में कोविड-19 से अधिक मृत्यु दर चिंताजनक

रियाज नाइकू को मार गिराने के साथ ही पूरा हुआ NSA डोभाल का ऑपरेशन 'जैकबूट'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज