Assembly Banner 2021

दार्जिलिंग में हजार रुपए में रहने के साथ ब्रेकफास्‍ट, लंच और डिनर, जानें पर्यटन मंत्रालय की पहल

पर्यटन मंत्रालय लोगों को आत्‍मनिर्भर बनाने के लिए होम स्‍टे बना रहा है. संकेतिक फोटो

पर्यटन मंत्रालय लोगों को आत्‍मनिर्भर बनाने के लिए होम स्‍टे बना रहा है. संकेतिक फोटो

दार्जिलिंग (Darjeeling) में हजार रुपए रोज में एक व्‍यक्ति को रहना, ब्रेकफास्‍ट, लंच और डिनर मिलेगा. पर्यटन मंत्रालय (Ministry of Tourism) होमस्‍टे (Home stay) को बढ़ावा देने के लिए बाकायदा स्‍थानीय लोगों को हास्पिटलिटी (hospitality) के लिए ट्रेनिंग दे रहा है.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. कोरोना की वजह से एक साल से घरों में बंद रहने की वजह से लोगों का मन ऊब गया है, वे कहीं बाहर घूमने का मन तो बना रहे हैं लेकिन इसमें बजट आड़े आ रहा है, क्‍योंकि एक साल में आम लोगों का बजट बिगड़ गया है. ऐसे लोगों के लिए कम बजट में घूमने का सबसे अच्‍छा डेस्‍टीनेशन दार्जिलिंग (Darjeeling) हो सकता है. महज हजार रुपए रोज में एक व्‍यक्ति का रहना, ब्रेकफास्‍ट, लंच और डिनर शामिल होगा. पर्यटन मंत्रालय (Ministry of Tourism) होम स्‍टे  (Home stay) को बढ़ावा देने के लिए बाकायदा स्‍थानीय लोगों को हास्पिटलिटी (hospitality) के लिए ट्रेनिंग प्रोग्राम शुरू कर चुका है.

दार्जिलिंग में मौजूदा समय करीब 700 होम स्‍टे हैं. जहां पर सुविधाएं होटलों जैसी मिलेंगी. शहर से थोड़ा दूर प्रकृति को करीब से देखना चाहते हैं तो लेप्‍चा जगह, तीनचुले, घूमबंगलों आदि कई जगह हैं जहां पर आप सस्‍ते में इंज्‍वाय कर सकते हैं. यहां पर हजार रुपए रोज प्रति व्‍यक्‍ति का रहना, ब्रेकफास्‍ट, लंच और डिनर बस मिल सकता है. जो खाना मिलेगा, वहां का ट्रेडीशनल होगा. होमस्‍टे वर्कशॉप में शामिल हुए अमित सुब्‍बा ने बताया कि यह सुविधा भी मिलेगी कि अगर आप स्‍वयं सब्जियां तोड़कर पकाना चाहते हैं, तो पका सकते हैं. होम स्‍टे के मालिकों ने आर्गनिक सब्‍जियां लगा रखी हैं. लोगों ने घरों पर ही दो या तीन कमरे बनाकर ठहरने की व्‍यवस्‍था कर रखी है.

पर्यटन मंत्रालय लोगों को आत्‍मनिर्भर बनाने के लिए देश के तमाम पर्यटक स्‍थलों पर होम स्‍टे को बढ़ावा दे रहा है, जिससे लोग अपने क्षेत्र में रहकर कमाई कर सकें. इसी को ध्‍यान में रखते हुए मंत्रालय जगह जगह वर्कशाप कर रहा है. हाल ही में दार्जिलिंग में तीन दिवसीय वर्कशॉप आयोजित स्‍थानीय लोगों को हास्पिटलिटी ट्रेनिंग दी गई , जिसमें बताया गया कि आने वाले पर्यटकों का स्‍वागत कैसे करें, उनके साथ व्‍यवहार कैसा रखें. इलाके में कौन कौन जगह पर्यटक स्‍थल में शामिल की जा सकती हैं.  केन्‍द्रीय पर्यटन मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल स्‍वयं वर्कशॉप में शामिल हुए. पर्यटन मंत्रालय की पर्यटक स्‍थल के आसपास रहने वाले लोगों को आत्‍मनिर्भर बनाने के लिए जगह होम स्‍टे बनाने की योजना है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज