यूपी की सियासत में कांग्रेस ने मारा मोर्चा, हाथरस केस को लेकर आखिर क्यों मचा है इतना हंगामा

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी ने शनिवार को हाथरस के पीड़ित परिवार से मुलाकात की. (फाइल फोटो)
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी ने शनिवार को हाथरस के पीड़ित परिवार से मुलाकात की. (फाइल फोटो)

हाथरस कांड (Hathras Case) और कृषि कानून ने कांग्रेस (Congress) को मध्यम वर्ग और किसानों को भाजपा (BJP) के खिलाफ लामबंद करने का बड़ा मौका दिया है. कांग्रेस इस घटना से बीजेपी को जाति, वर्ग और लिंग के आधार पर घेर रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 5, 2020, 12:35 PM IST
  • Share this:
भवदीप कांग
नई दिल्ली.
हाथरस कांड (Hathras Case) पर देश की राजनीति पूरी तरह से गरमा गई है. एक ओर जहां विपक्षी दल मामले में पीड़िता (Victim) के परिजनों के लिए न्याय की मांग कर रहे हैं. वहीं, योगी सरकार (Yogi Government) को लेकर लोगों का गुस्सा सड़क तक आ गया है. कांग्रेस (Congress) ने इस पूरे मामले में पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने के लिए बीजेपी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. हाथरस कांड और कृषि कानून 2020 ने कांग्रेस को मध्यम वर्ग और किसानों को बीजेपी के खिलाफ लामबंद करने का बड़ा मौका दिया है.

दिल्ली के निर्भया कांड की तरह ही उत्तर प्रदेश में एक दलित लड़की की निर्मम हत्या कर दी गई. कांग्रेस इस घटना से बीजेपी को जाति, वर्ग और लिंग के आधार पर घेर रही है. बता दें कि दलित लड़की पर अत्याचार करने वाले चारों आरोपी ऊंची जाति के हैं जो कि दिल्ली के निर्भया केस (2012) और भंवरी देवी केस (1992) की याद को ताजा करते हैं. साल 2012 के निर्भया कांड के बाद से देश में बलात्कार के अब तक ढाई लाख मामले दर्ज हो चुके हैं. केवल 2019 में 33 हजार मामले सामने आए थे, जिनमें से 11 फीसदी मामले दलित लड़कियों से जुड़े हैं.

बीते महीने उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में एक तीन साल की बच्ची के साथ बलात्कार कर उसकी गला घोंटकर हत्या करने का मामला सामने आया था. हफ्तेभर पहले ही बलरामपुर में 22 वर्षीय छात्रा को जबरन ड्रग्स देकर उसका बलात्कार किया गया था. वहीं, पीड़िता ने अस्पताल जाते वक्त रास्ते में ही दम तोड़ दिया था.
सवाल यह है कि हाथरस कांड पर देश का माहौल इतना गर्म क्यों है? क्या लखीमपुर खीरी और बलरामपुर के बलात्कार और हत्या के मामलों का कोई औचित्य नहीं है? क्या साल 2018 में जम्मू-कश्मीर के कठुआ में 8 साल की बच्ची के साथ हुए बलात्कार मामले को लखीमपुर-खीरी मामले से अलग देख सकते हैं? क्योंकि दोनों ही मामलों में पीड़िता की नृशंस हत्या की गई थी. बता दें कि हाथरस और बलरामपुर मामले में पीड़िता का अंतिम संस्कार जल्दबाजी में किया गया, जिससे यूपी की बीजेपी सरकार पर बड़ा सवाल खड़ा होता है.



इसे भी पढ़ें :- प्रियंका गांधी ने बैरिकेडिंग के पार कूदकर धक्का-मुक्की के बीच अपने कार्यकर्ता को पुलिस से छुड़ाया - देखें Video

कांग्रेस को देख विपक्षीय दलों ने आवाज बुलंद कर दी है
प्रियंका गांधी और राहुल गांधी ने हाथरस का रुख इसलिए किया क्योंकि यह मामला निम्न और उच्च जाति के बीच आकर अटक गया है. ऐसे में कांग्रेस कार्यकर्ता बीजेपी के खिलाफ दिल्ली-यूपी बॉर्डर पर बड़ा विरोध करते दिखे और गांधी भाई-बहन को विरोध के बीच पैदल ही हाथरस जाना पड़ा. हाथरस कांड पर यूथ कांग्रेस ने भी जंतर-मंतर पर प्रदर्शन कर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के इस्तीफे की मांग की है. वहीं, अन्य विपक्षी दल तृणमूल कांग्रेस, आम आदमी पार्टी और समाजवादी पार्टी भी इस जंग में कूद चुकी है. लेकिन प्रियंका गांधी वाड्रा अकेले ही यूपी कांग्रेस में जान फूंकने में जुटी हुई हैं. कांग्रेस पहले ही इस बात की पैरवी कर चुकी है कि बलात्कार के मामलों पर विरोध की आवाज को न दबाया जाए.

इसे भी पढ़ें :- यूपी में प्रियंका गांधी के साथ हुई बदसलूकी की शिकायत महिला आयोग से की गई

हाथरस मामले में बीजेपी कांग्रेस के सामने कमजोर दिखती है
अब जब इस मामले को इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने भी मान लिया है, तो इसे कांग्रेस की नैतिक जीत भी कह सकते हैं. हालांकि राजस्थान में बलात्कार के मामलों के उजागर होने से भाजपा को बड़ा नुकसान पहुंचा है. ऐसे में कांग्रेस उत्तर प्रदेश में भी बीजेपी के खिलाफ लोगों में विरोधी भावनाओं को हवा देना जारी रखेगी. इधर, विपक्षी दलों का फार्म एक्ट के खिलाफ अभियान अभी भी जारी है और इससे कांग्रेस को किसानों से जुड़ने का बड़ा मौका हाथ लगा है.

कांग्रेस, बीजेपी को हर तरह से पटकनी देने में लगी हुई हैं चाहे उसमें ललित मोदी, नीरव मोदी और राफेल से संबंधित भ्रष्टाचार के मामले हों या फिर नागरिकता कानून, राजकोषीय घाटा, नोटबंदी, जीसटी और कोविड-19 के प्रति सरकार की विफलता हो. लेकिन बीजेपी इन सभी मुद्दों पर समीकरण बदलकर राजनीतिक लाभ उठा चुकी है. हालांकि हाथरस कांड ने बीजेपी को कमजोर कर दिया है. इसका एक कारण यह भी है कि सत्तारूढ़ दल के पास प्रियंका गांधी को जवाब देने के लिए कोई मजबूत महिला दावेदार नहीं है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज