लाइव टीवी

हिमंत सरमा बोले- नागरिकता विधेयक का असम पर नहीं पड़ेगा बुरा असर

News18Hindi
Updated: December 12, 2019, 6:56 PM IST
हिमंत सरमा बोले- नागरिकता विधेयक का असम पर नहीं पड़ेगा बुरा असर
बीजेपी की असम इकाई और असम सरकार लगातार लोगों से शांति की अपील कर रही है.

संसद से नागरिकता संशोधन विधेयक (Citizen amendment bill 2019) पास होने के बाद असम में हिंसक प्रदर्शन शुरू हो गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 12, 2019, 6:56 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. असम (Assam) के मंत्री हिमंत बिस्व सरमा (Himant Biswa sarma) ने नागरिकता (संशोधन) विधेयक (Citizen amendment bill 2019) पर लोगों की शंकाओं को दूर करते हुए कहा कि इससे राज्य पर प्रतिकूल असर नहीं पड़ेगा और असम समझौते का खंड छह लागू करने से ‘राजनीतिक स्थिरता’ की नयी उम्मीद जगेगी. विधेयक को ‘ऐतिहासिक’ बताते हुए पूर्वोत्तर के लिए भाजपा के महत्वपूर्ण रणनीतिकार सरमा ने कहा कि विधेयक के कारण दीर्घकालिक असर नहीं पड़ेगा.

नागरिकता संशोधन विधेयक को लेकर असम और त्रिपुरा सहित पूर्वोत्तर के अन्य राज्यों में जबरदस्त विरोध प्रदर्शन हो रहा है. लोग कर्फ्यू की अवहेलना कर सड़कों पर निकल रहे हैं . मुख्यमंत्री और केंद्रीय मंत्री के आवासों पर पथराव की भी घटनाएं सामने आयी हैं.

सरमा ने कहा, ‘गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) द्वारा असम समझौते के खंड छह को लागू करने के वादे से असम में राजनीतिक स्थिरता की नयी उम्मीद जगेगी. इसलिए मेरा मानना है कि दीर्घकालिक असर नहीं होंगे.’ सरमा ने दावा किया कि पूर्वोत्तर के सभी क्षेत्रीय दलों ने, आधिकारिक तौर पर कांग्रेस नीत संप्रग के साथ रहने वालों ने भी विधेयक का समर्थन किया.

उन्होंने दावा किया, ‘यह ध्यान दिलाना महत्वपूर्ण है कि बुधवार को राज्यसभा में वोटिंग में पूर्वोत्तर के सभी क्षेत्रीय दलों ने विधेयक के पक्ष में वोट किया. अटकलें थीं कि राजग से जुड़े पूर्वोत्तर के दल पक्ष में वोट शायद नहीं करेंगे . लेकिन अंत में सिर्फ राजग से जुड़े दलों ने ही नहीं बल्कि संप्रग के साथ आधिकारिक तौर पर जुड़े एनपीएफ ने भी विधेयक के पक्ष में वोट दिया.’

भाजपा नेतृत्व वाले पूर्वोत्तर जनतांत्रिक गठबंधन (एनईडीए) के संयोजक सरमा ने कहा कि आने वाले समय में विधेयक से पार्टी को मदद मिलेगी.

गुवाहाटी में असम के डीजीपी के काफिले पर पथराव
वहीं असम के पुलिस प्रमुख भास्कर ज्योति महंत के काफिले पर पथराव किया गया. यह हमला उस वक्त हुआ, जब वह नागरिकता (संशोधन) विधेयक के खिलाफ हिंसक प्रदर्शन का सामना कर रहे शहर का दौरा कर रहे थे. महंत का काफिला क्रिश्चियन बस्ती के पास गुवाहाटी-शिलांग रोड पर था, जहां यह हमला हुआ. काफिले में मौजूद कई वाहनों पर पथराव किया गया.काफिले को कई बार रुकना पड़ा क्योंकि पूरे मार्ग को प्रदर्शनकारियों ने बाधित कर रखा था. उन्होंने सड़क पर लकड़ी और लोहे के बैरीकेड लगा रखे थे. काफिले के वाहनों को जब क्रिश्चियन बस्ती इलाके में रोका गया और सुरक्षा कर्मी सड़क से अवरोधकों को हटाने जुटे थे तभी कुछ प्रदर्शनकारियों ने पथराव किए. हालांकि, इसमें किसी को चोट नहीं लगी और कोई नुकसान नहीं हुआ.

मौके पर मौजूद एवं घटना को कवर कर रहे पीटीआई के पत्रकार को भी पत्थर लगे.

यह भी पढ़ें: CAB: कांग्रेस का तंज- मोदीजी, असम के लोग आपका संदेश नहीं पढ़ सकते...

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 12, 2019, 6:52 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर