अपना शहर चुनें

States

चक्रवात 'निवार' के बाद तमिलनाडु में अगले हफ्ते फिर भारी बारिश की आशंका: IMD

तमिलनाडु में अगले हफ्ते भारी बारिश की आशंका. (प्रतीकात्‍मक फोटो-AP)
तमिलनाडु में अगले हफ्ते भारी बारिश की आशंका. (प्रतीकात्‍मक फोटो-AP)

Heavy rains expected Tamil Nadu: आईएमडी के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने कहा कि 29 नवंबर से बन रहे कम दबाव के क्षेत्र से तमिलनाडु में भारी बारिश हो सकती है. उन्होंने कहा, हालांकि यह देखने की जरूरत है कि क्या कम दबाव का क्षेत्र और गहरा होकर चक्रवात में तो नहीं बदलेगा.

  • भाषा
  • Last Updated: November 26, 2020, 10:54 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. तमिलनाडु (Tamil Nadu) में गुरुवार को आए चक्रवाती तूफान निवार के बाद 29 नवंबर से एक बार फिर भारी बारिश होने की आशंका है. भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने कहा कि 29 नवंबर से बंगाल की खाड़ी में एक नया, कम दबाव का क्षेत्र बनने की आशंका है. आईएमडी के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने कहा कि 29 नवंबर से बन रहे कम दबाव के क्षेत्र से तमिलनाडु में भारी बारिश हो सकती है. उन्होंने कहा, हालांकि यह देखने की जरूरत है कि क्या कम दबाव का क्षेत्र और गहरा होकर चक्रवात में तो नहीं बदलेगा. कम दबाव का क्षेत्र चक्रवात बनने का पहला चरण है.

महापात्र ने कहा, 'हम इस पर (कम दबाव के क्षेत्र पर) करीबी नजर रख रहे हैं.' तमिलनाडु के तटीय इलाकों में बेहद गंभीर चक्रवाती तूफान के तौर पर दस्तक देने वाले चक्रवात निवार से गुरुवार को अलसुबह राज्य में भारी बारिश हुई, खास तौर पर उत्तरी इलाकों में.

चक्रवात से तमिलनाडु में तीन लोगों की मौत, 1,000 से ज्यादा पेड़ उखड़ गए
भीषण चक्रवाती तूफान निवार गुरुवार को पुडुचेरी के पास समुद्र तट पर पहुंच गया वहीं इस वजह से हुयी भारी बारिश के कारण तमिलनाडु में तीन लोगों की मौत हो गयी और 1,000 से अधिक पेड़ उखड़ गए तथा कई निचले इलाकों में पानी भर गया. इसके बाद निवार कमजोर होकर चक्रवाती तूफान में तथा उसके बाद और गहरे कम दबाव के क्षेत्र में तब्दील हो गया. भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के अधिकारियों के अनुसार यह दोपहर में 1430 बजे तिरुपति से पश्चिम दक्षिण-पश्चिम में केंद्रित था. आईएमडी के अनुसार, अगले छह घंटों में यह कम दबाव के क्षेत्र में बदल जाएगा.
ये भी पढ़ें: Cyclone Nivar: तमिलनाडु में भारी नुकसान, 1,086 पेड़ और 77 खंभे उखड़े, 1500 हेक्टेयर कृषि भूमि बर्बाद



ये भी पढ़ें: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह बोले- आतंकवाद का मॉडल ध्वस्त, फिर नहीं हो सकता 26/11 जैसा हमला

इस तूफान के कारण तमिलनाडु और पुडुचेरी में भारी बारिश हुयी जिससे बड़ी संख्या में पेड़ उखड़ गए वहीं निचले इलाकों में पानी भर गया. केन्द्रीय मंत्री अमित शाह ने ट्वीट किया, 'हम तमिलनाडु और पुडुचेरी में चक्रवात निवार की स्थिति पर करीबी नजर बनाए हुए हैं. तमिलनाडु और पुडुचेरी के मुख्यमंत्रियों से बातचीत की और उन्हें केन्द्र की ओर से हरसंभव मदद का आश्वासन दिया है. एनडीआरएफ के दल लोगों की मदद के लिए पहले ही मौके पर मौजूद हैं.'

अधिकारियों ने बताया कि तमिलनाडु में तीन लोगों की मौत हो गयी और 1,086 पेड़ उखड़ गए. उन सभी पेड़ों को हटा दिया गया है. कई पेड़ बिजली के तारों पर और वाहनों पर भी गिर गए. चेन्नई में, कई इलाकों में नागरिकों ने इंटरनेट सेवाओं के बाधित होने की शिकायत की. पुडुचेरी के मुख्यमंत्री वी. नारायणसामी ने कुडलूर का दौरा किया और वहां नुकसान का जायजा लिया. पानी भरे इलाकों में बचाव कर्मियों ने नावों का उपयोग कर लोगों तक खाना पहुंचाया वहीं कुछ लोग रिश्तेदारों के यहां चले गए. शहरी इलाकों में नगर निकाय के कार्यकर्ताओं ने जमा हो गए पानी को बाहर निकाला.

अधिकारियों ने बताया कि हाल के वर्षों में बुनियादी ढांचे को मजबूत बनाने से पानी को बाहर निकालने में काफी मदद मिली. हवाई अड्डे, मेट्रोरेल और बसों का संचालन बृहस्पतिवार को फिर से शुरू हो गया. कई जिलों में 24 नवंबर से ही स्थगित राज्य परिवहन बस सेवाएं दोपहर में फिर शुरू हो गयीं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज