होम /न्यूज /राष्ट्र /ओमिक्रॉन वेरिएंट कम घातक, लेकिन इस बात का है खतरा, जानें हेल्थ एक्सपर्ट्स की चेतावनी

ओमिक्रॉन वेरिएंट कम घातक, लेकिन इस बात का है खतरा, जानें हेल्थ एक्सपर्ट्स की चेतावनी

कोरोना वायरस परीक्षण के दौरान स्वैब सैम्पल लेते स्वास्थ्यकर्मी. (फाइल फोटो)

कोरोना वायरस परीक्षण के दौरान स्वैब सैम्पल लेते स्वास्थ्यकर्मी. (फाइल फोटो)

Health Expert warns over Omicron Variant and possible third wave of corona: भारत में कोविड-19 संक्रमण के मामलों ने फिर ...अधिक पढ़ें

    नई दिल्ली: देश में ओमिक्रॉन वेरिएंट (Omicron Variant) के कारण कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. इस बीच देश के कई दिग्गज डॉक्टर्स ने कहा है कि आगे चलकर इस वायरस के और म्यूटेशन देखने को मिल सकते हैं इसलिए कोरोना की तीसरी लहर (Third Wave of Corona) को हल्के में नहीं लेना चाहिए. दिल्ली में बत्रा हॉस्पिटल के मेडिकल डायरेक्टर सीएसएल गुप्ता ने न्यूज एजेंसी एएनआई से कहा कि, यह एक RNA (Ribonucleic Acid) वायरस है और म्यूटेशन के बाद बदल सकता है. इसकी वजह से ओमिक्रॉन के अलावा और भी नए वेरिएंट सामने आ सकते हैं. जिसके बारे में अंदाजा लगाना मुश्किल है.

    डॉ सीएसएल गुप्ता ने कहा कि, हमें कोरोना की तीसरी लहर को लेकर सावधान रहना है और इसे हल्के में बिल्कुल नहीं लेना है. हालांकि कहा गया है कि ओमिक्रॉन वेरिएंट पिछले अन्य वेरिएंट्स की तुलना में कम घातक है. लेकिन संक्रमण के मामले में यह अति संक्रामक वेरिएंट है. हाल ही में दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सतेंद्र जैन ने कहा कि, दिल्ली में आने वाले कोविड-19 के केसों में से 80 फीसदी मामले ओमिक्रॉन वेरिएंट से जुड़े हैं.

    डेल्टा Vs ओमिक्रॉन

    ओमिक्रॉन वेरिएंट फेफड़ों में ब्रोंकस में तक सीमित रहता है, जबकि डेल्टा वेरिएंट फेफड़ों के टिश्यू को तेजी से नुकसान पहुंचाता है. जिसकी वजह से ऑक्सीजन की जरुरत बढ़ने लगती है. कोरोना की दूसरी लहर के दौरान डेल्टा वेरिएंट की वजह से ऐसा ही हुआ. हेल्थ एक्सपर्ट्स का कहना है कि इस समय सरकार को मुस्तैद रहने की जरुरत है और ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए जो कोविड अनुरुप व्यवहार का पालन नहीं कर रहे हैं.

    यह भी पढ़ें: मुंबई में कोरोना की सुपरफास्ट रफ्तार, 24 घंटे में आए 15,166 नए केस, पॉजिटिविटी रेट 25% हुआ

    सर गंगाराम हॉस्पिटल के डॉ अतुल गोगिया का कहना है कि, इस हमें सावधान और सतर्क रहने की जरुरत है. क्योंकि अगर चूक हुई तो कोरोना के मामलों में जबरदस्त तेजी आएगी और इससे बड़े नुकसान की आशंका हो सकती है. इसलिए हमें घबराने की नहीं बल्कि सतर्क रहने की आवश्यकता है. हम सभी को पर्याप्त सावधानी बरतना चाहिए और कोरोना वैक्सीनेशन कराना चाहिए.

    भारत में ओमिक्रॉन वेरिएंट से जुड़े केसों की संख्या 2135 हो गई है और इनमें से 828 लोग स्वस्थ हो गए हैं. वहीं बुधवार को राजस्थान से ओमिक्रॉन वेरिएंट के चलते पहली मौत का मामला सामने आया है.

    Tags: Corona third wave, Coronavirus, Omicron

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें