अपना शहर चुनें

States

हरियाणा सरकार में खटपट की खबरों पर चौटाला ने लगाया विराम, गृह मंत्री से मिलने के बाद बोले-पूरा करेंगे कार्यकाल

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मिलने पहुंचे हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर (Photo-ANI)
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मिलने पहुंचे हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर (Photo-ANI)

Farm Laws: शाह से मुलाकात करने से पहले चौटाला यहां एक फार्म हाउस में अपनी पार्टी के सभी विधायकों के साथ बैठक कर चुके हैं. हरियाणा में किसान आंदोलन के राजनीतिक प्रभाव को देखते हुए चौटाला ने यह बैठक बुलाई थी ताकि अपने विधायकों को गठबंधन में एकजुट बनाए रख सकें.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 12, 2021, 10:17 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर (Haryana CM Manohar Lal Khattar) और उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला (Deputy CM Dushyant Chautala) केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Home Minister Amit Shah) से मुलाकात करने के लिए गृह मंत्रालय (Ministry of Home Affairs) पहुंचे. गृहमंत्री से मुलाकात के बाद हरियाणा के उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने तमाम अटकलों पर विराम लगाते हुए कहा, हमारी सरकार अपना पांच साल का कार्यकाल पूरा करेगी.

बैठक में भाजपा के राज्य अध्यक्ष ओ. पी. धनखड़ भी मौजूद रहे. बता दें हरियाणा में किसान आंदोलन (Kisan Aandolan) को लेकर सियासी गतिविधियों में तेजी आई है. कांग्रेस सरकार के खिलाफ बार-बार विधानसभा में अविश्वास प्रस्ताव की मांग कर रही है.

इससे पहले जजपा विधायकों के एक धड़े ने मंगलवार को इस बैठक से पहले कहा कि केंद्र सरकार को तीन कृषि कानूनों को वापस लेना चाहिए अन्यथा हरियाणा में सत्तारूढ़ भाजपा-जजपा गठबंधन को इसकी ‘‘भारी कीमत’’ चुकानी पड़ सकती है. जजपा विधायक जोगी राम सिहाग ने कहा कि केंद्र को इन कानूनों को वापस लेना चाहिए क्योंकि हरियाणा, पंजाब और देश के किसान इन कानूनों के खिलाफ हैं. उन्होंने कहा, ‘‘हम दुष्यंत जी से आग्रह करेंगे कि हमारी भावनाओं से अमित शाह जी को अवगत करा दें.’’





ये भी पढ़ें- क्या तीनों कृषि कानूनों को रद्द भी कर सकता है सुप्रीम कोर्ट ? जानें संविधान विशेषज्ञ सुभाष कश्यप की राय

शाह से मुलाकात करने से पहले चौटाला यहां एक फार्म हाउस में अपनी पार्टी के सभी विधायकों के साथ बैठक कर चुके हैं. हरियाणा में किसान आंदोलन के राजनीतिक प्रभाव को देखते हुए चौटाला ने यह बैठक बुलाई थी ताकि अपने विधायकों को गठबंधन में एकजुट बनाए रख सकें.

बता दें कि भाजपा ने 2019 में हुए हरियाणा विधानसभा चुनावों में 90 सीटों में से 40 सीटों पर जीत दर्ज की थी और उसने जननायक जनता पार्टी (जजपा) के दस विधायकों और सात निर्दलीय विधायकों के सहयोग से सरकार बनाई.

ये भी पढ़ें- 3 कृषि कानूनों पर साढ़े तीन महीने बाद लगा ब्रेक- SC में सुनवाई की 10 बातें

निर्दलीय विधायक ने वापस लिया है समर्थन
पिछले हफ्ते खट्टर करनाल के अपने विधानसभा क्षेत्र में किसानों की रैली को संबोधित नहीं कर सके क्योंकि किसानों ने रैली स्थल पर तोड़फोड़ कर दी. कुछ हफ्ते पहले किसानों ने चौटाला के विधानसभा क्षेत्र हिसार में एक हेलीपैड को खोद डाला.

साथ ही निर्दलीय विधायक सोमवीर सांगवान ने सरकार से समर्थन वापस ले लिया है.

हरियाणा और पंजाब सहित देश के विभिन्न हिस्सों के किसान पिछले वर्ष 28 नवंबर से दिल्ली की अलग-अलग सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे हैं और तीनों कानूनों को वापस लेने तथा अपनी फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य की वैधानिक गारंटी की मांग कर रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज