नए कृषि कानून का विरोध कर रहे सुखबीर बादल और हरसिमरत कौर बादल चंडीगढ़ में गिरफ्तार

हरसिमरत कौर बादल चंडीगढ़ में गिरफ्तार (Photo- Twitter/@HarsimratBadal_)
हरसिमरत कौर बादल चंडीगढ़ में गिरफ्तार (Photo- Twitter/@HarsimratBadal_)

Harsimrat Badal Arrested: हरसिमरत कौर बादल ने 17 सितम्बर को संसद में कृषि विधेयकों का लोकसभा में विरोध करते हुए केन्द्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 1, 2020, 10:52 PM IST
  • Share this:
अमृतसर. पूर्व केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल (Former Cabinet Minister Harsimrat Kaur Badal) को गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया गया. हरसिमरत कौर गुरुवार को नए कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ हो रहे विरोध प्रदर्शनों के दौरान चंडीगढ़ (Chandigarh) में घुसने की कोशिश कर रही थीं. हरसिमरत कौर बादल के अलावा शिअद प्रमुख सुखबीर सिंह बादल और उनके पार्टी कार्यकर्ताओं को भी हिरासत में लिया गया है. बादल को किसान मार्च के दौरान मुल्लापुर बैरियर के पास हिरासत में लिया गया है. किसान मार्च के मुल्लापुर बैरियर के पास पहुंचने पर पुलिस ने लोगों को तितर-बितर करने के लिए लाठीचार्ज किया और वॉटर कैनन से उनपर पानी की बौछार भी की.

इन विधेयकों के चलते शिरोमणि अकाली दल (Shiromani Akali Dal) ने भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janta Party) के साथ अपने 25 साल पुराने गठबंधन को भी तोड़ लिया है. कौर ने गिरफ्तार होने के बाद ट्वीट किया है कि-

किसानों के लिए आवाज उठाने पर मुझे गिरफ्तार कर लिया गया है, लेकिन वे हमें चुप नहीं कर पाएंगे. हमें किसानों के अधिकारों के लिए आवाज उठाने पर गिरफ्तार किया गया है. लेकिन हम सच के साथ आगे बढ़ रहे हैं और इस बल से हमारी ताकत कम नहीं होगी.




बता दें शिरोमणि अकाली दल ने गुरुवार को पंजाब से लेकर चंड़ीगढ़ तक कृषि कानून के खिलाफ तीन धार्मिक तख्तों से गुरुवार को जुलूस निकाला. शिअद प्रमुख सुखबीर सिंह बादल (Sukhbir Singh Badal) ने अमृतसर (Amritsar) में अकाल तख्त (Akal Takht) से जुलूस का नेतृत्व किया. वहीं उनकी पत्नी एवं पूर्व केन्द्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने बठिंडा के तलवंडी साबो में तख्त दमदमा साहिब (Takht Damdama Sahib) से दूसरे जुलूस का नेतृत्व किया. वहीं तीसरा जुलूस पार्टी के वरिष्ठ नेता प्रेम सिंह चंदूमाजरा और दलजीत सिंह चीमा के नेतृत्व में आनंदपुर साहिब (Anandpur Sahib) के तख्त केशगढ़ साहिब से निकाला गया.



चंडीगढ़ पहुंचने वाले थे तीनों जुलूस
इन तीनों जुलूसों को चंडीगढ़ पहुंचना था, जहां शिअद नेृतृत्व पंजाब के राज्यपाल वी. पी. सिंह बदनौर को कृषि कानून के खिलाफ एक ज्ञापन सौंपने वाले थे. लेकिन चंडीगढ़ पहुंचने पर हरसिमरत कौर बादल को पुलिस हिरासत में ले लिया गया.

ये भी पढ़ें- ICMR की बड़ी कामयाबी, कोविड-19 के इलाज में होगी कारगर

अकाली दल के राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) छोड़ने के कुछ दिनों बाद ही कानून के विरोध में शिअद ने ‘किसान मार्च’ का आयोजन किया है.

इससे पहले 17 सितम्बर को हरसिमरत कौर ने संसद में कृषि विधेयकों का लोकसभा में विरोध करते हुए केन्द्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज