बुलेट की रफ्तार से भारत की धरती पर सुरक्षित लैंड हुआ राफेल विमान, देखें VIDEO

बुलेट की रफ्तार से भारत की धरती पर सुरक्षित लैंड हुआ राफेल विमान, देखें VIDEO
5 राफेल फाइटर जेट आज अंबाला एयरबेस पहुंचे

फ्रांस (France) से खरीदे गए ये राफेल लड़ाकू विमान हरियाणा (Haryana) के अंबाला एयरबेस (Ambala Airbase) पर उतरे.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय वायु सेना (Indian Air Force) के लिए ऐतिहासिक क्षणों के बीच बुधवार को राफेल लड़ाकू विमानों (Rafale Fighter Jet) के पहले जत्थे ने भारत (India) में सुरक्षित लैंडिंग की. फ्रांस (France) से खरीदे गए ये राफेल लड़ाकू विमान हरियाणा (Haryana) के अंबाला एयरबेस (Ambala Airbase) पर उतरे. वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया (Air Chief Marshal RKS Bhadauriya) ने अंबाला में विमानों की अगवानी की. ये विमान करीब सात हजार किलोमीटर की यात्रा करके बुधवार को भारत पहुंचे हैं. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इस संबंध में ट्वीट कर जानकारी दी. साथ ही उन्होंने कहा कि इससे भारत का सैन्य इतिहास का नया युग शुरू हुआ है.

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Defence Minister Rajnath Singh) ने इस ऐतिहासिक लम्हे का वीडियो शेयर किया. साथ ही उन्होंने ट्वीट किया, "विमान अंबाला में सुरक्षित लैंडिंग कर चुके हैं. राफेल कॉम्बैट विमानों के भारत की धरती को छूते ही सैन्य इतिहास के नए युग की शुरुआत हो गई है. ये मल्टीरोल विमान की वायुसेना की क्षमताओं में क्रांतिकारी बदलाव लाएंगे." रक्षा मंत्री ने एक अन्य ट्वीट में चीन और पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए लिखा, "मैं ये भी कहना चाहूंगा, अगर ऐसा कोई है जो भारतीय वायु सेना की इस नई क्षमता के बारे में चिंतित है या इसकी आलोचना कर रहा है, तो यह वह है जो हमारी क्षेत्रीय अखंडता को खतरे में डालना चाहता है."
मेरिगनेक एयरबेस से सात घंटे से अधिक उड़ान भरने के बाद संयुक्त अरब अमीरात (United Arab Emirates) में सोमवार को अल धाफरा एयरबेस (Al Dhafra Airbase) पर विमानों का जत्था उतरा था. यह फ्रांस से भारत के लिए उड़ान के दौरान एकमात्र पड़ाव था. इन विमानों के भारतीय हवाईक्षेत्र में प्रवेश करने के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के कार्यालय ने कहा कि भारतीय वायु क्षेत्र में प्रवेश करने के बाद राफेल विमानों को दो सुखोई 30 एमकेआई ने अपने घेरे में ले लिया. 30,000 फुट की ऊंचाई पर एक फ्रांसीसी टैंकर से हवा में इन लड़ाकू विमानों में ईंधन भरा गया था.

UAE की सरजमीं से जब राफेल विमानों ने उड़ान भरी तो कुछ ही देर बाद भारतीय वायुसीमा में एंट्री ली. जब ये विमान अरब सागर से निकले तो INS कोलकाता कंट्रोल रूम से ही उनका स्वागत किया गया. इस दौरान INS कोलकाता कंट्रोल रूम की ओर से कहा गया, ‘इंडियन नेवल वॉर शिप डेल्टा 63 ऐरो लीडर. मे यू टच द स्काई विद ग्लोरी, हैप्पी हंटिंग. हैप्पी लैंडिंग.’



ये भी पढ़ें :- नेवी ने अचानक क्यों समुद्र में तैनात कर दिए बड़ी संख्या में जहाज?

पांचों राफेल विमानों को 17 गोल्डन एरो स्क्वाड्रन के कमांडिंग आफिसर ग्रुप कैप्टन हरकीरत सिंह की अगुआई में पायलट फ्रांस से लेकर भारत पहुंचे हैं.

राफेल लड़ाकू विमान भारत के दो दशकों में लड़ाकू विमानों का पहली बड़ी आपूर्ति है और इनसे भारतीय वायु सेना की लड़ाकू क्षमताओं को काफी मजबूती मिलने की उम्मीद है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading