होम /न्यूज /राष्ट्र /कोई बुलेटप्रूफ कवर नहीं, खुलकर लोगों से मिले, लाल चौक भी शांत! कश्मीर में क्या संदेश दे गए गृह मंत्री शाह

कोई बुलेटप्रूफ कवर नहीं, खुलकर लोगों से मिले, लाल चौक भी शांत! कश्मीर में क्या संदेश दे गए गृह मंत्री शाह

Srinagar News: गृह मंत्री अमित शाह ने बारामूला दौरे के बीच किसी तरह की सुरक्षा व्यवस्था का इस्तेमाल नहीं किया. वह खुलकर लोगों से मिले.

Srinagar News: गृह मंत्री अमित शाह ने बारामूला दौरे के बीच किसी तरह की सुरक्षा व्यवस्था का इस्तेमाल नहीं किया. वह खुलकर लोगों से मिले.

Jammu-Kashmir Politics: जम्मू-कश्मीर के बारामूला का नजारा गुरुवार को पूरी तरह बदला हुआ था. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

गृह मंत्री अमित शाह ने बिना बुलेटप्रूफ शील्ड किया बारामूला का दौरा
दिया संदेश- श्रीनगर का लाल चौक शांत और घाटी में सबकुछ ठीक
केंद्रीय गृह मंत्री ने छठी पातशाही गुरुद्वारा में टेका माथा, की अरदास

श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर के बारामूला में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के दौरे ने एक साथ कई संदेश दिए. शाह ने जब यहां जनता को संबोधित करना शुरू किया तो उन्होंने बुलेटप्रूफ शील्ड का इस्तेमाल नहीं किया. बारामूला में उनका बुलेटप्रूफ शील्ड इस्तेमाल न करना इसलिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह इलाका कभी आतंकियों के गढ़ में से एक हुआ करता था. केंद्रीय गृह मंत्री ने यह कदम उठाकर संदेश दिया कि लाल चौक शांत है और घाटी में सबकुछ ठीक है. इस बार उनके दौरे के बीच किसी भी तरह की हड़ताल नहीं हुई.

गुरुवार को हुई इस रैली में गृह मंत्री अमित शाह बिना किसी परेशानी के लोगों से घुल-मिल गए. वह लोगों के पास गए और अभिवादन भी स्वीकार किए. खास बात यह है कि उनके श्रीनगर दौरे के दौरान लाल चौक के साथ-साथ पूरा इलाका खुला हुआ था. कहीं, कोई बंदिश नहीं थी. इतिहास में शायद ही कभी ऐसा हुआ हो कि किसी हाई प्रोफाइल शख्स ने श्रीनगर की यात्रा की हो और वहां दुकाने न बंद हुई हों.

गुरुद्वारे में की अरदास
गृह मंत्री अमित शाह इस बार उस जगह भी गए जो ग्रेनेड अटैक और पत्थरबाजी के कुख्यात है. शाह रैनावरी इलाके में स्थित छठी पातशाही गुरुद्वारा गए. वह पहले गृह मंत्री हैं जिन्होंने वहां माथा टेका. उनके इस कदम को भी राजनीतिक रूप से अहम माना जा रहा है. हालांकि, साल 2016 में तत्कालीन गृह मंत्री राजनाथ सिंह श्रीनगर की हजरतबल मस्जिद गए थे.

‘टेरेरिस्ट हॉटस्पॉट’ से ‘टूरिस्ट हॉटस्पॉट’ का सफर
गृह मंत्री अमित शाह ने जनता के सामने आतंकवाद की कड़ी निंदा की. उन्होंने कहा कि अब घाटी के हालात सामान्य हो रहे हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यहां अलगाववाद और आतंकवाद का खात्मा चाहते हैं. और जम्मू-कश्मीर भारत का स्वर्ग बन रहा है. मैं जनता से अपील करता हूं कि जम्मू-कश्मीर से आंतकवाद की जड़ें उखाड़ फेंकें. मोदी सरकार आतंकवाद बिल्कुल बरदाश्त नहीं करेगी. उन्होंने कहा कि कभी यह इलाका ‘टेरेरिस्ट हॉटस्पॉट’ था, जबकि आज ‘टूरिस्ट हॉटस्पॉट’ है.

युवाओं को पत्थर की जगह दिए लैपटॉप- शाह
उन्होंने कहा- ‘पहले हर साल करीब 6 लाख पर्यटक यहां घूमने आते थे, जबकि इस साल अभी तक 22 लाख पर्यटक आ चुके हैं. इससे यहां के हजारों युवाओं को रोजगार मिला. पहले, घाटी के युवाओं के हाथों में पत्थर और बंदूकें थमाई जाती थीं, लेकिन आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यहां उद्योगों को स्थापित कर युवाओं को लैपटॉप और मोबाइल थमाए हैं, ताकि उन्हें रोजगार मिल सके.’

Tags: Amit shah, Jammu and kashmir, Terrorism

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें