अरुणाचल प्रदेश में पांच लोगों के अपहरण पर बोले किरेन रिजिजू- PLA को भेजा गया हॉटलाइन मैसेज

अरुणाचल प्रदेश में पांच लोगों के अपहरण पर बोले किरेन रिजिजू- PLA को भेजा गया हॉटलाइन मैसेज
किरेन रिजीजू ने अरुणाचल प्रदेश में पांच लोगों के पीएलए द्वारा अपहरण किये जाने की खबर पर जवाब दिया है.

Five People Abduct by PLA in Arunachal Pradesh: वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि अरुणाचल प्रदेश के ऊपरी सुबनसिरी (Subansiri) जिले के जंगल में गए पांच लोगों को चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (People's Liberation Army) द्वारा कथित तौर अपहृत कर लिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 7, 2020, 12:36 AM IST
  • Share this:
ईटानगर. अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) की पुलिस ने शिकार के लिए चीन-भारत सीमा (China- India Border) पर स्थित ऊपरी सुबनसिरी (Subansiri) जिले के जंगल में गए पांच लोगों को चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (People's Liberation Army) द्वारा कथित तौर पर अपहृत किये जाने की खबर पर केंद्रीय मंत्री किरेन रिजिजू (Kiren Rijiju) ने जवाब दिया है. किरेन रिजिजू ने कहा है कि इस पर चीन को हॉटलाइन पर मैसेज भेजा गया है. एक ट्वीट के जवाब में कहा कि "भारतीय सेना ने अरुणाचल प्रदेश सीमा पर हुई गतिविधि को लेकर समकक्ष पीपुल्स लिबरेशन आर्मी को हॉटलाइन मैसेज भेज दिया है. जवाब की प्रतीक्षा है."

बता दें अपहृत लोगों के परिवारों ने बताया कि यह घटना शुक्रवार को जिले के नाचो इलाके में हुई थी. लापता लोगों के साथ गए दो लोग किसी तरह बचकर आने में कामयाब हुए और उन्होंने पुलिस को घटना की जानकारी दी. पुलिस अधीक्षक तरु गुस्सर ने कहा, ‘‘ मैंने नाचो पुलिस थाने के प्रभारी को इलाके में तथ्यों की पुष्टि करने के लिए भेजा है और तत्काल रिपोर्ट देने को कहा है.’’ चीनी सेना द्वारा कथित तौर पर जिन लोगों का अपहरण किया गया है, उनकी पहचान तोच सिंगकम, प्रसात रिगलिंग, दोंगतू इबिया, तनू बाकर और नागरु दिरी के तौर पर की गई है और पांचों तागिन समुदाय के हैं.

ये भी पढ़ें- संसद में सरकार के खिलाफ एक साथ मोर्चा खोलने की तैयारी कर रहा विपक्ष



भारतीय सेना से रिश्तेदारों ने की मामले पर चर्चा
जिला मुख्यालय दापोरिजो में रहने वाले अपहृत लोगों के परिजनों ने बताया कि उनके रिश्तेदार भारतीय सेना से मामले पर चर्चा करने के लिए शनिवार सुबह नाचो इलाके के लिए रवाना हुए थे. नाचो इलाका जिला मुख्यालय से करीब 120 किलोमीटर दूर है. परिवार ने प्रशासन से अपहृत लोगों को वापस लाने के लिए कदम उठाने की मांग की थी. मामले पर प्रतिक्रिया के लिए सेना से संपर्क नहीं किया जा सका.

पासीघाट पश्चिम से विधायक नीनॉन्ग इरिंग ने कहा कि इस घटना के लिए पीएलए को मुंहतोड़ जवाब दिया जाना चाहिए.

उल्लेखनीय है कि मार्च में 21 वर्षीय युवक तोगली सिनकम को पीएलए ने मैकमहोन रेखा के नजदीक असापिला सेक्टर में पकड़ लिया था जबकि उसके दो दोस्त बचकर भागने में कामयाब हुए थे. पीएलएल ने करीब 19 दिन तक बंधक बनाए रखने के बाद युवक को रिहा किया. (भाषा के इनपुट सहित)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज