अपना शहर चुनें

States

RSS नहीं पैसों के कारण हुई थी हत्या? CID ने एक पासबुक से सुलझाया मुर्शिदाबाद ट्रिपल मर्डर केस

8 अक्टूबर को मुर्शिदाबाद के जिआगंज मोहल्ला में एक की परिवार के तीन लोगों की हत्या कर दी गई थी
8 अक्टूबर को मुर्शिदाबाद के जिआगंज मोहल्ला में एक की परिवार के तीन लोगों की हत्या कर दी गई थी

मुर्शिदाबाद के जिआगंज मोहल्ला में 8 अक्टूबर को एक ही परिवार के तीन लोगों की हत्या कर दी गई थी. पुलिस ने बंधु प्रकाश पाल (35), उनकी 8 महीने की प्रेग्नेंट पत्नी ब्यूटी पाल (28) और बेटे आंगन पाल (6) की खून से सनी लाश उनके घर से बरामद की. पुलिस ने ट्रिपल मर्डर के आरोप में उत्पल बेहारा को गिरफ्तार किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 16, 2019, 8:04 AM IST
  • Share this:
कोलकाता. पश्चिम बंगाल की क्रिमिनल इनवेस्टिगेशन डिपार्टमेंट (CID) टीम ने मुर्शिदाबाद ट्रिपल मर्डर केस को सुलझा लेने का दावा किया है. पुलिस ने इस केस में उत्पल बेहारा नाम के संदिग्ध को भी गिरफ्तार किया है. उत्पल सागरदिघी के शाहपुर गांव का रहने वाला है, ये गांव मुर्शिदाबाद के जांगीपुर सब-डिवीजन में आता है.

 मुर्शिदाबाद के जिआगंज मोहल्ला में 8 अक्टूबर को एक ही परिवार के तीन लोगों की हत्या कर दी गई थी. पुलिस ने बंधु प्रकाश पाल (35), उनकी 8 महीने की प्रेग्नेंट पत्नी ब्यूटी पाल (28) और बेटे आंगन पाल (6) की खून से सनी लाश उनके घर से बरामद की. सभी के शरीर पर चाकू से गोदने के निशान थे, जबकि बच्चे का गला भी घोंटा गया था. पहले बंधु प्रकाश पाल को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का कार्यकर्ता बताया जा रहा था, लेकिन परिवार ने इससे इनकार किया है.

घर से मिले फिक्स्ड डिपॉजिट के पासबुक
सीआईडी के मुताबिक, अभी तक की जांच में उसे कुछ अहम सबूत मिले हैं, जिससे साबित होता है कि ये हत्या निजी कारणों से ही की गई. इनका कोई राजनीतिक आधार नहीं है. सीआईडी टीम का कहना है कि जांच के दौरान पता चला कि बंधु प्रकाश पाल गैरकानूनी तरीके से फिक्स्ड डिपॉजिट स्कीम चला रहा था. पुलिस को उसके घर से कई पासबुक भी मिले हैं. इन पासबुक्स से मालूम चला कि बंधु जो फिक्स्ड डिपॉजिट स्कीम चला रहा था, वो काफी हद तक चिटफंड जैसा ही था, लेकिन इनमें रकम कम होती थी. ज्यादातर आर्थिक रूप से कमजोर और गरीब लोग बंधु के जरिए अकाउंट खोलते थे.
आरोपी को पहले से जानता था परिवार


सीआईडी टीम को जांच के दौरान ये भी पता चला है कि बंधु पाल पहले शाहपुर गांव में आरोपी उत्पल बेहारा के घर के पास ही रहता था. हाल ही में उसने परिवार के साथ जिआगंज शिफ्ट किया था. ऐसा भी बताया जा रहा है कि शाहपुर में रहने के दौरान बंधु ने उत्पल को फिक्स्ड डिपॉजिट स्कीम में पैसा लगाने को भी कहा था.

Murder
सीआईडी टीम मामले की जांच कर रही है.


पुलिस और सीआईडी को दिए बयान में उत्पल बेहारा ने बताया कि नियम के मुताबिक, फिक्स्ड डिपॉजिट मेच्योर होने के बाद उसे 48 हजार रुपये मिलते. उसने बंधु प्रकाश पाल से अपने पैसे वापस मांगे थे, लेकिन बंधु ने पैसे देने से इनकार कर दिए थे.


पैसों के लिए किया मर्डर
पुलिस के मुताबिक, कई बार मांगने के बाद भी जब बंधु पैसे वापस नहीं कर रहा था, तो 5 अक्टूबर को उत्पल बंधु के जिआगंज स्थित घर गया. उत्पल का दावा है कि वहां बंधु ने उसके साथ मारपीट और बदसलूकी की और पैसे मांगने पर बुरा परिणाम भुगतने की धमकी भी दी थी.

पुलिस को दिए बयान में उत्पल ने कहा कि अपमानित होने के बाद वह गुस्से में था. 8 अक्टूबर को वह फिर बंधु के घर गया. दीवार फांदकर अंदर घुसा और बंधु, उसकी पत्नी ब्यूटी और बेटे की चाकू से गोदकर हत्या कर दी.


उत्पल ने पूछताछ के दौरान अपना गुनाह भी कबूल कर लिया है. आरोपी ने ये भी बताया कि बंधु के घर दाखिल होते वक्त पड़ोसी कृष्णा सरकार और रतन कुमार दास ने उसे देखा था. पुलिस इन दोनों से भी पूछताछ करेगी.

ये भी पढ़ेंः शूटिंग कंपीटिशन में हिस्सा लेने आया था 15 साल का किशोर, अब होटल के बाथरूम में मिली लाश

ये भी पढ़ेंः वॉट्सएप पर फैलाते थे चाइल्‍ड पोर्न, CBI ने 7 के खिलाफ दर्ज किया केस
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज