अपना शहर चुनें

States

गृह मंत्री अमित शाह ने अस्पताल जाकर जाना हिंसा में घायल पुलिसकर्मियों का हाल

अमित शाह ने जाना पुलिसकर्मियों का हाल. (Pic- ANI)
अमित शाह ने जाना पुलिसकर्मियों का हाल. (Pic- ANI)

गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने गुरुवार को घायल पुलिसकर्मियों से मुलाकात की. किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान हिंसा की घटनाओं में करीब 394 पुलिसकर्मी घायल हो गए थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 28, 2021, 4:52 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने गुरुवार को दिल्‍ली के अस्‍पताल पहुंचकर गणतंत्र दिवस (Republic Day) के दिन किसानों की ट्रैक्टर रैली (Farmers Tractor Rally) के दौरान हुई हिंसा (Delhi Violence) में घायल हुए पुलिसकर्मियों (Delhi police) का हालचाल जाना. गृह मंत्री पहले सिविल लाइंस स्थित सुश्रुत ट्रामा सेंटर गए. वहां उन्‍होंने अस्‍पताल में भर्ती घायल पुलिसकर्मियों से मुलाकात की. सभी से उन्‍होंने उनका हाल जाना. इसके बाद गृह मंत्री तीरथ राम शाह अस्‍पताल भी गए. वहां भी घायल पुलिसकर्मियों और उनके परिजनों से मुलाकात की.

बता दें कि किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान हिंसा की घटनाओं में करीब 394 पुलिसकर्मी घायल हो गए थे. गणतंत्र दिवस के दिन दिल्‍ली में हुई हिंसा के तुरंत बाद गृह मंत्री अमित शाह ने मंगलवार को उच्‍च स्‍तरीय बैठक भी की थी.

amit shah
अमित शाह ने जाना पुलिसकर्मियों का हाल. (Pic- ANI)




वहीं ट्रैक्टर परेड में हिंसा के एक दिन बाद केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बुधवार को सुरक्षा हालात और शहर में शांति सुनिश्चित करने के लिए उठाए गए कदमों की समीक्षा की थी. बैठक में केन्द्रीय गृह सचिव अजय भल्ला और गृह मंत्रालय तथा दिल्ली पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों ने भी हिस्सा लिया था.
बैठक में राष्ट्रीय राजधानी में शांति सुनिश्चित करने के लिए उठाए गए कदमों के बारे में भी गृह मंत्री को जानकारी दी गई है. वहीं केंद्र सरकार ने कानून व्यवस्था के मुद्दे पर दिल्ली पुलिस के सहयोग के लिए 4,500 अर्द्धसैनिक बल कर्मियों को पहले ही तैनात कर चुकी है.

वहीं पुलिस का कहना है कि ट्रैक्टर परेड में हिंसा में किसान नेताओं की भूमिका की जांच की जाएगी. हिंसा और तोड़-फोड़ में दिल्ली पुलिस के 394 कर्मी घायल हुए हैं. दिल्ली के पुलिस आयुक्त एसएन श्रीवास्तव ने बुधवार को कहा कि किसान यूनियनों ने ट्रैक्टर परेड के लिए तय शर्तों का पालन नहीं किया. परेड दोपहर 12 बजे से शाम पांच बजे के बीच होनी थी और उसमें 5,000 टैक्टरों को शामिल होना था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज