कोरोना की तीसरी लहर से बच्चों को खतरा? एम्स डायरेक्टर ने कहा- कोई संकेत नहीं

नई दिल्ली स्थित एम्स के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया (फाइल फोटो)

नई दिल्ली स्थित एम्स के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया (फाइल फोटो)

AIIMS Director Randeep Guleria: एम्स दिल्ली के डायरेक्टर डॉ. रणदीप गुलेरिया ने कहा कि कोविड की पहली और दूसरी लहर में बच्चों को मानसिक तनाव, स्मार्टफोन की लत, शिक्षा की चुनौतियों के कारण एक साथ कई नुकसान का सामना करना पड़ा है.

  • Share this:

नई दिल्ली. केंद्र सरकार ने सोमवार को कहा कि इस बात के कोई संकेत नहीं हैं कि कोरोना की तीसरी लहर बच्चों को नुकसान पहुंचाएगी. एम्स डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया ने कहा, "हमने कोरोना की पहली और दूसरी लहर में देखा कि बच्चों में संक्रमण बहुत कम देखा गया है. इसलिए अब तक ऐसा नहीं लगता है कि आगे जाकर कोविड की तीसरी लहर में बच्चों में कोविड संक्रमण ज्यादा देखा जाएगा. हालांकि तैयारी करनी चाहिए. लोगों को लग रहा है कि अब तक बच्चे ज्यादा प्रोटेक्टेड हैं घरों में. जब स्कूल, कॉलेज खुलेंगे. बच्चे आपस में मिलेंगे तो शायद केस बढ़ सकते हैं. लेकिन अब तक के डाटा के मुताबिक ज्यादातर केस में बच्चों को दाखिले की जरूरत नहीं पड़ेगी."

बच्चों में दिखे बच्चों में कोरोना के हल्के लक्षण

एम्स निदेशक ने स्वीकार किया कि स्वस्थ बच्चों में कोरोना के हल्के लक्षण दिखे हैं. उन्होंने कहा कि कोविड की पहली और दूसरी लहर में बच्चों को मानसिक तनाव, स्मार्टफोन की लत, शिक्षा की चुनौतियों के कारण एक साथ कई नुकसान का सामना करना पड़ा है. दूसरी ओर पिछले एक महीने में एम्स में कोविड से हुई मौतों का विश्लेषण किया गया, जिसमें पाया गया कि दोनों लहर में एक जैसी मौतें हुई हैं. यानी 45 साल से अधिक और अन्य गंभीर बीमारियों के शिकार लोगों की ज्यादा मौत हुई हैं.

Youtube Video

फाइजर और मॉडर्ना की बुकिंग पर स्थिति साफ की मंत्रालय ने

विदेशी कंपनियों से वैक्सीन आयात के सवाल पर स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि फाइजर और मॉडर्ना की बुकिंग पहले ही कई देशों ने कर रखी है, इसलिए फिलहाल उनके पास स्टॉक नहीं है. भारत सरकार लगातार उनके संपर्क में है. जैसे वैक्सीन कंपनियों के साथ वैक्सीन खरीद को लेकर बात होगी, केंद्र सरकार द्वारा इसकी जानकारी राज्यों को दी जाएगी.

संक्रमण दर में आ रही है कमी 



देश में कोरोना की मौजूदा स्थिति पर लव अग्रवाल ने कहा कि पिछले 17 दिन से भारत में कोविड-19 के दैनिक मामलों में लगातार कमी आ रही है. पिछले 15 हफ्ते में कोविड-19 की जांच में 2.6 गुणा वृद्धि हुई है और पिछले दो हफ्ते से साप्ताहिक संक्रमण दर में कमी आ रही है. स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से कहा गया कि 7 मई को देश में 4 लाख 14 हजार केस थे, आज 2 लाख 22 हजार केस हैं, जोकि 40 दिन में सबसे कम केस हैं.

उन्होंने कहा कि कोरोना से रिकवरी रेट में लगातार सुधार आ रहा है. 3 मई को रिकवरी रेट 81 फीसदी था, आज की तारीफ में रिकवरी रेट 88 फीसदी है. इसके साथ ही पिछले 22 दिनों में एक्टिव केस में कमी आ रही है. 10 मई को एक्टिव केस की संख्या 37 लाख थी, आज 27 लाख से अधिक है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज