लाइव टीवी

शाहीन बाग प्रदर्शन: सुप्रीम कोर्ट आज करेगा याचिकाओं पर सुनवाई, प्रदर्शनकारियों को हटाने की है मांग

News18Hindi
Updated: February 10, 2020, 9:35 AM IST
शाहीन बाग प्रदर्शन: सुप्रीम कोर्ट आज करेगा याचिकाओं पर सुनवाई, प्रदर्शनकारियों को हटाने की है मांग
लंबे समय से शाहीन बाग में प्रदर्शन चल रहा है. (फाइल फोटो)

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने 8 फरवरी को दिल्ली चुनाव के मद्देनजर शाहीन बाग प्रदर्शन (Shaheen Bagh Protest) पर दायर याचिका पर सुनवाई करने से इंकार कर दिया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 10, 2020, 9:35 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने 8 फरवरी को दिल्ली चुनाव (Delhi Election 2020) के मद्देनजर शाहीन बाग में चल रहे प्रदर्शन (Shaheen Bagh Protest) पर दायर याचिका पर सुनवाई करने से इंकार कर दिया था. अब चुनाव बाद सोमवार को इन सभी याचिकाओं पर सुनवाई होगी. बता दें कि शुक्रवार को जब यह मामला अदालत के सामने आया था तो सुप्रीम कार्ट ने कहा था कि वह दिल्ली विधानसभा चुनाव के पहले इसपर कोई प्रभाव नहीं डालना चाहता. सुनवाई के दौरान न्यायमूर्ति एसके कौल और जस्टिस केएम जोसेफ ने कहा था, 'हम समझते हैं कि एक समस्या है और हमें यह देखना है कि इसे कैसे हल किया जा सकता है. हम इस मामले पर सोमवार (10 फरवरी) को चर्चा करेंगे. उस दिन हम बेहतर स्थिति में होंगे.' बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका में प्रदर्शनकारियों को हटाने की मांग की गई है.

लंबे समय से जारी है प्रदर्शन
दिल्ली के शाहीन बाग में तकरीबन दो महीने से ज्यादा वक्त से प्रदर्शन जारी है. इनमें महिलाओं की संख्या ज्यादा है. ये महिलाएं नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) का विरोध कर रही हैं. संसद ने इसको 12 दिसंबर को पारित किया था. इस कानून के तहत केंद्र सरकार पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से अल्पसंख्यकों को नागरिकता प्रदान कर सकेगी.

शाहीन बाग प्रदर्शन, सुप्रीम कोर्ट, याचिका, दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020, दिल्ली न्यूज, Shaheen Bagh Protest, Supreme Court, Plea, Delhi Assembly Election 2020, Delhi News
शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन चल रहा है. (प्रतीकात्मक फोटो)


CAA का हो रहा विरोध
CAA के पास होने के बाद देश भर में विरोध प्रदर्शन चल रहे हैं. इस कानून के प्रावधानों को संविधान की मूल भावना के प्रतिकूल माना जा रहा है. वहीं, केंद्र सरकार इस पर आगे बढ़ने को तैयार है. विरोधियों का मानना है कि इस कानून का प्रावधान धर्म के आधार पर भेदभाव करता है.

ये भी पढ़ें: बेरोजगारी से परेशान था शख्स, बेटा-बेटी का गला घोंटा, फिर मेट्रो के आगे कूदा

केजरीवाल ने पूछा- वोटिंग का फाइनल आंकड़ा जारी क्यों नहीं किया, EC ने दिया जवाब

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 10, 2020, 8:56 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर