Home /News /nation /

21 हजार करोड़ रुपये की हेरोइन तस्करी मामले में अब तक 8 आरोपी गिरफ्तार, NIA ईरान अथॉरिटी को लिखेगी पत्र

21 हजार करोड़ रुपये की हेरोइन तस्करी मामले में अब तक 8 आरोपी गिरफ्तार, NIA ईरान अथॉरिटी को लिखेगी पत्र

DRI द्वारा इस मामले में अबतक कुल 8 आरोपियों को गिरफ्तार हो चुकी है.(फाइल फोटो)

DRI द्वारा इस मामले में अबतक कुल 8 आरोपियों को गिरफ्तार हो चुकी है.(फाइल फोटो)

DRI के वरिष्ठ सूत्रों के मुताबिक सितबंर में यह मादक पदार्थ को शीप में कंधार (Kandahar) से हसन हुसैन लिमिटेड नाम की कंपनी से आयात किया गया था. आयात (Import) करने के वक्त में यह बताया गया था, इस कंसाइनमेंट में टेलकम पाउडर (Talcum Powder) है , इस कंसाइनमेंट को अफगानिस्तान से टैल्क पत्थरों के नाम पर आयात करने का दावा किया गया था. जिसे ईरान (Iran) की बंदर अब्बास पोर्ट (Bandar Abbas Port,Iran) से गुजरात (Gujarat) की मुंद्रा पोर्ट के लिए भेजा गया था.

अधिक पढ़ें ...

अनई दिल्ली: केंद्रीय जांच एजेंसी एनआईए (NIA) बहुत जल्द ही ईरान की जांच एजेंसी और वहां की संबंधित अथॉरिटी को एक खत लिखने वाली है और गुजरात के मुंद्रा बंदरगाह (Mundra Port ) पर जब्त करीब तीन हजार किलोग्राम मादक पदार्थ की तस्करी (drugs smuggling case) से संबंधीत मसले से जानकारी मांगने वाली है, पिछले कुछ दिनों पहले जिस तरह से भारतीय जांच एजेंसी डीआरआई (DRI) द्वारा एक बड़ी कार्रवाई को अंजाम देते हुए करीब 21 हजार करोड़ रूपये की अनुमानित बाजार मूल्य के करीब तीन हजार किलोग्राम मादक पदार्थ (Drugs) को जब्त किया गया था, जिसका कनेक्शन अफगानिस्तान से होते हुए ईरान का कनेक्शन सामने आया था. लिहाजा इसी बात की गंभीरता को देखते हुए ईरान की जांच एजेंसी से भारतीय जांच एजेंसी एनआईए की टीम तमाम जानकारियों और सबूतों की मांग कर सकती है.

इसके साथ ही इस मसले पर भारतीय जांच एजेंसी एनआईए को उसकी तफ्तीश मामले में मदद करने की अपील भी कर सकती है. क्योंकी इस मादक पदार्थ की तस्करी का कनेक्शन ईरान और अफगानिस्तान से सीधे तौर पर जुड़ता हुआ प्रतीत हो रहा है. लिहाजा भारतीय विदेश मंत्रालय के माध्यम से इस अपील को ईरान की संबंधीत जांच एजेंसी और वहां की विदेश मंत्रालय को भी सूचित किया जाएगा.
क्या है DRI की तफ़्तीश, जिसे NIA ने किया था टेकओवर
DRI के वरिष्ठ सूत्रों के मुताबिक सितबंर में यह मादक पदार्थ को शीप में कंधार (Kandahar) से हसन हुसैन लिमिटेड नाम की कंपनी से आयात किया गया था. आयात (Import) करने के वक्त में यह बताया गया था, इस कंसाइनमेंट में टेलकम पाउडर (Talcum Powder) है , इस कंसाइनमेंट को अफगानिस्तान से टैल्क पत्थरों के नाम पर आयात करने का दावा किया गया था. जिसे ईरान (Iran) की बंदर अब्बास पोर्ट (Bandar Abbas Port,Iran) से गुजरात (Gujarat) की मुंद्रा पोर्ट के लिए भेजा गया था. डीआरआई के अधिकारी के मुताबिक नशे की यह खेप हैदराबाद के विजयवाड़ा में स्थित आशी ट्रेडिंग कंपनी के द्वारा आयात किए गए समान के अंदर छुपाकर लाया गया था, लेकिन DRI की विशेष खुफिया विंग को इस मसले की जानकारी हुई जिसके बाद इस ऑपरेशन को अंजाम दिया गया.

यह भी पढ़ें- Goa Elections : राहुल गांधी ने पहले फुटबॉल को मारी ‘किक’ फिर बोले- कांग्रेस पार्टी में दलबदलुओं की कोई जगह नहीं

डीआरआई के अधिकारियों ने शुरुवाती तफ्तीश के दौरान 2,988 किलोग्राम हेरोइन बरामद किया गया और उसी दौरान दो लोगों को गिरफ्तार किया गया ,जो एक कपल हैं और वो दोनों चेन्नई मूल के रहने वाले हैं. इस कपल के पास ही आयत -निर्यात का लाइसेंस था, जिसका प्रयोग हेरोइन की अवैध तस्करी (Semi-processed Talc stones) के लिए किए जाने का आरोप है. लिहाजा इस मामले की भी आगे की तफ़्तीश की जा रही है.

केंद्रीय खुफिया निदेशालय यानी डीआरआई (Directorate of Revenue Intelligence) द्वारा की गई कार्रवाई और तफ़्तीश के बाद जांच एजेंसी को कई महत्वपूर्ण जानकारियों वाली कई महत्वपूर्ण फाइल समेत गिरफ्तार आरोपियों का बयान सहित अन्य सबूत जांच एजेंसी एनआईए के साथ साझा किया जा चुका है. अब तक हुई डीआरआई की तफ्तीश में जिस तरह से कई विदेशी आतंकियों, विदेशी ड्रग्स तस्करों और संगठनों की भूमिका इस मामले में देखने को मिली है और उससे जुड़े इनपुट्स मिले हैं, उसकी गंभीरता को देखते हुए केंद्रीय जांच एजेंसी एनआईए ( NIA) को इस मामले की तफ्तीश का जिम्मा सौंपा गया है.

DRI द्वारा इस मामले में अबतक कुल 8 आरोपियों को गिरफ्तार हो चुकी है. डीआरआई के के मुताबिक दिल्ली (Delhi) और ग्रेटर नोएडा (Gretar Noida) गिरफ्तार आरोपियों में चार आरोपी अफगानिस्तान (Afganistan) मूल के लोगों को गिरफ्तार किया गया था. उसके बाद जब उनलोगों का बयान दर्ज किया गया तब कई महत्वपूर्ण इनपुट्स जांच एजेंसी को मिले हैं. इसी के आधार पर एनआईए की टीम आगे की तफ्तीश कर रही है, जिससे डीआरआई की टीम विस्तार से इस मामले से जुड़े कई तस्करों -आतंकी संगठनों के बीच के कनेक्शन पर विस्तार से कई शहरों में कई अन्य लोगों से पूछताछ कर रही है।। इस मामले में एनआईए की टीम मचवराम सुधाकरन (Machavaram Sudhakaran) ,दुर्गा पीवी गोविंद राजू (Durga PV Govindaraju), राजकुमार पी (Rajkumar P) सहित अन्य गिरफ्तार अफगानिस्तान मूल के आरोपियों से पूछताछ कर चुकी है. इस नारकोटिक्स मामले में आरोपियों का कनेक्शन दिल्ली, मुम्बई, गुजरात, चेन्नई, उत्तरप्रदेश सहित कई राज्यों से फिलहाल जुड़ा है लेकिन अब इस जांच में विदेशी कनेक्शन को खंगालने में जांच एजेंसी जुटी हुई है.

Tags: Drugs case, Gujarat, Iran, NIA

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर