थर्मल स्क्रीनिंग, सोशल डिस्टेंसिंग और कुर्सियों पर मास्क-दस्ताने: कोरोना काल में काफी बदला-बदला दिखा स्वतंत्रता दिवस समारोह

थर्मल स्क्रीनिंग, सोशल डिस्टेंसिंग और कुर्सियों पर मास्क-दस्ताने: कोरोना काल में  काफी बदला-बदला दिखा स्वतंत्रता दिवस समारोह
इस साल स्वतंत्रता दिवस समारोह में दिखा कोरोना महामारी का असर.

Independence Day 2020: देश के 74वें स्वतंत्रता दिवस समारोह (74th Independence Day) में कोरेाना (Corona) महामारी का असर साफ दिखाई दिया. एक ओर जहां हर साल समारोह में रहने वाले भीड़ नदारद रही वहीं जो लोग उपस्थित थे उन्हें सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) को ध्यान में रखते हुए ही बैठाया गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 15, 2020, 11:44 AM IST
  • Share this:
Independence Day 2020: देश के 74वें स्वतंत्रता दिवस समारोह (74th Independence Day) के दौरान ऐतिहासिक लाल किले पर इस वर्ष कोविड-19 (COVID-19) महामारी की छाया साफ दिखाई दी. समारोह के दौरान एक ओर जहां सभी कुर्सियों पर मास्क, सैनिटाइजर और एक जोड़े दस्ताने युक्त एक किट रखी गई थी, वहीं कुर्सियों को भी इस तरह से लगाया गया था, जिससे सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) का पालन हो सके.

लाल किले पर आयोजित होने वाले स्वतंत्रता दिवस समारोह में हर साल काफी भीड़ रहती थी और अलग-अलग आयु वर्ग के लोग काफी उत्साह से इस कार्यक्रम में हिस्सा लेते थे, लेकिन इस साल कोविड-19 महामारी के कारण निर्धारित सुरक्षा मानकों को ध्यान में रखते हुए इसके आकार को घटा दिया गया.

समारोह में मुख्य प्रवेश द्वार पर सीमित संख्या में आमंत्रित अतिथियों की व्यक्तिगत सुरक्षा किट (पीपीई) पहने सुरक्षाकर्मियों द्वारा थर्मल स्कैनिंग की गई. वहीं, सुरक्षा द्वारों के पास हैंड्स फ्री सैनिटाइजर की व्यवस्था की गई थी. समारोह स्थल पर सभी घेरों में कुर्सियों को सावधानीपूर्वक दूरी बनाकर रखा गया था. प्रत्येक सीट पर एक किट रखी थी जिसमें मास्क, सैनिटाइजर, एक जोड़े दस्ताने थे. इसके अलावा कार्यक्रम की जानकारी का पर्चा भी रखा गया था. वीवीआईपी लोगों के बैठने के स्थान पर भी सामाजिक दूरी के मानकों का पालन किया गया था.



इसे भी पढ़ें :- पीएम मोदी ने लाल किले से चीन और पाकिस्तान को दी चेतावनी, 'आंख दिखाने वालों को देंगे करारा जवाब'
पीएम मोदी ने समारोह में बच्चों की कमी खली
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाल किले की प्राचीर से राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में कहा, प्रत्येक वर्ष भव्य समारोह में काफी संख्या में स्कूली बच्चे और ऊर्जावान युवा यहां होते थे लेकिन कोरोना वायरस के खतरे के कारण इस वर्ष वे यहां मौजूद नहीं हैं. आज हमारे बच्चे हमारे साथ यहां नहीं हैं. कोरोना वायरस महामारी ने हम सभी को रोक दिया है. बहरहाल, समारोह स्थल पर बैठने और पैदल चलने के स्थानों पर रंगीन दरियां बिछायी गई थीं और सामाजिक दूरी बनाण् रखने के संदेश युक्त पोस्टर भी लगाए गए थे, जिनमें ‘छह फीट की दूरी, मास्क पहनने’ जैसे संदेश लिखे हुए थे.

इसे भी पढ़ें :- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा- होम लोन की EMI पर मिल रही है 6 लाख रुपए तक की छूट

दिल्ली में 1.5 लाख के पार हुए कोरोना मरीज
अतिथि, सुरक्षा कर्मी, वीआईपी आदि सभी निर्धारित सुरक्षा मानकों के अनुरूप मास्क पहने हुए थे. कुछ अतिथि डिजाइनर मास्क पहने हुए थे. कोरोना वायरस महामारी के समय में यह स्थिति सामान्य रूप से देखी जा रही है. गौरतलब है कि दिल्ली कोरोना वायरस फैलने के मामले में देश के सबसे अधिक प्रभावित शहरों में शामिल रहा है. राष्ट्रीय राजधानी में कोविड-19 के कुल मामलों की संख्या 1.5 लाख को पार कर गई है जबकि इसके संक्रमण के कारण 4,178 लोगों की मौत हो चुकी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज