अपना शहर चुनें

States

कर्नाटक में बोले अमित शाह- किसानों की भलाई के लिए समर्पित है मोदी सरकार, नए कानून से कई गुना बढ़ेगी आमदनी

अमित शाह
अमित शाह

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने एक बार फिर से दोहराया कि नए कृषि कानून से किसानों की आय बढ़ेगी. उन्होंने कहा, 'नरेंद्र मोदी सरकार किसानों के कल्याण के लिए काम करने के लिए प्रतिबद्ध है.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 17, 2021, 6:41 PM IST
  • Share this:
बागलकोट. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने किसान आंदोलन को लेकर कांग्रेस पर तीखा हमला किया है. अमित शाह ने कांग्रेस से पूछा है कि आखिर उसने किसानों को सालाना 6 हजार रुपये क्यों नहीं दिए. उन्होंने एक बार फिर से दोहराया है कि नए कृषि कानून (New Farm Laws) से किसानों की आय बढ़ेगी. शाह ने ये बातें कर्नाटक के बागलकोट में एक रैली के दौरान कही. बता दें कि अमित शाह इस वक्त दो दिनों के दौरे पर कर्नाटक में हैं.

अमित शाह ने कहा, 'मैं उन कांग्रेस के नेताओं से पूछना चाहता हूं जो किसानों के पक्ष में बात कर रहे हैं. आपने किसानों को 6,000 रुपये प्रति वर्ष क्यों नहीं दिए या जब आप सत्ता में थे तब प्रधानमंत्री आवास बीमा योजना या संशोधित इथेनॉल नीति बनाई? क्योंकि आपका इरादा सही नहीं था.'







अमित शाह ने एक बार फिर से दोहराया कि नए कृषि कानून से किसानों की आय बढ़ेगी. उन्होंने कहा, 'नरेंद्र मोदी सरकार किसानों के कल्याण के लिए काम करने के लिए प्रतिबद्ध है. तीनों कृषि कानून किसानों की आय को कई गुना बढ़ाने में मदद करेंगे. अब किसान देश और दुनिया में कहीं भी कृषि उत्पाद बेच सकते हैं.'

ये भी पढ़ें:- ब्रिटेन के प्रधानमंत्री जॉनसन ने PM मोदी को जी-7 शिखर सम्मेलन का भेजा न्योता

बता दें कि किसान आंदोलन लगातार जारी है और अब तक सरकार के साथ किसानों के बीच कई मुद्दों पर सहमति नहीं बनी है.  केंद्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने शुक्रवार को आंदोलनरत किसान संगठनों से कहा कि वे एक आपसी अनौपचारिक समूह बनाकर तीनों कृषि कानूनों पर यदि कोई ठोस मसौदा सरकार के समक्ष पेश करते हैं तो वो 'खुले मन' से उसपर चर्चा करने को तैयार है. उन्होंने कहा कि सरकार और किसान संगठनों के प्रतिनिधियों से नौवें दौर की वार्ता 'सौहार्दपूर्ण माहौल' में हुई लेकिन कोई नतीजा नहीं निकल सका. हालांकि उन्होंने उम्मीद जताई कि 19 जनवरी को होने वाली अगले दौर की बैठक में किसी निर्णय पर पहुंचा जा सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज