Hathras Case: पीड़िता के भाई का सवाल- आखिर अंतिम संस्कार की इतनी जल्दी क्या थी, मेरे पिता भी दिल्ली से नहीं पहुंचे थे

सोमवार को ही पीड़िता को इलाज के लिए दिल्ली के सफदरजंग में शिफ्ट किया गया था.
सोमवार को ही पीड़िता को इलाज के लिए दिल्ली के सफदरजंग में शिफ्ट किया गया था.

उत्तर प्रदेश के हाथरस में मौजूद पीड़िता के भाई ने कहा, 'आखिर अंतिम संस्कार की इतनी जल्दी क्या है? हमारे पिता भी घर नहीं पहुंचे हैं.' दो घंटे बाद अंतिम संस्कार के कुछ वीडियो और तस्वीरें सामने आईं, जिसमें दिख रहा है कि चिता के पास परिवार का कोई सदस्य मौजूद नहीं है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 30, 2020, 9:28 AM IST
  • Share this:
हाथरस. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के हाथरस (Hathras) में चार लोगों द्वारा कथित तौर पर गैंगरेप और हत्या करने वाली 19 वर्षीय दलित युवती के शव का बुधवार तड़के 3 बजे के बाद अंतिम संस्कार कर दिया गया. पीड़िता के परिवार का आरोप कि पुलिस ने जबरन अंतिम संस्कार कर दिया. रात को भले ही वे आखिरी बार उसके शरीर को घर लाना चाहते थे. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, लड़की के भाई ने बुधवार सुबह 3.30 बजे बताया कि 'ऐसा लगता है कि मेरी बहन का अंतिम संस्कार कर दिया गया है. पुलिस हमें कुछ नहीं बता रही है. हमने उनसे विनती की कि इसे (बहन का शव) अंतिम बार घर लाएं, लेकिन उन्होंने हमारी बात नहीं मानी.'  दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में मंगलवार को लड़की की मौत हो गई थी. आधी रात के करीब, उसका शव एक एंबुलेंस में हाथरस के उसके गांव पहुंचा. लड़की की मां ने कहा कि 'मेरी बेटी ने कहा था कि वह घर जाना चाहती है. वह एक बार होश में आई थी तो हमें लगा था कि वह बच जाएगी.'

रिपोर्ट के अनुसार, रात 1 बजे पीड़ित के भाइयों में से एक ने बताया, 'एम्बुलेंस मेन रोड पर है. पुलिस हमें शव को घर के अंदर नहीं ले जाने दे रही है. वे श्मशान भूमि की ओर जा चुके हैं. हमें अभी उसका अंतिम संस्कार करने के लिए मजबूर कर रहे हैं. हम आधी रात को उसका अंतिम संस्कार नहीं करना चाहते हैं; हम उसे घर ले जाना चाहते हैं.'

पीड़िता की मां का दर्दनाक वीडियो भी वायरस
उन्होंने कहा कि उनके पिता और भाई दिल्ली से घर नहीं पहुंचे थे. उन्होंने कहा, 'आखिर इतनी जल्दी क्या है? हमारे पिता भी घर नहीं पहुंचे हैं.' दो घंटे बाद अंतिम संस्कार के कुछ वीडियो और तस्वीरें सामने आईं,  जिसमें दिख रहा है कि उसके पास परिवार का कोई सदस्य मौजूद नहीं है. पीड़िता के भाई ने आरोप लगाया, 'जब हमने उसका अंतिम संस्कार करने से इनकार कर दिया तो पुलिस आक्रामक होने लगी. जब मेरे रिश्तेदारों ने यह देखने की कोशिश की कि पुलिस क्या कर रही है, तो उन्होंने हमें लात मारी, हमारे एक रिश्तेदार की चूड़ियाँ तोड़ दीं. डर से हमने खुद को अंदर बंद कर लिया. उन्होंने ऐसा क्यों किया?'
कई अन्य वीडियो में दिख रहा है कि लड़की की मां, अपनी बेटी का शव लाने के लिए पुलिस के सामने गिड़गिड़ा रही थी. हाथरस के जॉइंट मजिस्ट्रेट प्रेम प्रकाश मीणा ने कहा कि 'पीड़िता का अंतिम संस्कार किया गया है. पुलिस और प्रशासन यह सुनिश्चित करेगा कि दोषियों को सजा मिले.'



उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले के एक गांव में दो हफ्ते पहले कथित सामूहिक दुष्कर्म की पीड़िता की दिल्ली के अस्पताल में मंगलवार को मौत हो गई. उसके निधन के बाद रोष उत्पन्न हुआ कई जगह प्रदर्शन किए गए और इंसाफ की मांग की गई. दुष्कर्म के प्रयास का विरोध करने पर आरोपियों ने उसके साथ काफी बर्बरता की. आरोपियों ने पीड़िता की जीभ भी काट दी.



मामले में चार आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है. पीड़िता को अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के जवाहरलाल नेहरू चिकित्सा कॉलेज और अस्पताल में भर्ती कराया गया था और वहां से सोमवार को सफदरजंग अस्पताल लाया गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज