Assembly Banner 2021

हरिद्वार में कोरोना स्ट्रेन की दस्तक से प्रशासन सतर्क, स्नान के लिए पहुंचने वाले श्रद्धालुओं की होगी जांच

हरिद्वार में कोरोना स्ट्रेन की दस्तक से प्रशासन सतर्क, स्नान के लिए पहुंचने वाले श्रद्धालुओं की होगी जांच

हरिद्वार में कोरोना स्ट्रेन की दस्तक से प्रशासन सतर्क, स्नान के लिए पहुंचने वाले श्रद्धालुओं की होगी जांच

हरिद्वार में कोरोना के नए स्ट्रेन (Corona Strain) की दस्तक से हरिद्वार प्रशासन की नींद उड़ी है. यहां माघ पूर्णिमा स्नान को लेकर सरकार चौकन्नी हो गई है. इसको लेकर राज्यभर में दिशा निर्देश जारी कर दिए गए हैं.

  • Share this:
पुलकित शुक्ला.

हरिद्वार. उत्तराखंड के हरिद्वार (Haridwar) में कोरोना के नए स्ट्रेन की दस्तक से हरिद्वार प्रशासन की नींद उड़ी है. यहां माघ पूर्णिमा स्नान को लेकर सरकार चौकन्नी हो गई है. इसको लेकर राज्यभर में दिशा निर्देश जारी कर दिए गए हैं. शनिवार को होने वाले माघ पूर्णिमा स्नान और आगामी कांवड़ यात्रा को देखते हुए जिला प्रशासन ने कोरोना वायरस के स्ट्रेन (Corona Strain) से प्रभावित राज्यों के श्रद्धालुओं के कोविड टेस्ट को अनिवार्य कर दिया है. गुजरात, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश छत्तीसगढ़ और केरल जैसे पांच राज्यों में कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन ने पांव पसार लिए हैं. प्रशासन किसी भी प्रकार की कोई भी चूक नहीं करना चाहता. इसी को लेकर यहां आने वाले श्रद्धालुओं की जांच को लेकर सख्त एडवायजरी जारी की गई है.

धर्मनगरी हरिद्वार में स्नान पर्व पर देशभर से श्रद्धालु पहुंचते हैं. ऐसे में हरिद्वार प्रशासन किसी भी तरह का जोखिम नहीं उठाना चाहता है. जिलाधिकारी सी रविशंकर ने कहा कि हरिद्वार में सभी गंगा स्नानों पर रैंडम चेकअप कराया जा रहा है. नए स्ट्रेन से प्रभावित 5 राज्यों से आने वाले लोगों की कोरोना जांच अनिवार्य रूप से कराई जाएगी. दूसरे राज्यों से आने वाले सभी श्रद्धालुओं का कोविड टैस्ट होगा. मेले में 500 से अधिक डॉक्टरों की तैनाती की गई है. एक हजार से अधिक यहां पैरामेडिकल स्टॉफ सक्रिय रहेगा.



Youtube Video

बड़ी संख्या में स्वास्थ्य कर्मियों की तैनाती
कोरोना के साए के चलते कुंभ मेले की अवधि भले ही सीमित कर दी गई हो, लेकिन वायरस के संक्रमण का खतरा अभी टला नहीं है. इसलिए कुंभ मेले में स्वास्थ्य सेवाओं के साथ-साथ कोरोना से बचाव के लिए भी व्यापक इंतजाम किए गए हैं. कुंभ मेला के चिकित्सा अधिकारी डॉ. अर्जुन सिंह सेंगर ने बताया कि मेले में 500 डॉक्टरों के अलावा 1 हजार से अधिक पैरामेडिकल स्टाफ तैनात किया गया है. मेला क्षेत्र में विशेष कोविड केयर सेंटर भी बनाए गए हैं. इसके अलावा महामारी का प्रसार रोकने वाली केंद्र सरकार की संस्था एनसीडीसी के द्वारा भी कुंभ मेले में तैनात चिकित्सकों को ट्रेनिंग दी गई है. जिसके तहत डॉक्टरों को वायरस के फैलाव को रोकना और सर्विलांस बढ़ाने जैसी गतिविधियों के बारे में प्रशिक्षित किया गया है. मुख्यमंत्री ने कोरोना वायरस को लेकर सभी जिलों में इसको लेकर सतर्क रहने व नियमित जांच कराने के निर्देश दिए हैं. स्नान के दौरान विशेष सावधानी बरतने को कहा गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज