कोरोना से जंग में कितने तैयार हैं दिल्ली के केंद्रीय अस्पताल, हर्षवर्धन ने लिया जायजा

केंद्रीय मंत्री ने दिल्ली के सभी अस्पतालों को निर्देश देते हुए कहा कि सभी संस्थान अपने यहां कोरोना मरीजों के लिए संसाधनों को बढ़ाने के लिए काम करें. ANI

केंद्रीय मंत्री ने दिल्ली के सभी अस्पतालों को निर्देश देते हुए कहा कि सभी संस्थान अपने यहां कोरोना मरीजों के लिए संसाधनों को बढ़ाने के लिए काम करें. ANI

Harsh Vardhan chairs high level meeting over Coronavirus: स्वास्थ्य मंत्री ने दिल्ली स्थित केंद्रीय अस्पतालों और एम्स में ऑक्सीजन की उपलब्धता पर भी चर्चा की और जाना कि समय पर आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए क्या कदम उठाए जा रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 23, 2021, 10:02 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) के खिलाफ जंग में दिल्ली स्थित एम्स और केंद्रीय अस्पतालों कितने तैयार हैं, ये जानने के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन (Harsh Vardhan) ने शुक्रवार को उच्च स्तरीय बैठक की. स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार कोरोना वायरस (Coronavirus) के खिलाफ 'संपूर्ण सरकार' और 'संपूर्ण समाज' के दृष्टिकोण के साथ लड़ाई की अगुवाई कर रही है. आधिकारिक बयान में हर्ष वर्धन ने कहा कि 'कोरोना की दूसरी लहर के चलते रोजाना के मामलों बड़ी वृद्धि हुई है. ऐसे में ऑक्सीजन समर्थित और आईसीयू बेड के साथ ऑक्सीजन की सप्लाई और कुशल मैनपावर को कई गुना बढ़ाया गया है.'

बैठक में हर्ष वर्धन ने दिल्ली स्थित अस्पतालों में ऑक्सीजन समर्थित और आईसीयू वेंटिलेटर बेड की उपलब्धता पर विस्तार पर चर्चा की. इस दौरान कई अस्पतालों ने कोरोना संक्रमितों के लिए बेड की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए उठाए गए तात्कालिक कदमों की जानकारी दी. केंद्रीय मंत्री ने दिल्ली के सभी अस्पतालों को निर्देश देते हुए कहा कि सभी संस्थान अपने यहां कोरोना मरीजों के लिए संसाधनों को बढ़ाने के लिए काम करें. इसके तहत फैब्रिकेटेड अस्पताल बनाए जाए और गैर कोविड बेड, बिल्डिंग, ब्लॉक और वार्ड को डेडिकेटेड कोविड फैसिलिटी के रूप में तैयार किया जाए.

सफदरजंग अस्पताल

दिल्ली स्थित सफदरजंग अस्पताल ने केंद्रीय मंत्री को बताया कि अस्पताल में 172 बेड और बढ़ाए जा रहे हैं, इस तरह कुल संख्ता 391 हो जाएगी. इस तरह सफदरजंग अस्पताल का सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक को पूरी तरह कोविड मरीजों के लिए डेडिकेट कर दिया जाएगा. इसके अलावा सीएसआईआर के सहयोग से 32 आईसीयू बेड के साथ 46 अन्य बेड भी जोड़े जा रहे हैं.
RML अस्पताल

आरएमएल अस्पताल ने बताया कि गैर कोविड बिल्डिंगों को डेडिकेटेड कोविड ट्रीटमेंट फैसिलिटीज के तौर पर विकसित किया जा रहा है. इस तरह कोरोना मरीजों को 200 अतिरिक्त बेड मिलेंगे. लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज में सीएसआईआर के सहयोग से 240 बेड की व्यवस्था की गई है और जल्द ही इनका संचालन शुरू हो जाएगा.

AIIMS



एम्स के डायरेक्टर ने बताया कि संस्थान में गैर कोविड बिल्डिंगों जैसे कि बर्न्स और प्लास्टिक सर्जरी सेंटर, एनसीआई झज्जर, डॉ. आरपी सेंटर फॉर ऑफ्थल्मिक साइसेंस और गेरियाट्रिक वार्ड में कोरोना मरीजों के लिए बेड की सुविधा को बढ़ाया जा रहा है. इस तरह एम्स में सिर्फ कोरोना मरीजों के लिए 1000 बेड की सुविधा उपलब्ध होगी.

इसके साथ ही स्वास्थ्य मंत्री ने दिल्ली स्थित केंद्रीय अस्पतालों और एम्स में ऑक्सीजन की उपलब्धता पर भी चर्चा की और जाना कि समय पर आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए क्या कदम उठाए जा रहे हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने बताया कि डीपीआईआईटी में 24 घंटे सातों दिन सक्रिय कंट्रोल रूम ट्रांसपोर्टेशन से जुड़े मुद्दों का समाधान करने के लिए काम कर रहा है, ताकि दिल्ली में ऑक्सीजन की निर्बाध आपूर्ति सुनिश्चित की जा सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज