Home /News /nation /

होम मिनिस्ट्री में कॉरपोरेट स्टाइल में काम शुरू, सुरक्षा बलों और एजेंसियों को देनी होती है डेली वर्क रिपोर्ट

होम मिनिस्ट्री में कॉरपोरेट स्टाइल में काम शुरू, सुरक्षा बलों और एजेंसियों को देनी होती है डेली वर्क रिपोर्ट

सभी बलों और पुलिस एजेंसियों को भी हर दिन गृह मंत्रालय को अनुपालन रिपोर्ट जमा करनी होती है. (तस्वीर: ट्विटर/गृह मंत्रालय)

सभी बलों और पुलिस एजेंसियों को भी हर दिन गृह मंत्रालय को अनुपालन रिपोर्ट जमा करनी होती है. (तस्वीर: ट्विटर/गृह मंत्रालय)

गृह मंत्रालय के शीर्ष सूत्र ने जानकारी दी कि BSF, CRPF, CISF, SSB, ITBP सरीखे सभी अर्धसैनिक बलों के साथ-साथ गृह मंत्रालय के मातहत काम करने वाली केंद्रीय जांच एजेंसियों और दिल्ली पुलिस को वर्क रिपोर्ट की जानकारी देनी होती है. सभी बलों, एजेंसियों को वर्क रिपोर्ट में पांच अहम काम या योजनाओं के बारे में सुबह 9 बजे तक गृह मंत्रालय को रिपोर्ट देनी होती है.' एक अधिकारी ने कहा, 'अगर CRPF, BSF जैसे किसी बल या किसी एजेंसी ने कश्मीर या नक्सल क्षेत्र में किसी अभियान की योजना बनाई है, तो उन्हें इसे डेली रिपोर्ट में शामिल करना जरूरी है.'

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. गृह मंत्रालय (Home Ministry) में भी कॉरपोरेट वर्क कल्चर की तर्ज पर काम किया जा रहा है. मंत्रालय में अब सुरक्षा बलों और एजेंसियों को डेली वर्क रिपोर्ट देनी होगी. कुछ हफ्ते पहले गृह मंत्री अमित शाह ने सभी विभाग के प्रमुख अधिकारियों को हर दिन की वर्क रिपोर्ट गृह मंत्री के कार्यालय में जमा करने के लिए कहा था. शीर्ष सूत्रों के मुताबिक दिल्ली पुलिस समेत हर बल, एजेंसी और पुलिस को हर दिन यह करना होता है. सभी सुरक्षाबलों को हर यूनिट से वर्क रिपोर्ट के बारे में जानकारी मिलती है. इसके बाद वरिष्ठ अधिकारी पांच मुख्य बिन्दुओं को गृह मंत्रालय में भेज देते हैं.

शीर्ष सूत्र ने जानकारी दी कि BSF, CRPF, CISF, SSB, ITBP सरीखे सभी अर्धसैनिक बलों के साथ-साथ  गृह मंत्रालय के मातहत काम करने वाली केंद्रीय जांच एजेंसियों और दिल्ली पुलिस को वर्क रिपोर्ट की जानकारी देनी होती है. सभी बलों, एजेंसियों को वर्क रिपोर्ट में पांच अहम काम या योजनाओं के बारे में सुबह 9 बजे तक गृह मंत्रालय को रिपोर्ट देनी होती है.

सूत्रों के मुताबिक सभी बलों और पुलिस एजेंसियों को भी हर दिन मंत्रालय को अनुपालन रिपोर्ट भी देनी होती है. अधिकारी ने नाम ना छापने की शर्त पर News18 को बताया, ‘वरिष्ठ स्तर के अधिकारियों को मंत्रालय में शीर्ष स्तर द्वारा समीक्षा के लिए सुबह 9 बजे तक डेली वर्क रिपोर्ट भेजने का काम सौंपा गया है.’ अधिकारियों ने News18 को बताया कि सभी बलों और पुलिस को अपने कार्य विवरण जैसे ऑपरेशन, सेमिनार, जनता के लिए विशेष काम और शीर्ष अधिकारियों के दौरे की जानकारी मंत्रालय को देनी होती है.

यह भी पढ़ें: Delhi Police में गृह मंत्रालय के आदेशों पर फ‍िर हुए सीन‍ियर IPS अफसरों के तबादले, जानें क‍िसको म‍िली क्‍या ज‍िम्‍मेदारी

शीर्ष स्तर तक पहुंचती है हर रिपोर्ट
एक अधिकारी ने कहा, ‘अगर CRPF, BSF जैसे किसी बल ने या किसी एजेंसी ने कश्मीर या नक्सल क्षेत्र में किसी अभियान की योजना बनाई है, तो उन्हें इसे डेली रिपोर्ट में शामिल करना जरूरी है.’ अधिकारी ने समझाया, ‘उदाहरण के लिए, सभी अर्धसैनिक बल अपने सभी विंग / यूनिट्स से रोजाना किए जाने वाले काम की जानकारी इकट्ठा करते हैं और एक वरिष्ठ अधिकारी सबसे अच्छे पांच काम चुनता है.’

इस प्रक्रिया को शुरू करने का कारण पूछने पर अधिकारी ने कहा, ‘इससे मंत्रालय को सभी बलों और एजेंसियों के रोजाना काम पर निगरानी करने में मदद मिलती है. साथ ही इससे उन्हें अनुपालन रिपोर्ट और प्लान बनाने में मदद मिलेगी. इसे शुरू हुए अब कई सप्ताह हो चुके हैं और रिपोर्ट शीर्ष स्तर तक पहुंचती है.’

Tags: Home ministry

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर