Home /News /nation /

गृह मंत्री अमित शाह का कश्मीर दौरा, नागरिकों की हत्या और घुसपैठ को लेकर अधिकारियों से पूछे कई सवाल

गृह मंत्री अमित शाह का कश्मीर दौरा, नागरिकों की हत्या और घुसपैठ को लेकर अधिकारियों से पूछे कई सवाल

अधिकारियों ने बताया कि शाह ने यहां राजभवन में हुई बैठक में सुरक्षा हालात का जायजा लिया. (फोटो साभार- ट्विटर)

अधिकारियों ने बताया कि शाह ने यहां राजभवन में हुई बैठक में सुरक्षा हालात का जायजा लिया. (फोटो साभार- ट्विटर)

5 अगस्त, 2019 को अनुच्छेद 370 (Article 370) को अधिकतर प्रावधान निरस्त किए जाने और जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित करने के बाद शाह (Amit Shah) की यह पहली कश्मीर यात्रा है. शाह के घाटी दौरे से पहले पूरे कश्मीर में सुरक्षा कड़ी कर दी गई.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली: केद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (AMit Shah) तीन दिन के जम्मू कश्मीर (Jammu kashmir) दौरे पर हैं. 5 अगस्त 2019 को जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म होने के बाद यह पहला मौका है जब गृह मंत्री जम्मू कश्मीर पहुंचे हैं. इससे पहले वह देश के गृह मंत्री बनने के बाद जम्मू कश्मीर पहुंचे थे. अपने दौरे के पहले दिन हीं अमित शाह ने केंद्र शासित राज्य में सुरक्षा स्थिति को लेकर एक उच्च स्तरीय बैठक की. बैठक में उन्होंने सीमा पार से घुसपैठ, आतंकवाद, नागरिकों की हत्या समेत कई मुद्दों पर चर्चा की. इससे पहले जब गृह मंत्री श्रीनगर हवाई अड्डे पर पहुंचे तो उप राज्यपाल मनोज सिन्हा और केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने उनका स्वागत किया.

    केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कश्मीर घाटी में आम नागरिकों खासकर गैर-स्थानीय श्रमिकों और अल्पसंख्यकों पर बढ़े हमलों के मद्देनजर शनिवार को घाटी में सुरक्षा हालात और आतंकवाद से निबटने के लिए उठाए गए कदमों की समीक्षा की. स्थानीय रिपोर्ट में यह कहा गया है कि बैठक में सुरक्षा एजेंसियों ने गृह मंत्री को कट्टरवाद और घरेलू आतंकवाद को राज्य के प्रमुख खतरों के तौर पर बताया है.

    अधिकारियों ने बताया कि शाह ने यहां राजभवन में हुई बैठक में सुरक्षा हालात का जायजा लिया. इस बैठक में उप राज्यपाल मनोज सिन्हा प्रशासन के शीर्ष अधिकारी और सेना, सीआरपीएफ, पुलिस तथा अन्य एजेंसियों के वरिष्ठ सुरक्षा अधिकारी भी शामिल हुए.

    उन्होंने बताया कि गृह मंत्री को जम्मू-कश्मीर से आतंकवाद का सफाया करने के लिए उठाए गए कदमों और बलों द्वारा घुसपैठ रोकने के लिए किए गए उपायों के बारे में जानकारी दी गई.

    यह भी पढ़ें – दिल्ली की अदालत ने व्यक्ति को परेशान करने वाले पुलिसकर्मियों को फटकारा, पूछा- आपके खिलाफ कार्रवाई क्यों न की जाए

    घाटी में इस अक्टूबर माह में 11 आम नागरिकों की हत्या कर दी गई. इसी पृष्ठभूमि में शाह कश्मीर दौरे पर पहुंचे हैं. मारे गए लोगों में से पांच बिहार के श्रमिक थे जबकि दो शिक्षकों समेत तीन लोग कश्मीर में अल्पसंख्यक समुदायों से थे.

    पांच अगस्त, 2019 को अनुच्छेद 370 को अधिकतर प्रावधान निरस्त किए जाने और जम्मू कश्मीर राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित करने के बाद शाह की यह पहली कश्मीर यात्रा है. शाह के घाटी दौरे से पहले पूरे कश्मीर में सुरक्षा कड़ी कर दी गई.

    अधिकारियों ने बताया कि घाटी में सुरक्षा बलों की अतिरिक्त तैनाती की गई है. उन्होंने बताया कि विशेष रूप से यहां शहर में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है. आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि हाल में आम नागरिकों की हत्याओं के मद्देनजर अतिरिक्त अर्द्धसैनिक बलों की 50 कंपनियों को घाटी में तैनात किया जा रहा है.

    Tags: Amit shah, Jammu kashmir

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर