मुंबई समेत महाराष्ट्र के कई भागों में होगी भारी बारिश, मौसम विभाग ने दी चेतावनी

मुंबई समेत महाराष्ट्र के कई भागों में होगी भारी बारिश, मौसम विभाग ने दी चेतावनी
मुंबई सहित महाराष्ट्र के कई इलाकों में भारी बारिश की चेतावनी (सांकेतिक फोटो)

सोमवार को हुई बैठक में महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Government) ने राज्यों में संकट की स्थितियों से निपटने और बेहतर समन्वय सुनिश्चित करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के तहत एक समिति (committee) गठित करने की मांग की.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 11, 2020, 5:33 PM IST
  • Share this:
मुंबई. मौसम विभाग (weather department) ने जारी की चेतावनी जारी कर मुम्बई (Mumbai) सहित पूरे कोंकण और मध्य महाराष्ट्र (central Maharashtra) में आने वाले 24 से 48 घण्टों में जोरदार बारिश के बारे में जानकारी दी है. जिससे राज्य में लोगों और सरकार की चिताएं बढ़नी तय हैं. क्योंकि महाराष्ट्र (Maharashtra) सहित भारत के कई राज्यों में भारी बारिश (heavy rain) से बाढ़ जैसे आसार बन गये हैं. इस समस्या को लेकर बाढ़ (flood) का संकट झेल रहे असम, बिहार, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, केरल राज्यों के मुख्यमंत्रियों और कर्नाटक के गृह मंत्री ने अपने-अपने राज्य में बाढ़ की स्थिति तथा राहत एवं बचाव कार्यों पर सोमवार को पीएम मोदी (PM Modi) को जानकारी दी.

सोमवार को हुई इस वर्चुअल बैठक में महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Government) ने राज्यों में संकट की स्थितियों से निपटने और बेहतर समन्वय सुनिश्चित करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के तहत एक समिति (committee) गठित करने की मांग की. राज्य सरकार ने अपने एक बयान में यह जानकारी दी. राज्य सरकार के एक बयान में यह भी बताया कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (CM Uddhav Thackrey) ने 3 जून को आए चक्रवाती तूफान निसर्ग (Nisarga) से हुए नुकसान और 5 अगस्त को हुई भारी बारिश के मद्देनजर महाराष्ट्र के लिए केंद्र से तत्काल सहायता मांगी है.

बाढ़ को लेकर राज्यों के सुझावों पर PM ने अधिकारियों को काम करने का निर्देश दिया
सोमवार को यह बैठक करीब डेढ़ घंटे चली, जिसमें रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन, केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय और जी किशन रेड्डी तथा केंद्रीय मंत्रालयों एवं संबद्ध संगठनों के वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल हुए. इस दौरान प्रधानमंत्री ने इस बात पर भी बल दिया कि कोविड-19 महामारी के मद्देनजर राज्यों द्वारा लोगों को राहत एवं बचाव कोशिशों के दौरान मास्क पहनने, हाथ स्वच्छ रखने और एक दूसरे से पर्याप्त दूरी रखने जैसे स्वास्थ्य संबंधी सभी एहतियातों का पालन अवश्य सुनिश्चित कराना चाहिए.
यह भी पढ़ें: UP में अभी तक औसत से भी कम बारिश, 19 जिलों में फिर भी बाढ़ के हालात!



उन्होंने कहा कि राज्यों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि सभी विकास एवं बुनियादी ढांचा परियोजनाएं स्थानीय आपदाओं को ध्यान में रखते हुए बनाई जाएं, जिससे आगे चल कर भविष्य में होने वाले नुकसान को कम करने में मदद मिलेगी. राज्यों ने बाढ़ के प्रभाव को घटाने के लिये कुछ अल्पकालिक और दीर्घकालिक उपायों के लिये सुझाव भी दिये. प्रधानमंत्री ने अधिकारियों को इन सुझावों पर कार्य करने का निर्देश दिया. उन्होंने कहा कि केंद्र विभिन्न आपदाओं से निपटने में राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों को सहयोग मुहैया करना जारी रखेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज