Assembly Banner 2021

कोरोना का कहर: महाराष्ट्र में 4 महीने में सबसे ज्यादा केस, केरल में भी नहीं थम रहा प्रकोप

मुंबई में कोरोना के मद्देनजर नियमों को सख्त किया जा रहा है. (तस्वीर AP)

मुंबई में कोरोना के मद्देनजर नियमों को सख्त किया जा रहा है. (तस्वीर AP)

अगर देश के कुल मामलों से तुलना की जाए तो तकरीबन 60 से 70 प्रतिशत मामले इन्हीं दोनों राज्यों से सामने आ रहे हैं. महाराष्ट्र (Maharashtra) में स्थिति और भी ज्यादा भयावह है. यही वजह है कि राज्य के कई जिलों में लॉकडाउन (Lockdown) सहित अन्य प्रतिबंध लगा दिए गए हैं.

  • Share this:
मुंबई/तिरुवनंतपुरम. देश के दो राज्यों में कोरोना की स्थिति चिंताजनक बनती जा रही है. एक तरफ महाराष्ट्र (Maharashtra) में बुधवार को 9855 मामले सामने आए तो दूसरी तरफ केरल (Kerala) में तकरीबन 2700 केस. अगर देश के कुल मामलों से तुलना की जाए तो तकरीबन 60 से 70 प्रतिशत मामले इन्हीं दोनों राज्यों से सामने आ रहे हैं. महाराष्ट्र में स्थिति और भी ज्यादा भयावह है. यही वजह है कि राज्य के कई जिलों में लॉकडाउन सहित अन्य प्रतिबंध लगा दिए गए हैं.

महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई पर एक बार फिर कोरोना की 'बड़ी गिरफ्त' का खतरा मंडरा रहा है. इसी के मद्देनजर मुंबई के पुलिस आयुक्त परमवीर सिंह ने बुधवार को मास्क नहीं पहनने वाले लोगों के खिलाफ अभियान तेज करते हुए पुलिस से प्रत्येक जोन में नियमों का उल्लंघन करने वाले कम से कम 1,000 लोगों से जुर्माना वसूलने को कहा है.

ब्राजील से वापस आने वालों को सात दिन का होम क्वारंटाइन
महाराष्ट्र के स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक इस वक्त राज्य में 3,60,500 लोग होम क्वारंटाइन में हैं. इस बीच बीएमसी ने कहा है कि ब्राजील से वापस आने वाले सभी मराठी लोगों को सात दिन तक होम क्वारंटाइन में रहना होगा. यात्रियों को ऐसा रिपोर्ट पॉजिटिव या निगेटिव दोनों ही स्थितियों में करना होगा. गौरतलब कि राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे आगाह कर चुके हैं कि नियम न मानने पर एक और लॉकडाउन के लिए तैयार रहना होगा.
22 राज्यों के 140 जिलों में कोरोना का ग्राफ ऊपर चढ़ा है. सबसे ज्यादा महाराष्ट्र के सभी 36 जिले प्रभावित हैं. इसके अलावा केरल के 9, तमिलनाडु के 7, पंजाब और गुजरात के 6-6 जिले इनमें शामिल हैं.



महाराष्ट्र, केरल सहित कई राज्यों में भेजी गई केंद्रीय टीम
केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों को कोविड-19 को फैलने से रोकने के लिए पर्याप्त कदम उठाने और कड़ी सतर्कता बनाये रखने की सलाह दी गई है. केंद्र सरकार ने कोविड-19 के हाल में बढ़े मामलों से निपटने के लिए उच्च स्तरीय टीमों को महाराष्ट्र, केरल, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, गुजरात, पंजाब, कर्नाटक, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, और जम्मू और कश्मीर रवाना किया है. तीन सदस्यीय टीमों का नेतृत्व स्वास्थ्य मंत्रालय में संयुक्त सचिव स्तर के अधिकारी कर रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज