हर्षवर्धन बोले- कोरोना पर लिए गए फैसलों के लिए इतिहास PM मोदी को रखेगा याद

हर्षवर्धन बोले- कोरोना पर लिए गए फैसलों के लिए इतिहास PM मोदी को रखेगा याद
स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन (PTI)

कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के खिलाफ अपनी लड़ाई में भारत के लिए सितंबर एक बुरा महीना साबित हो रहा है. अब तक 51 लाख से ज्यादा केस आ चुके हैं. भारत में 15 दिन में 13,08,991 मामले सामने आए, संयुक्त राज्य अमेरिका में 5,57,657 मामले दर्ज किए और ब्राजील जो इस सूची में तीसरे स्थान पर है, वहां 4,83,299 मामले दर्ज किए गए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 17, 2020, 3:04 PM IST
  • Share this:
संसद के मानसून सत्र (Parliament Monsoon Session) का आज चौथा दिन है. राज्यसभा में गुरुवार को भी कोरोना वायरस (Coronavirus) के बढ़ते मामलों पर चर्चा हुई. कांग्रेस सांसद गुलाम नबी आजाद ने कहा कि कोरोना वायरस को रोकने में सरकार ने कई मौके गंवा दिए. इस पर सरकार का बचाव करते हुए स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन (Harsh Vardhan) ने कहा कि कोरोना वायरस को रोकने के लिए उठाए गए कदमों के लिए इतिहास पीएम मोदी (PM Narendra Modi) को याद रखेगा.

दरअसल, कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के खिलाफ अपनी लड़ाई में भारत के लिए सितंबर एक बुरा महीना साबित हो रहा है. अब तक 51 लाख से ज्यादा केस आ चुके हैं. भारत में 15 दिन में 13,08,991 मामले सामने आए, संयुक्त राज्य अमेरिका में 5,57,657 मामले दर्ज किए गए और ब्राजील जो इस सूची में तीसरे स्थान पर है, वहां 4,83,299 मामले दर्ज किए गए. इतना ही नहीं इस अवधि के दौरान वायरस के कारण हुई मौतों की सूची में भी भारत ही सबसे ऊपर है. भारत में 15 दिन की अवधि में 16,307 लोगों की जान गई, जबकि अमेरिका और ब्राजील ने क्रमशः 11,461 और 11,178 मौतें दर्ज कीं.





आइए जानते हैं राज्यसभा में कोरोना वायरस पर चर्चा के दौरान हर्षवर्धन ने और क्या कहा:-
डॉ. हर्षवर्धन ने कहा- यह कहना अतिश्योक्ति हो सकती है, लेकिन इतिहास पीएम मोदी को याद रखेगा कि किस तरह से उन्होंने 8 महीने में कोरोना से जुड़ी हर छोटी से छोटी चीजों को खुद मॉनिटर किया.
स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि कोरोना पर राज्यों के साथ मिलकर केंद्र सरकार ने जो कदम उठाए, उसकी वजह से हमारी स्थिति बाकी दुनिया के मुकाबले बेहतर हुई है.
उन्होंने कहा कि हम चाहें अमेरिका से तुलना करें, ब्राजील से करें या फिर किसी अन्य देश, पर मिलियन केस की बात हो या पर मिलियन डेथ रेट की बात हो, हमारी स्थिति बाकियों के मुकाबले बेहतर है.
हर्षवर्धन ने कहा कि दिल्ली में जब कोरोना की वजह से हालात बिगड़ने लगे, तो खुद गृह मंत्री अमित शाह ने ग्राउंड पर उतकर कमान संभाली. राजधानी में अब हालात काबू में हैं.
स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि कोरोना टेस्टिंग के मामले में अभी हम दूसरे नंबर पर हैं, लेकिन कुछ ही दिनों में हम अमेरिका को भी इस मामले में पीछे छोड़ देंगे. 7 जनवरी को WHO से हमें इसके बारे में सूचना मिली थी कि चीन में कोरोना का केस मिला है. हमने 8 जनवरी से ही इसको लेकर बैठकें शुरू कर दी थीं.
उन्होंने कहा कि पीएम मोदी ने एक भी फैसला एक्सपर्ट्स की सलाह, राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बात किए बगैर नहीं लिया. इसलिए कोरोना से अभी भारत में उतनी मौतें नहीं हुई, जितनी बाकी देशों में हुई है. हमारा डेथ रेट दुनिया में बहुत कम है.
बता दें कि भारत में अब तक 51 लाख 18 हजार 254 लोग कोरोना संक्रमित हो चुके हैं. 24 घंटे में कोरोना के रिकॉर्ड 97 हजार 894 नए मरीज मिले. इसके पहले 11 सितंबर को 97 हजार 754 केस बढ़े थे. बुधवार को 1,132 लोगों की जान गई. कोरोना से अब तक 83 हजार 198 लोगों की मौत हो चुकी है.
राहत की बात है कि ठीक हो चुके लोगों की संख्या भी 40 लाख से ज्यादा हो चुकी है. अब तक 40 लाख 25 हजार 80 लोग ठीक हो चुके हैं. बुधवार को रिकॉर्ड 82 हजार 922 लोगों को अस्पताल से डिस्चार्ज किया गया. फिलहाल 10 लाख 9 हजार 976 मरीजों का अभी इलाज चल रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज