अपना शहर चुनें

States

क्या एक चुनाव ने हमें इतनी ताकत दे दी है कि हम किसी को भी मार दें: शशि थरूर

शशि थरूर ने मॉब लिंचिंग पर मोदी सरकार को घेरने की कोशिश की है.(फाइल फोटो)
शशि थरूर ने मॉब लिंचिंग पर मोदी सरकार को घेरने की कोशिश की है.(फाइल फोटो)

मॉब लिंचिंग (Mob Lynching) की बढ़ती घटनाओं को लेकर कांग्रेस (Congress) नेता शशि थरूर (Shashi Tharoor) ने एक बार फिर मोदी सरकार (Modi government) पर निशाना साधा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 22, 2019, 3:57 PM IST
  • Share this:
कांग्रेस (Congress) नेता और तिरुवनंतपुरम (Thiruvananthapuram) से सांसद शशि थरूर (Shashi Tharoor) ने मॉब लिंचिंग (Mob Lynching) की बढ़ती घटनाओं को लेकर एक बार फिर मोदी सरकार (Modi government) पर निशाना साधा है. शशि थरूर ने सवाल उठाते हुए कहा कि कैसे एक चुनाव (Election) के नतीजों ने लोगों को इतनी ताकत दे दी कि वे किसी को भी सड़क पर मार सकें. थरूर ने आरोप लगाया कि लोगों को मारने के दौरान उनसे जय श्रीराम (Jai Shri Ram) बोलने को कहा जाता है. शनिवार को दिए अपने एक बयान में कांग्रेस नेता ने कहा था कि भारत (India) एक ऐसा देश हो गया है जिसमें या तो आप इस तरफ हैं या उस तरफ. इन दोनों के बीच सहिष्णुता के लिए अब कोई जगह नहीं बची है.

पुणे के एक कार्यक्रम में बोलते हुए थरूर ने सवाल किया कि हमने पिछले 6 साल में क्या देखा? पुणे में मोहसिन शेख की हत्या के साथ यह सिलसिला शुरू हुआ था. उसके बाद मोहम्मद अखलाक को यह कह कर मार दिया गया कि वह बीफ ले जा रहा था, लेकिन बाद में पता चला कि वह बीफ नहीं था. अगर वह बीफ नहीं था तो किसी शख्स की हत्या का अधिकार किसी को कैसे मिलता है.
इसके अलावा, पहलू खान के पास डेयरी फार्मिंग के लिए लॉरी में गाय ले जाने का लाइसेंस भी था, इसके बावजूद उन्हें भी मौत के घाट उतार दिया गया. थरूर ने कहा कि एक चुनाव परिणाम ने ऐसे लोगों को इतनी ताकत दी कि वे कुछ भी करें और किसी को भी मार दें?

थरूर ने कहा कि क्या यही हमारा भारत है? क्या यही कहता है हिन्दू धर्म? मैं हिंदू हूं लेकिन इस तरह का नहीं. साथ ही, लोगों को मारते हुए, उन्हें 'जय श्री राम' कहने के लिए कहा जाता है. यह हिंदू धर्म का अपमान है. यह भगवान राम का अपमान है कि लोग उनके नाम का इस्तेमाल करके लोगों को मारे जा रहे हैं.



इसे भी पढ़ें :-

शशि थरूर बोले- देश के अंदर BJP-कांग्रेस में भले ही मतभेद हों, देश के बाहर हम एक
अमित शाह ने कहा, सरकार का मकसद अल्पसंख्यकों को परेशानकरना नहीं
RSS के सर्वे में दावा- लिव इन रिलेशनशिप की अपेक्षा विवाहित महिलाएं ज्‍यादा खुश
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज