Home /News /nation /

प्रदूषण के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज, सेंट्रल विस्टा पर केंद्र ने दाखिल किया हलफनामा

प्रदूषण के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज, सेंट्रल विस्टा पर केंद्र ने दाखिल किया हलफनामा

दिल्‍ली में पिछले काफी दिनों से सांस लेना मुश्किल बना हुआ है.

दिल्‍ली में पिछले काफी दिनों से सांस लेना मुश्किल बना हुआ है.

Pollution In Delhi-NCR: केंद्र ने सेंट्रल विस्टा परियोजना के तहत काम जारी रखने पर अपना बचाव किया है. अदालत में हलफनामा दाखिल कर केंद्र ने कोर्ट से कहा है कि परियोजना राष्ट्रीय महत्व की है और इसके निर्माण में प्रदूषण को नियंत्रत रखा गया है.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) गुरुवार को दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण (Pollution In Delhi Ncr) के मुद्दे पर सुनवाई करेगा. इस दौरान सुप्रीम कोर्ट प्रदूषण पर नियंत्रण के लिए गठित किए गए आयोग से सवाल कर सकता है कि आखिर इन निर्देशों का कितना पालन हुआ है. इसी मुद्दे पर बीती सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने पाया था कि राज्य, आयोग के निर्देशों का पालन नहीं कर रहे हैं. इस पर सख्त रुख अख्तियार करते हुए अदालत ने कहा कि अगर ऐसा ही रहा तो कोर्ट अपनी ओर से स्वतंत्र टास्क फोर्स गठित करेगा. साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने सेंट्रल विस्टा (Central Vista)का निर्माण जारी रहने पर भी जवाब मांगा है.

    उधर, केंद्र ने सेंट्रल विस्टा परियोजना के तहत काम जारी रखने पर अपना बचाव किया है. अदालत में हलफनामा दाखिल कर केंद्र ने कोर्ट से कहा है कि परियोजना राष्ट्रीय महत्व की है और इसके निर्माण में प्रदूषण को नियंत्रत रखा गया है. धूल और धुएं पर रोक के लिए स्मॉग गन और पानी से छिड़काव सरीखे उपायों का पालन किया जा रहा है.

    यह भी पढ़ें: दिल्ली: सेंट्रल विस्टा के औचक निरीक्षण पर पहुंचे केजरीवाल के मंत्री, बोले- साइट में किसके आदेश से चल रहा काम

    सेंट्रल विस्टा में निर्माण कार्य पर सीपीडब्ल्यूडी को नोटिस भेजेगी दिल्ली सरकार
    दूसरी ओर प्रतिबंध के बावजूद सेंट्रल विस्टा में निर्माण कार्य कराए जाने और धूल नियंत्रण नियमों का उल्लंघन करने के लिए दिल्ली सरकार केंद्रीय लोक निर्माण विभाग (सीपीडब्ल्यूडी) को नोटिस जारी करेगी. यह बात बुधवार को पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कही. राय ने कहा, ‘निर्माण एवं ध्वंस गतिविधियों पर प्रतिबंध के बावजूद हमें सेंट्रल विस्टा परियोजना स्थल पर काम कराए जाने के बारे में कई फोन आ रहे हैं. जांच के दौरान हमने पाया कि यह सही है.’

    उन्होंने कहा, ‘हम दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति से कहेंगे कि सीपीडब्ल्यूडी को नोटिस जारी कर वायु प्रदूषण को देखते हुए प्रतिबंध के बावजूद निर्माण कराए जाने के कारणों के बारे में पूछें.’ राय ने कहा कि निर्माण स्थल पर धूल प्रदूषण नियंत्रण नियमों के उल्लंघन के लिए एजेंसी को अलग से नोटिस जारी किया जाएगा. दिल्ली सरकार ने पहले कहा था कि वायु प्रदूषण के उच्च स्तर को देखते हुए राजधानी में अगले आदेश तक निर्माण एवं ध्वंस गतिविधियों पर प्रतिबंध रहेगा.

    Tags: Air Pollution AQI Level, Delhi, India, Supreme Court

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर