खुशबू के इस्तीफे ने फिर बताया, कांग्रेस में आम नेताओं की पहुंच से बाहर है गांधी परिवार

कांग्रेस प्रवक्ता रहीं खुश्बू सुंदर बीजेपी में शामिल हो गई हैं. (फाइल फोटो)
कांग्रेस प्रवक्ता रहीं खुश्बू सुंदर बीजेपी में शामिल हो गई हैं. (फाइल फोटो)

खुशबू सुंदर (Khushbu Sundar) ने पार्टी से इस्तीफा (resignation) देने के साथ ही कुछ आरोप भी लगाए हैं. उन्होंने इस्तीफे में सोनिया और राहुल गांधी को अवसरों के लिए धन्यवाद दिया है तो वहीं एक 'खास मंडली' के कारण पूरे अवसर न मिलने के आरोप भी लगाए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 12, 2020, 4:57 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कांग्रेस की प्रवक्ता और अदाकार खुशबू सुंदर (Khushbu Sundar) ने पार्टी से इस्तीफा (resignation) देने के साथ ही कुछ आरोप भी लगाए हैं. उन्होंने इस्तीफे में सोनिया और राहुल गांधी (Sonia and Rahul Gandhi) को अवसरों के लिए धन्यवाद दिया है तो वहीं एक 'खास मंडली' के कारण पूरे अवसर न मिलने के आरोप भी लगाए हैं. उन्होंने कहा कि पार्टी के भीतर ऊंचे पदों पर कुछ ऐसे लोग बैठे हैं जिनके पास ग्राउंड एक्सपिरियंस बिल्कुल न के बराबर है. ऐसे लोगों का जमीन से कनेक्शन बिल्कुल नहीं होता है और यही लोग उन्हें आदेश देते हैं जो गंभीरता से अपना काम कर रहे होते हैं.

ये किया ट्वीट
उन्होंने ट्वीट किया -बहुत सारे लोग मुझमें बदलाव देखते हैं. खैर जब आपकी उम्र बढ़ती है तो आप परिपक्व होते हैं, सीखते हैं, नजरिया बदलता है, पसंद और नापसंद भी, विचार नया स्वरूप लेते हैं, नए सपने होते हैं, आप लाइक और लव, राइट और रॉन्ग के बीच का अंतर समझते हैं. बदलाव अपरिहार्य है. शुभ संध्या.'

कई नेताओं ने ऐसे ही आरोप लगाकर छोड़ी कांग्रेस
हाल में कांग्रेस से अलग होने वाले लोगों को देखा जाए तो कुछ ऐसी ही शिकायतें दिखाई दी हैं. ज्योतिरादित्य सिंधिया, संजय झा, हिमंता बिस्वा सरमा और बिजेंदर सिंह. सभी ने इस 'खास मंडली' को लेकर शिकायत दर्ज कराई है. हालांकि ज्यादातर शिकायतें दरकिनार कर दी गईं. ऐसी शिकायत करने वालों को अवसरवादी भी कहा गया जो कहीं और जाने के लिए आरोप लगा रहे थे.



खास मंडली की मुश्किलें
हालांकि इस तरह की शिकायत भी की जाती है कि कांग्रेस में गांधी परिवार में अपॉइंटमेंट लेना भी कम मुश्किल काम नहीं है. इसी वजह से उन्हें उन लोगों से संपर्क साधना पड़ता है जो गांधी परिवार के दफ्तर में या फिर साथ में काम करते हैं. वो इतने सवाल पूछते हैं कि अपॉइंटमेंट लेना वाला समझ जाता है कि मिलने का समय नहीं मिलेगा.

क्या बोले थे हेमंत बिस्वा सरमा
इस वक्त उत्तर पूर्व की राजनीति में बीजेपी के ध्रुव कहे जाने वाले हिमंत बिस्व सरमा कभी कांग्रेस में थे. और उन्होंने कहा था कि वो राहुल गांधी से मिले तो वो अपने कुत्ते के साथ खेलने में व्यस्त थे. इसके बाद सब कुछ इतिहास है. इसी तरह की शिकायतें सिंधिया और संजय झा की तरफ से भी की गई थीं. अब खुशबू के इस्तीफे ने भी कुछ ऐसे ही सवाल एक बार फिर से खड़े कर दिए हैं.

(पल्लवी घोष की स्टोरी से इनपुट्स के साथ. पूरी स्टोरी यहां क्लिक कर पढ़ी जा सकती है.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज