होम /न्यूज /राष्ट्र /hijab row: हिजाब पहनने से रोकने पर टुकड़े-टुकड़े करने की धमकी दी थी, कांग्रेस नेता मुकर्रम खान गिरफ्तार

hijab row: हिजाब पहनने से रोकने पर टुकड़े-टुकड़े करने की धमकी दी थी, कांग्रेस नेता मुकर्रम खान गिरफ्तार

कांग्रेस नेता मुकर्रम खान कर्नाटक के कलबुर्गी जिले के सेदम में जिला पंचायत सदस्य रहे हैं. (फोटो ANI)

कांग्रेस नेता मुकर्रम खान कर्नाटक के कलबुर्गी जिले के सेदम में जिला पंचायत सदस्य रहे हैं. (फोटो ANI)

hijab controversy: कर्नाटक में कलबुर्गी जिले के सेदम से पूर्व जिला पंचायत सदस्य मुकर्रम खान (Mukarram Khan) का पिछले मह ...अधिक पढ़ें

बेंगलुरुः हिजाब मामले (Hijab row) को लेकर भड़काऊ बयान देने के आरोपी कांग्रेस नेता मुकर्रम खान (Mukarram Khan) पर शिकंजा कस गया है. कर्नाटक पुलिस ने कलबुर्गी जिले के सेदम से पूर्व जिला पंचायत सदस्य मुकर्रम खान को कस्टडी में ले लिया है. पिछले महीने सामने आए एक वीडियो में मुकर्रम खान हिजाब पहनने से रोकने पर टुकड़े-टुकड़े करने की धमकी देते हुए कथित तौर पर नजर आए थे. इस बयान पर हंगामे के बाद कलबुर्गी (Kalaburgi) में उनके खिलाफ केस दर्ज हुआ था.

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, पुलिस ने जानकारी दी है कि कांग्रेस के नेता मुकर्रम खान को हैदराबाद से पकड़ा गया. उन्हें जल्द ही कोर्ट में पेश करके कस्टडी की मांग की जाएगी. मुकर्रम खान का पिछले महीने फरवरी में एक वीडियो सामने आया था. उसमें वह कथित तौर पर कहते हुए दिखाई दे रहे थे कि हम यहीं पर पैदा हुए हैं और पले-बढ़े हैं. हम यहीं भारत में रहेंगे और यहीं पर अपनी जान दे देंगे. जो भी हमारे बच्चों को हिजाब पहनने से रोक रहे हैं, उनके टुकड़े-टुकड़े कर दिए जाएंगे. वह आगे कहते हुए सुनाई दिए थे कि हम ये सब सहन नहीं करेंगे.

कर्नाटक में छात्राओं को हिजाब पहनकर स्कूल-कॉलेज जाने से रोकने को लेकर चल रहे विवाद के बीच कांग्रेस नेता मुकर्रम खान का ये कथित वीडियो सामने आया था. इस विडियो के बाद काफी हंगामा हुआ था. हिंदू संगठनों ने विरोध प्रदर्शन भी किए. विश्व हिंदू परिषद के जिला सचिव शिवकुमार ने इसे लेकर पुलिस में शिकायत भी दी थी. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, इस शिकायत के बाद 18 फरवरी को सेदम पुलिस स्टेशन में मुकर्रम खान के खिलाफ आईपीसी की धारा 153 (ए), 298 और 295 के तहत केस दर्ज किया गया था.

छात्राओं के हिजाब पहनने का मामला कर्नाटक हाईकोर्ट तक पहुंच गया था. अदालत में छात्राओं की तरफ से शिक्षण संस्थानों के अंदर हिजाब पहनकर आने का अधिकार दिए जाने की मांग की गई. सुनवाई के दौरान कर्नाटक सरकार की ओर से दलील दी गई कि हिजाब इस्लाम की अनिवार्य प्रथा का हिस्सा नहीं है. हाईकोर्ट ने इस मामले पर फैसला आने तक स्कूल कॉलेजों में किसी भी तरह की धार्मिक पोशाक पहनकर आने पर अंतरिम रोक लगा रखी है. अदालत में दो हफ्ते तक चली सुनवाई के बाद कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है.

Tags: Hijab controversy

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें