केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन की चाहत- पूरी तरह से लगे सिगरेट और गुटखे पर रोक

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन की चाहत- पूरी तरह से लगे सिगरेट और गुटखे पर रोक
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन की फाइल फोटो

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार, हर साल तंबाकू उद्योग (Tobacco Industry) अपने उत्पादों का विज्ञापन करने के लिए 9 अरब डॉलर से अधिक खर्च करता है.

  • Share this:
नई दिल्ली. विश्व तंबाकू दिवस (World No Tobacco Day) पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री (Union Health Minister) हर्षवर्धन (Harsh Vardhan) ने रविवार को कहा कि तंबाकू के खिलाफ लड़ाई, उनके लिए एक निजी लड़ाई है और वह तंबाकू और इसके उत्पादों (Products) पर पूर्ण प्रतिबंध चाहते हैं.

उन्होंने ट्वीट किया, "तंबाकू (Tobacco) के खिलाफ लड़ाई मेरे लिए एक व्यक्तिगत लड़ाई है. एक ENT सर्जन के रूप में, मैं पहली बार इस बात का चश्मदीद गवाह रहा हूं कि कैसे यह न केवल उपयोगकर्ता, बल्कि पूरे परिवार को नष्ट कर देता है. मैं तंबाकू पर पूर्ण प्रतिबंध के लिए अपना मत रखता हूं. विश्व तंबाकू निषेध दिवस (World No Tobacco Day) पर तंबाकू और इसके उत्पादों को शुरुआती स्तर पर ही पैदा होने से रोकने की अपील करता हूं."

इस वर्ष विश्व तंबाकू निषेध दिवस अभियान को फोकस बच्चों-युवाओं को शोषण से बचाना
विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organisation) के अनुसार, हर साल तंबाकू उद्योग अपने उत्पादों का विज्ञापन करने के लिए 9 अरब डॉलर यानि करीब 68 हजार करोड़ रुपये से अधिक खर्च करता है. तेजी से, इसके जरिये उन युवाओं को लक्षित किया रहा है, जिससे हर साल निकोटीन और तंबाकू उत्पादों से 80 लाख लोगों मारे जाते हैं.



इस वर्ष विश्व तंबाकू निषेध दिवस अभियान (World No Tobacco Day campaign), तंबाकू और संबंधित उद्योग के जरिये बच्चों और युवाओं को शोषण से बचाने पर केंद्रित है.



महामारी में भी नहीं रुका लोगों की बीमारी से लड़ने की क्षमता कम करने वाले उत्पादों का प्रचार
डब्ल्यूएचओ (WHO) ने कहा कि वैश्विक महामारी के दौरान भी, तंबाकू और निकोटिन उद्योग (Tobacco and Nicotine Industry) ऐसे उत्पादों का प्रचार कर रहा है, जो कोरोना वायरस से लड़ने और बीमारी से उबरने की लोगों की क्षमता को कम करते हैं.

उद्योग ने क्वारंटाइन (Quarantine) के दौरान मुफ्त ब्रांडेड मास्क और डोरस्टेप डिलीवरी की पेशकश की और अपने उत्पादों को 'आवश्यक' (Essential) के रूप में सूचीबद्ध करने की पैरवी की. इसमें कहा गया है कि 13-15 साल की उम्र के 4 करोड़ से अधिक युवाओं ने तंबाकू का उपयोग करना शुरू कर दिया है.

यह भी पढ़ें: मृतक के घर अस्पताल से गया फोन, कहा- कोविड रिपोर्ट निगेटिव, कल करेंगे डिस्चार्ज
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading