देश में कैसे बढ़ा कोरोना टीकाकरण? क्‍या तीसरी लहर के खिलाफ मजबूत होगी स्थिति? जानिए

देश में चल रहा है कोरोना टीकाकरण अभियान. (File Pic)

Coronavirus Vaccination: सोमवार को करीब 86 लाख कोरोना के टीके (Corona Vaccine) लगाए गए हैं. यह एक दिन में लगाए गए सर्वाधिक टीके हैं.

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. देश में 21 जून से कोरोना वैक्‍सीन के टीकाकरण का महाअभियान (Corona Vaccination) शुरू किया गया है. इसके तहत पहले दिन ही करीब 86 लाख कोरोना के टीके (Corona Vaccine) लगाए गए हैं. यह एक दिन में लगाए गए सर्वाधिक टीके हैं. लेकिन देश में इसकी स्थिरता बनी रहना और वैक्‍सीन निर्माता कंपनियों की संख्‍या अभी भी गंभीर मसला है. ऐसे ही कुछ सवालों के जवाब हम आपको यहां दे रहे हैं...

    [q]कैसे टीकाकरण की संख्‍या में बढ़ोतरी हुई?[/q]
    [ans]भारत में टीका नीति में बदलाव हुए हैं. पहले की वैक्‍सीन नीति में भारत में कुल उत्‍पादित कोरोना वैक्‍सीन का 50 फीसदी केंद्र सरकार के पास जा रही थीं. बची हुई 50 फीसदी वैक्‍सीन राज्‍यों और निजी अस्‍पतालों के कोटे में थीं. अब नई वैक्‍सीन नीति के तहत केंद्र सरकार 75 फीसदी वैक्‍सीन लेगी. वहीं राज्‍य सरकारें अपनी जरूरत की वैक्‍सीन केंद्र सरकार से मुफ्त में ले सकेंगी. पहले उन्‍हें उत्‍पादनकर्ताओं से सीधे बातचीत करनी होती थी. हालांकि बची हुई 25 फीसदी वैक्‍सीन निजी अस्‍पतालों के लिए खरीद के लिए रखी गई है.[/ans]

    [q]कैसे इसने अधिक टीकाकरण में मदद की?[/q]
    [ans]नई वैक्‍सीन नीति के तहत अब राज्‍य सरकार को केंद्र सरकार की ओर से आवंटित किए गए टीके की संख्‍या जनसंख्‍या, बीमारी के स्‍तर, टीकाकरण की प्रगति और टीकों की बर्बादी जैसे कारकों पर आधारित होगी. इस नई नीति के तहत राज्‍य सरकारों को सीधे उत्‍पादनकर्ताओं से अधिक दाम पर वैक्‍सीन की खरीद करने से छूट मिली है.[/ans]



    [q]क्‍या बढ़ा हुआ टीकाकरण स्‍थायी रहेगा? क्‍या बाजार में जल्‍द नई वैक्‍सीन आएंगी?[/q]
    [ans]केंद्र सरकार ने इस साल अगस्‍त से देश में रोजाना 1 करोड़ कोरोना वैक्‍सीन के डोज लगाने का लक्ष्‍य रखा है. इसके लिए सरकार ने कंपनियों को कोरोना वायरस वैक्‍सीन की 100 करोड़ डोज का ऑर्डर दिया है ताकि अगस्‍त से इनकी सप्‍लाई सुचारू हो सके. सरकार ने जुलाई-अगस्‍त में स्‍वदेशी कोरोना वैक्‍सीन कोवैक्‍सिन की 6 से 7 करोड़ डोज उत्‍पादित करने का लक्ष्‍य रखा है. यह अप्रैल में 1 करोड़ डोज का था. इसके साथ ही हैदराबाद की कंपनी बायोलॉजिकल ई की वैक्‍सीन के 30 करोड़ डोज का भी ऑर्डर दिया गया है. वहीं अहमदाबाद की कंपनी जाइडस कैडिला भी इस साल के अंत तक अपनी 5 करोड़ डोज उपलब्‍ध करा सकती है. पुणे की कंपनी जेनोवा फार्मास्‍युटिकल 6 करोड़ डोज उपलब्‍ध करा रही है.

    सीरम इंस्‍टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) भी इस साल कोविशील्‍ड के अलावा सितंबर के बाद कोवोवैक्‍स वैक्‍सीन का उत्‍पादन शुरू कर सकता है. सरकार अगले 5 महीने में कोविशील्‍ड की करीब 75 करोड़ डोज मिलने की संभावना जता रही है.[/ans]

    [q]क्‍या यह कोरोना की तीसरी लहर से लड़ने में मदद करेगा? इसके पीछे का गणित क्‍या है?[/q]
    [ans]पिछले महीने आईआईटी-दिल्ली ने राजधानी को सबसे खराब स्थिति के लिए तैयार रहने की चेतावनी दी थी. उसने चेताया था कि कोरोना की तीसरी लहर में करीब 9000 मरीजों को रोजाना अस्‍पताल में भर्ती कराने की जरूरत पड़ेगी. इसके साथ ही कोरोना संक्रमण के रोजाना करीब 45000 नए मामले सामने आ सकते हैं.

    माइक्रोबायोलॉजिस्‍ट और वाइयरोलॉजिस्‍ट गगनदीप कांग इस पर कहते हैं, 'जनसंख्या का वैक्सीन कवरेज एक महत्वपूर्ण मुद्दा है, लेकिन भारत में संख्या इतनी बड़ी है कि केवल 30-40 फीसदी आबादी को कवर किया जा सकता है जो वायरस को रोकने के लिए पर्याप्त नहीं हो सकता है. पहले यह सोचा गया था कि 60-70 फीसदी जनसंख्या कवरेज काम करेगा, लेकिन अब ऐसा लगता है 85-90 फीसदी आबादी को कवर करने की आवश्यकता है.'[/ans]

    [q]तीसरी लहर कब आ सकती है?[/q]
    [ans]दिल्‍ली स्थित एम्‍स के डायरेक्‍टर डॉ. रणदीप गुलेरिया ने शनिवार चेताया था कि अगर कोरोना नियमों का पालन ठीक से नहीं किया गया और अगर भीड़ पर नियंत्रण नहीं किया गया तो देश में कोरोना वायरस की तीसरी लहर छह से आठ हफ्ते में आ सकती है.

    समाचार एजेंसी रॉयटर्स ने 3 जून से लेकर 17 जून के बीच 40 स्‍वास्‍थ्‍य विशेषज्ञों और डॉक्‍टरों से यह जानने के लिए बात की थी कि आखिर भारत में कोरोना की तीसरी लहर कब आएगी. इस पर करीब 85 फीसदी विशेषज्ञों का कहना था कि भारत में तीसरी लहर अक्‍टूबर तक आ सकती है. 3 लोगों का कहना है कि यह लहर अगस्‍त के पहले आ सकती है. अन्‍य 12 लोगों का कहना है कि लहर सितंबर में आएगी. अन्‍य 3 विशेषज्ञों का कहना है कि तीसरी लहर नवंबर और फरवरी के बीच आएगी.[/ans]

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.