लाइव टीवी

J-K: 3 पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद 10 SPO ने छोड़ी नौकरी! गृह मंत्रालय ने बताया अफवाह

News18Hindi
Updated: September 21, 2018, 3:56 PM IST
J-K: 3 पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद 10 SPO ने छोड़ी नौकरी! गृह मंत्रालय ने बताया अफवाह
जम्मू-कश्मीर में हाल के दिनों में पुलिसकर्मियों पर हमले बढ़े हैं.

दो मिनट का एक वीडियो भी वायरल हुआ है जिसमें हिजबुल का बैनर है और उसके जरिए धमकी दी गई है. माना जा रहा है कि वीडियो में हिजबुल के प्रवक्ता उमर इब्ल खिताब की आवाज है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 21, 2018, 3:56 PM IST
  • Share this:
जम्मू- कश्मीर  में एक के बाद एक पुलिसकर्मियों की हत्या की जा रही है. हिजबुल आतंकी की धमकी के बाद शुक्रवार को शोपियां जिले में 4 पुलिसकर्मियों को अगवा कर लिया गया. प्राप्त जानकारी के मुताबिक, इनमें से 3 पुलिसवालों की आतंकियों ने हत्या कर दी है. जबकि, एक पुलिसकर्मी को छोड़ने की खबर है.

वहीं, तीन पुलिसकर्मियों की हत्‍या के बाद जम्मू-कश्मीर पुलिस के 10 एसपीओ के इस्‍तीफे की चर्चा है. हालांकि, गृह मंत्रालय ने इसे महज अफवाह करार दिया है. गृह मंत्रालय ने कहा कि राज्य में 30,000 SPO हैं, जिनकी ड्यूटी लगातार रिव्यू होती रहती है.

मंत्रालय ने कहा कि इसी वर्ष में सिर्फ शोपियां में ही 28 आतंकियों को मार गिराया गया है, यही कारण है कि शोपियां में आतंकी बौखलाए हुए हैं

जम्‍मू कश्‍मीर: तीन पुलिसकर्मियों की हत्‍या के बाद 4 एसपीओ ने दिया इस्‍तीफा

शुक्रवार सुबह जिन पुलिसकर्मियों का अपहरण हुआ था, उनकी पहचान फिरदौस अहमद, कुलदीप सिंह, निसार अहमद धोबी और फैयाज अहमद भट के तौर पर हुई है. इनमें से तीन की हत्या कर दी गई, जबकि एक को चेतावनी देकर छोड़ा गया है. तीनों पुलिसकर्मियों के शव वनगाम इलाके के जंगल में बरामद हुए हैं.



इससे पहले हिजबुल ने धमकी दी थी कि अगर सरकारी कर्मचारी और सुरक्षा बलों के लोग चार दिन के भीतर इस्तीफा नहीं देंगे, तो उन्हें इसके गंभीर परिणाम भुगतने होंगे.

यह भी पढे़ें: कश्मीर: निकाय चुनावों का विरोध कर रहे लोगों ने शोपियां पंचायत घर में लगाई आग

इस संबंध में दो मिनट का एक वीडियो भी वायरल हुआ है जिसमें हिजबुल का बैनर है और उसके जरिए धमकी दी गई है. माना जा रहा है कि वीडियो में हिजबुल के प्रवक्ता उमर इब्ल खिताब की आवाज है. वीडियो में यह भी कहा गया है कि इस संदेश के साथ एक शख्स स्थानीय इलाके में उन परिवारों के पास है जिनके परिजन सुरक्षाबलों में हैं.

बता दें कि कश्मीर घाटी में इससे पहले कई पुलिसकर्मियों को किडनैप कर उनकी निर्मम तरीके से हत्या कर दी थी. जिसके बाद से ही घाटी में काफी बवाल है. अभी पिछले महीने ही आतंकियों ने पुलिसकर्मियों के 10 परिजनों को किडनैप कर लिया गया था, हालांकि बाद में उन्हें छोड़ दिया था.

आतंकियों का कहना था कि पुलिसकर्मी उनके परिवार के कुछ सदस्यों को ले गए हैं और वे चाहते हैं कि उन्हें छोड़ दिया जाए.

सोशल मीडिया पर पोस्ट की गई एक ऑडियो क्लिप में, हिजबुल मुजाहिदीन परिचालन कमांडर रियाज नायकू ने कहा था कि लड़ाई भारत के खिलाफ थी लेकिन कश्मीर पुलिस "भारतीय षड्यंत्र का शिकार" और इसकी अगुआई कर रही थी.

नायकू ने कहा, 'हमने इसे बहुत दिन तक बर्दाश्त किया है और पुलिस को समझाने की कोशिश की लेकिन उन्होंने नहीं सुनी. अब से हम इसकी अनुमति नहीं देंगे.'

यह भी पढे़ें: BSF जवान के बेटे ने कहा- अभी तो हमें शहादत पर गर्व है, लेकिन 2-3 दिन बाद क्या होगा?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 21, 2018, 9:43 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर