हाथरस कांड: प्रियंका गांधी ने कहा- मोहरों को सस्पेंड करने से क्या होगा, योगी आदित्यनाथ इस्तीफा दें

कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ से मांगा इस्तीफा.

बता दें कि हाथरस कांड (Hathras Case) में सीएम योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने प्राथमिक जांच रिपोर्ट के आधार पर एसपी विक्रम वीर, डीएसपी राम शब्द, इंस्पेक्टर दिनेश कुमार वर्मा, उप निरीक्षक जगवीर सिंह तथा हेड मुर्रा महेश पाल को सस्पेंड कर दिया है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. उत्तर प्रदेश में हाथरस कांड (Hathras Case) को लेकर योगी सरकार (Yogi Government) ने बड़ी कार्रवाई करते हुए भले ही SP-DSP समेत 5 पुलिसकर्मी सस्पेंड कर दिया हो लेकिन विपक्ष अभी भी उन पर हमलावर है. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) ने योगी सरकार के एक्शन पर तंज कसते हुए कहा है कि मोहरों को सस्पेंड करने से  क्या होगा. इस पूरे मामले पर अब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) को इस्तीफा देना चाहिए.

    कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा है कि हाथरस के जिला अधिकारी और पुलिस अधीक्षक के फोन रिकॉर्ड सार्वजनिक किया जाना चाहिए, जिससे लोगों को पता लग सके कि आखिर किसके कहने पर पीड़िता एवं उसके परिवार को कष्ट दिया गया. प्रियंका गांधी ने ट्वीट करते हुए कहा, योगी आदित्यनाथ जी कुछ मोहरों को सस्पेंड करने से क्या होगा? हाथरस की पीड़िता, उसके परिवार को भीषण कष्ट किसके ऑर्डर पर दिया गया? हाथरस के डीएम, एसपी के फोन रिकार्ड्स पब्लिक किए जाएं. मुख्यमंत्री जी अपनी जिम्मेदारी से हटने की कोशिश न करें. देश देख रहा है. योगी आदित्यनाथ इस्तीफा दो.



    बता दें कि सीएम योगी आदित्यनाथ ने प्राथमिक जांच रिपोर्ट के आधार पर एसपी विक्रम वीर, डीएसपी राम शब्द, इंस्पेक्टर दिनेश कुमार वर्मा, उप निरीक्षक जगवीर सिंह तथा हेड मुर्रा महेश पाल को सस्पेंड कर दिया है. इसी के साथ एक और बड़ा फैसला लिया गया है. इसके अंतर्गत मामले से संबंधित पुलिसकर्मियों के साथ ही पीड़ित परिवार व कुछ अन्य लोगों का भी नार्को टेस्ट करवाया जाएगा. इसके अलावा संबंधित पुलिसकर्मियों का नार्को व पॉलीग्राफ टेस्ट करवाया जाएगा.

    इसे भी पढ़ें :- हाथरस कांड: लगातार 3 दिन से 'बंधक' है गैंगरेप पीड़िता का परिवार, DM पर कार्रवाई न होने से आक्रोश

    छावनी में तब्दील है गांव, मीडिया को भी जाने की इजाजत नहीं
    पुलिस ने हाथरस गैंगरेप पीड़ित के गांव को पुलिस ने छावनी बना रखा है. जिले में धारा-144 लगाने के साथ ही पीड़ित के गांव में नाकेबंदी है. गांव के लोगों को भी आईडी दिखाने के बाद ही एंट्री दी जा रही है. प्रशासन के इस रवैये से लोग नाराज हैं. उनका कहना है कि हमारे ही गांव में हमसे अपराधी जैसा सलूक हो रहा है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.