केरल: पिनराई विजयन की कैबिनेट में नए चेहरों को मौका, कोरोना काल की हीरो केके शैलजा को नहीं मिली जगह- सूत्र

केरल की स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री हैं केके शैलजा. (File pic)

केरल की स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री हैं केके शैलजा. (File pic)

केरल में पिनराई विजयन की सरकार दोबारा बनने के पीछे कोरोना वायरस (COVID-19 in Kerala) के खिलाफ रणनीति को बड़ा फैक्टर माना जा रहा है. इसके लिए राज्य की स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा (KK Shailaja) को दुनिया भर में तारीफ मिली, लेकिन इसके बावजूद वह नई कैबिनेट में जगह नहीं पाई.

  • Share this:

नई दिल्‍ली. केरल (Kerala) में कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) से शुरुआती दौर में निपटने में राज्‍य की स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री केके शैलजा (KK Shailaja) ने अहम भूमिका निभाई थी. वह अभी भी ऐसी ही रणनीतियों पर काम कर रही हैं. इसके लिए उनकी प्रशंसा भी की गई, लेकिन अब विधानसभा चुनाव बाद बनने वाली राज्‍य की नई कैबिनेट में उनको मंत्रिपद नहीं दिया जाएगा. माना जा रहा है कि इस बार मुख्‍यमंत्री पिनराई विजयन (Pinarayi Vijayan) की कैबिनेट में भारतीय कम्‍युनिस्‍ट पार्टी (CPI) और भारतीय कम्‍युनिस्‍ट पार्टी (मार्क्‍सवादी) से नए चेहरों को शामिल किया जाएगा.

केके शैलजा रिटायर्ड टीचर हैं. उन्‍होंने केरल में कोरोना महामारी को प्रारंभिक दौर में रोकने के लिए कई प्रशंसनीय कार्य किए हैं. इससे पहले वह राज्‍य में निपाह वायरस से निपटने के लिए भी अहम रणनीति पर काम कर चुकी हैं. केरल में निपाह वायरस दो बार देखने को मिला था. पहले 2018 में और फिर 2019 में भी.

केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य राज्यमंत्री प्रीति सुदन ने भी केरल में कोरोना महामारी से निपटने के लिए बनाई गई केके शैलजा की रणनीति की प्रशंसा करते हुए अन्‍य राज्‍यों से भी उनके द्वारा उठाए गए कदमों को अपनाने का सुझाव दिया था.

Youtube Video

केरल में पिनराई विजयन के नेतृत्व में माकपा नीत वाम लोकतांत्रिक मोर्चा (एलडीएफ) सरकार का 20 मई को शपथ ग्रहण समारोह होगा. यह समारोह दोपहर में साढ़े तीन बजे होगा. इस दौरान राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान मुख्यमंत्री विजयन समेत 21 मंत्रियों को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाएंगे.

कार्यकारी राज्‍य सचिव ए विजयराघवन के अनुसार सभी मंत्रियों का पोर्टफोलियो मुख्‍यमंत्री विजयन तय करेंगे. उन्‍होंने कहा कि जैसा कि एलडीएफ को विधानसभा चुनाव में राज्‍य के हर तबके से समर्थन प्राप्‍त हुआ है. ऐसे में हम ऐसी सरकार का गठन करना चाहते हैं जिसमें सभी तबकों का प्रतिनिधित्‍व हो.




सीपीएम राज्‍य में एलडीएफ की सबसे बड़ी साझेदार है. ऐसे में माना जा रहा है कि कैबिनेट में उसके 12 सदस्‍य हो सकते हैं. वहीं भाकपा के 4 सदस्‍यों को मंत्री बनाया जा सकता है. इसके अलावा केरल कांग्रेस (एम), जनता दल (एस), एनसीपी को एक-एक मंत्रिपद मिल सकता है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज