Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    हाथरस गैंगरेप केस में पुलिस का दावा: जीभ काटने, आंखें फोड़ने की खबरें झूठी

    इस जघन्य अपराध के खिलाफ सफदरजंग अस्पताल के बाहर प्रदर्शन करते लोग.
    इस जघन्य अपराध के खिलाफ सफदरजंग अस्पताल के बाहर प्रदर्शन करते लोग.

    पुलिस ने मंगलवार को दावा किया है कि सोशल मीडिया (Social Media) पर भ्रामक खबरें (Fake News) फैलाई जा रही हैं. इससे पुलिस मेडिकल रिपोर्ट (Medical Report ) के आधार पर यौन शोषण की बात भी नकार चुकी है.

    • News18Hindi
    • Last Updated: September 29, 2020, 8:44 PM IST
    • Share this:
    लखनऊ. हाथरस गैंगरेप केस (HATHRAS GANGRAPE CASE) की वीभत्सता बताने वाली कई खबरों का यूपी पुलिस ने खंडन किया है. हाथरस पुलिस (HATHRAS POLICE) ने मंगलवार को दावा किया है कि सोशल मीडिया भ्रामक खबरें फैलाई जा रही हैं. पुलिस ने ट्वीट किया है- सोशल मीडिया के माध्यम से यह असत्य खबर सार्वजनिक रूप से फैलायी जा रही है कि 'थाना चन्दपा क्षेत्रान्तर्गत दुर्भाग्यपूर्ण घटित घटना में मृतका की जीभ काटी गयी, आंख फोड़ी गयी तथा रीढ की हड्डी तोड़ दी गयी थी. हाथरस पुलिस इस असत्य एवं भ्रामक खबर का खंडन करती है.

    इससे पहले पीड़िता की मेडिकल रिपोर्ट भी सामने आई है, जिसमें कहा गया है कि मृतका के साथ किसी भी प्रकार का यौन शोषण नहीं किया गया था. गला दबाने की वजह से उसकी पीछे की रीढ़ की हड्डी टूटी थी. बता दें यह मेडिकल रिपोर्ट अलीगढ़ के जेएन मेडिकल कॉलेज की है, जहां पीड़िता का इलाज चला था. सोमवार को तबीयत बिगड़ने पर उन्‍हें दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में एडमिट कराया गया था, जहां मंगलवार सुबह उन्‍होंने दम तोड़ दिया. हालांकि, अभी मृतका का पोस्टमार्टम दिल्ली में किया जा रहा है, जिसका इंतजार पुलिस भी कर रही है.


    गौरतलब है कि इस मामले को लेकर विरोध बढ़ता जा रहा है. विपक्षी दलों से लेकर बॉलीवुड के स्टार्स तक ने इस मामले पर बेहद तीखी प्रतिक्रिया दी है. पीड़िता की मौत की बाद गुस्सा और फूटा और दिल्ली में महिला कांग्रेस कार्यकर्ता न्याय की मांग को लेकर सड़क पर उतर गईं. मंगलवार को दिल्ली के विजय चौक इलाके में महिला कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने जमकर प्रदर्शन किया और पीड़िता के लिए न्याय की मांग की.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज