• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • हाथरस केस: AMU के फॉरेंसिक एक्‍सपर्ट्स का दावा- पीड़िता के साथ जबरदस्‍ती के सबूत मिले

हाथरस केस: AMU के फॉरेंसिक एक्‍सपर्ट्स का दावा- पीड़िता के साथ जबरदस्‍ती के सबूत मिले

एएमयू के फॉरेंसिक ने किया दावा.

एएमयू के फॉरेंसिक ने किया दावा.

रिपोर्ट के मुताबिक, डॉक्‍टर ने अपनी रिपोर्ट में कहा है, 'मेरा मानना है कि पीड़िता के साथ जबरदस्‍ती हुई थी. हालांकि यौन शोषण की पुष्टि के लिए एफएसएल जांच की रिपोर्ट आने का इंतजार करना होगा.'

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. हाथरस में दलित महिला के कथित गैंगरेप (Hathras gangrape) और प्रताड़ना के बाद मौत की घटना को लेकर यूपी में सियासत गरमाई हुई है. उत्तर प्रदेश सरकार ने मामले की सीबीआई जांच (CBI) की सिफारिश की है. साथ ही एसआईटी का गठन भी किया है. इस बीच अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज के फॉरेंसिक एक्‍सपर्ट्स की रिपोर्ट सामने आई है. इसमें दावा किया गया है कि हाथरस गैंगरेप पीड़िता के शरीर पर जबरदस्‍ती किए जाने के सबूत थे. उनकी यह रिपोर्ट 22 सितंबर की है. उन्‍होंने पीड़िता के शरीर की जांच का हवाला देकर यह रिपोर्ट तैयार की है. इससे पहले यूपी पुलिस की ओर से दावा किया जा रहा था कि लड़की के साथ गैंगरेप नहीं हुआ है.

    टाइम्‍स ऑफ इंडिया में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार डॉक्‍टर ने अपनी रिपोर्ट में कहा है, 'मेरा मानना है कि पीड़िता के साथ जबरदस्‍ती हुई थी. हालांकि यौन शोषण की पुष्टि के लिए एफएसएल जांच की रिपोर्ट की उपलब्‍धता पर निर्भर होगा.' रिपोर्ट के 23 पन्‍ने पर प्रकाशित सेक्‍सुअल असॉल्‍ट फॉरेंसिक एक्‍जामिनेशन के अंतर्गत 'डीटेल्‍स ऑफ एक्‍ट' में यह लिखा गया है कि पीड़िता के अंदरूनी अंग में सीमेन नहीं पाया गया है, लेकिन उससे छेड़छाड़ हुई है. जेएनएमसी हॉस्पिटल में की गई मेडिकल जांच में यह बात बताई गई है कि पीड़िता घटना के समय अपने होश में नहीं थी. रिपोर्ट में 'घटना के समय और बाद में दर्द' के बारे में भी उल्‍लेख किया गया है.

    अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज के फॉरेंसिक एक्‍सपर्ट्स की इस रिपोर्ट पर फॉरेंसिक डिपार्टमेंट के असिस्‍टेंट प्रोफेसर डॉ. फैज अहमद के हस्‍ताक्षर हैं. अखबार के मुताबिक, उनसे जब संपर्क किया गया तो उन्‍होंने इस पर कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया. उनका कहना था कि यह गोपनीय रिपोर्ट है और इसे कोर्ट के सामने पेश किया जाएगा.



    रिपोर्ट में दावा किया गया है कि पीड़िता की ओर से दी गई जानकारी में कहा गया था कि उसके गांव के 4 जान पहचान के लोगों ने उसका यौन शोषण किया था. जब वह खेत पर सुबह 9 बजे कुछ काम कर रही थी. पीड़िता ने डॉक्‍टर को यह भी बताया था कि इन लोगों ने उसे जान से मारने की धमकी भी दी थी. उसने चारों के नाम- संदीप, रामू, लवकुश और रवि बताए थे.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज