Home /News /nation /

MSP को लेकर देश में कितने जागरूक हैं किसान? कौन ले पा रहा है इसका फायदा

MSP को लेकर देश में कितने जागरूक हैं किसान? कौन ले पा रहा है इसका फायदा

किसान संगठन न्यूनतम समर्थन मूल्य को लेकर अड़े हुए हैं.

किसान संगठन न्यूनतम समर्थन मूल्य को लेकर अड़े हुए हैं.

MSP Awareness in Farmers: प्रदर्शनरत किसान न्यूनतम समर्थन मूल्य यानी MSP को कानूनी रूप देने की मांग कर रहे हैं. दरअसल किसानों के लिए MSP एक सुरक्षा कवच की तरह काम करता है. बीते वर्षों के दौरान सरकारों ने अब तक 23 फसलों की MSP तय की है. हालांकि इसके बावजूद ज्यादातर खरीदारी गेहूं और धान की ही होती रही है. अब जबकि किसान संगठन MSP को लेकर गारंटी मांग रहे हैं तब ये जानना दिलचस्प है कि देश के किसान इसे लेकर कितने जागरूक हैं.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. देश की संसद ने सोमवार को तीनों कृषि कानून (New Farm Laws) को वापस लेने वाला बिल (Repeal Bill) पास कर दिया है. लेकिन इसके बावजूद अभी किसान संगठन अपना आंदोलन खत्म करने को तैयार नहीं हैं. प्रदर्शनरत किसान न्यूनतम समर्थन मूल्य यानी MSP को कानूनी रूप देने की मांग कर रहे हैं. दरअसल किसानों के लिए MSP एक सुरक्षा कवच की तरह काम करता है. बीते वर्षों के दौरान सरकारों ने अब तक 23 फसलों की MSP तय की है. हालांकि इसके बावजूद ज्यादातर खरीदारी गेहूं और धान की ही होती रही है. अब जबकि किसान संगठन MSP को लेकर गारंटी मांग रहे हैं तब ये जानना दिलचस्प है कि देश के किसान इसे लेकर कितने जागरूक हैं.

    टाइम्स ऑफ इंडिया के एक विश्लेषण के मुताबिक MSP को लेकर गन्ना और धान के किसान सबसे ज्यादा जागरूक हैं. विश्लेषण कहता है कि इन दोनों फसलों को हटा दें तो अन्य फसलों के किसानों को MSP के बारे में ज्यादा जानकारी ही नहीं है.

    रागी की फसल पैदा करने वाले कुल 4.3 प्रतिशत किसानों को ही MSP के बारे में जानकारी है. वहीं नारियल की खेती के करने वाले कुल 11 प्रतिशत किसानों को इसके बारे में जानकारी है. रिपोर्ट के मुताबिक ज्वार की खेती करने वाले कुल 14.3 प्रतिशत किसान ही MSP के बारे में जानते हैं. यानी इन तीनों ही फसलों की खेती करने वाले किसानों का बड़ा हिस्सा न्यूनतम समर्थन मूल्य की व्यवस्था से नावाकिफ है.

    ये भी पढ़ें: क्या है वो नियम 256 जिसके तहत राज्यसभा के 12 सांसद किए गए निलंबित

    खरीदारी और अन्य तकनीकी मसलों के बारे में जानकारी बेहद कम
    वहीं MSP के बारे में जानकारी रखने वाले किसानों में भी इसकी खरीदारी और अन्य तकनीकी मसलों के बारे में जानकारी बेहद कम है. रिपोर्ट के मुताबिक न्यूनतम समर्थन मूल्य का सबसे ज्यादा लाभ सिर्फ दो फसलों के किसानों तक पहुंच पा रहा है.

    इन फसलों पर MSP
    जिन फसलों पर पर सरकार द्वारा एमएसपी दी जाती है उनकी बात करें तो इनकी संख्या कुल 23 है. जिसमें 7 अनाज ( धान, गेंहू, मक्का, बाजरा, ज्वार और रागी), 5 दलहन (चना, अरहर, मूंग, उड़द और मसूर), 7 तिलहन (सरसों, मूंगफली, सोयाबीन, सनफ्लॉवर, कुसुम, तिलस नाइजरसीड) और 4 व्यवसायिक फसल (गन्ना, कपास, कोपरा और कच्चा जूट) शामिल हैं.

    भारत के अधिकांश क्षेत्रों में उगाई जाने वाली फसलों के लिए किसानों को जो दाम मिलते हैं, वह आमतौर पर घोषित एमएसपी से काफी कम होते हैं. चूंकि एमएसपी को लेकर कोई वैधानिक प्रावधान नहीं है इसलिए किसान इसे अधिकार के तौर पर नहीं मांग सकते हैं. अब किसान यूनियनों की मांग है कि मोदी सरकार वांछित या सांकेतिक मूल्य के बजाए एमएसपी को लेकर अनिवार्य दर्जा देने वाला कानून बनाए.

    Tags: MSP Law Demand, Narendra Modi Government, New Farm Laws, Rakesh Tikait

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर