हाथरस केस: पीड़ित परिवार छोड़ना चाहता है गांव, पिता को सता रहा मौत का डर

राहुल गांधी 3 अक्टूबर को हाथरस केस में पीड़ित परिवार से मिले थे. (Photo- Twitter/INCIndia
राहुल गांधी 3 अक्टूबर को हाथरस केस में पीड़ित परिवार से मिले थे. (Photo- Twitter/INCIndia

Hathras case: पीड़िता के पिता और भाई ने कहा कि आरोपियों के परिवार की ओर से उन पर लगातार दबाव बनाया जा रहा है. उनका पूरा परिवार डर कर जी रहा है. गांव का कोई भी शख्स उनकी मदद नहीं कर रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 8, 2020, 8:50 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. हाथरस में दलित युवती के साथ कथित गैंगरेप (Hathras case) और उसकी मौत की घटना को लेकर सियासत तेजी हो गई है. विपक्ष एक ओर जहां इस घटना को लेकर योगी सरकार (Yogi Government) और यूपी की कानून-व्यवस्था को लेकर सवाल उठा रहा है, वहीं राज्य सरकार ने इस पूरी घटना को बड़ी साजिश बताया है. सियासी संग्राम के बीच अब पीड़ित परिवार ने गांव छोड़ने की बात कही है. परिवार का कहना है कि वह डरकर जीने को मजबूर हैं. गांव में कोई भी उनकी मदद नहीं कर रहा है.

मीडिया में दिए बयान में पीड़िता के पिता और भाई ने कहा कि आरोपियों के परिवार की ओर से उन पर लगातार दबाव बनाया जा रहा है. उनका पूरा परिवार डर कर जी रहा है. गांव का कोई भी शख्स उनकी मदद नहीं कर रहा है. उन्होंने कहा कि हमारे साथ जो हादसा हुआ है उसके बाद किसी ने भी हमारी मदद नहीं की है. हर कोई हमारे परिवार से दूरी बनाने की कोशिश कर रहा है. हमारे पास गांव छोड़ने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा है. हम किसी रिश्तेदार के यहां चले जाएंगे.

पीड़िता के पिता ने कहा कि गांव में जिस तरह के हालात बनते जा रहे हैं उसे देखने के बाद हमें आगे चलकर मौत दिखाई दे रही है. हम कहीं भी चले जाएंगे. भीख मांगकर खाएंगे लेकिन गांव वापस नहीं आएंगे. हमने अपनी एक बेटी खोई है अब आगे और कुछ भी झेलने की हिम्मत नहीं है. पीड़िता के भाई ने कहा कि हालात इतने बिगड़ चुके हैं कि यहां पर ज्यादा दिन तक रहना मुश्किल होता जा रहा है. छोटे भाई को कई बार मारने की धमकी मिल चुकी है.

इसे भी पढ़ें:- DIG शलभ माथुर को हाथरस और ADG राजीव कृष्ण को मिली अलीगढ़ की जिम्‍मेदारी, जानें पूरा मामला



14 सितंबर को दलित लड़की के साथ हुआ था बलात्कार
गत 14 सितंबर को हाथरस जिले के चंदपा थाना क्षेत्र स्थित एक गांव की रहने वाली 19 वर्षीय दलित लड़की से कथित तौर पर सामूहिक बलात्कार किया गया था. लड़की को रीढ़ की हड्डी में चोट और जीभ कटने की वजह से पहले उसे अलीगढ़ के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था. उसके बाद उसे दिल्ली स्थित सफदरजंग अस्पताल लाया गया था, जहां मंगलवार तड़के उसकी मौत हो गई थी.

इसे भी पढ़ें:- स्टिंग ऑपरेशन में सामने आए हाथरस केस के अनछुए पहलू, पढ़ें 10 बड़े खुलासे

राहुल ने ट्वीट कर कहा, हर हिंदुस्तानी को सच्चाई जानना जरूरी
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने हाथरस में कथित सामूहिक बलात्कार एवं और हत्या मामले की पीड़िता के परिवार से अपनी मुलाकात का वीडियो साझा करते हुए बुधवार को कहा कि हर हिंदुस्तानी को इस अन्याय की सच्चाई जानना जरूरी है. उन्होंने ट्वीट किया, देखिए, हाथरस पीड़िता के परिवार को उप्र सरकार के कैसे-कैसे शोषण और अत्याचार का सामना करना पड़ा. उनके साथ हुए अन्याय की सच्चाई हर हिंदुस्तानी के लिए जानना बहुत ज़रूरी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज