• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • गृह मंत्रालय ने भारत में फंसे विदेशी नागरिकों की वीजा अवधि 3 मई तक बढ़ाई

गृह मंत्रालय ने भारत में फंसे विदेशी नागरिकों की वीजा अवधि 3 मई तक बढ़ाई

विदेशी नागरिकों की वीजा अवधि को बढ़ाया गया.

विदेशी नागरिकों की वीजा अवधि को बढ़ाया गया.

CprpnaVirus: सरकार (Government) ने कहा है कि विदेशी नागरिकों की वीजा अवधि उनकी ओर से ऑनलाइन आवेदन मिलने के बाद ही बढ़ाई जाएगी.

  • Share this:
    नई दिल्ली. केन्द्रीय गृह मंत्रालय (Union Ministry of Home Affairs) ने कोरोना वायरस (CoronaVirus) लॉकडाउन के कारण भारत में फंसे सभी विदेशी नागरिकों के सामान्य और ई-वीजा की अवधि शुक्रवार को बढ़ा कर तीन मई तक कर दी है, साथ ही इसके लिए किसी से कोई शुल्क भी नहीं लिया जाएगा. एक सरकारी बयान के अनुसार, राजनयिकों और संयुक्त राष्ट्र के अधिकारियों के अलावा उन सभी विदेशी नागरिकों का वीजा तीन मई तक निलंबित रहेगा जिन्हें इस अवधि में भारत आना था.

    3 मई तक के लिए बढ़ाया गया वीजा
    मंत्रालय द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि उन सभी विदेशी नागरिकों के सामान्य और ई-वीजा तीन मई की मध्यरात्रि तक के लिए बढ़ाए जाते हैं जो दुनिया भर में कोरोना वायरस संक्रमण फैलने के कारण, भारत सरकार द्वारा यात्रा पाबंदी लगाए जाने की वजह से यहां फंसे हुए हैं, साथ ही जिनका वीजा एक फरवरी (मध्यरात्रि) से तीन मई (मध्यरात्रि) के बीच समाप्त हो रहा है या फिर समाप्त हो गया है.

    सरकार ने कहा है कि विदेशी नागरिकों की वीजा अवधि उनकी ओर से ऑनलाइन आवेदन मिलने के बाद ही बढ़ाई जाएगी.

    केंद्र ने राज्यों को रोहिंग्या शरणार्थियों की कोविड-19 जांच कराने को कहा
    केंद्रीय गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से कहा है कि वे अपने क्षेत्र में रह रहे रोहिंग्या शरणार्थियों की कोविड-19 जांच कराए क्योंकि इनमें से कई दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात के मरकज में आयोजित कार्यक्रम में शामिल हुए थे.

    अधिकारियों ने शुक्रवार को बताया कि मुख्य सचिवों और पुलिस महानिदेशकों से किए गए संवाद में कहा गया कि ऐसी सूचना है कि कई रोहिंग्या मुसलमान तबलीगी जमात के 'इज्तिमास' और अन्य धार्मिक कार्यक्रमों में शामिल हुए थे और उनके कोरोना वायरस से संक्रमित होने की आशंका है.

    रोहिंग्‍या भी जमात के कार्यक्रम में हुए थे शामिल
    मंत्रालय ने कहा कि हैदराबाद के शिविर में रहने वाले रोहिंग्या हरियाणा के मेवात में आयोजित तबलीगी जमात के कार्यक्रम में शामिल हुए थे और वे दिल्ली के निजामुद्दीन में स्थित मरकज भी आए थे. इसी तरह, दिल्ली के श्रम विहार और शाहीनबाग इलाके में रह रहे रोहिंग्या भी तबलीगी जमात के कार्यक्रम में गए थे लेकिन वे वापस अपने शिविरों में नहीं लौटे.

    मंत्रालय ने बताया कि ऐसी खबर है कि पंजाब के डेराबस्सी और जम्मू-कश्मीर के जम्मू इलाके में रोहिंग्या मुस्लिम रहते हैं और वे तबलीगी जमात के कार्यक्रम में शामिल होकर लौटे हैं. राज्यों से किए गए संवाद में केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कहा, 'इसलिए रोहिंग्या मुसलमानों और उनके संपर्क में आने वालों की कोविड-19 जांच कराने की जरूरत है और इसी के अनुरूप प्राथमिकता के आधार पर कदम उठाने की जरूरत है.'

    ये भी पढ़ें: COVID-19: पॉजिटिव और ड्यूटी से डिस्चार्ज दिल्ली पुलिसकर्मियों को मिलेंगे 1 लाख

    ये भी पढ़ें: कोरोना लॉकडाउन: जगन्नाथ मंदिर अपने सेवादारों को देगा 5000 की आर्थिक मदद

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज